चीनी पटाखों की बिक्री-खरीद पर रोक, पकड़े जाने पर जाना पड़ेगा जेल

FirstIndia Correspondent Published Date 2016/10/06 13:58

कलेक्टर पी.नरहरि ने सभी एसडीएम और नगर पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए हैं कि इंदौर जिले की सीमा में कहीं भी विदेशों से आयातित किये गये पटाखों के विक्रय एवं भण्डारण नहीं होना चाहिये। इसके लिए पटाखों सभी पटाखा विक्रेताओं के यहां जांच करें और यह सुनिश्चित करें कि विदेशों से आयातित पटाखे कहीं भी भण्डारित या विक्रय नहीं किए जाएं। यदि कहीं पटाखा विक्रेता के यहां विदेशी पटाखे का भण्डारण या विक्रय पाया जाता है तो उनके विरूद्ध विस्फोटक अधिनियम 2008 के नियम 127 व 128 के तहत कार्रवाई की जाए।

 

कलेक्टर ने यह आदेश उप मुख्य विफोटक नियंत्रक भोपाल के पत्र के संदर्भ में जारी किया है। पत्र में सभी डिस्ट्रिक मजिस्ट्रेट और पुलिस सुपरिन्टेंड को पत्र लिखकर बताया गया था कि भारत सरकार के निर्देशानुसार पटाखों के निर्माण एवं पटाखों के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं जो भारत में निर्मित होने वाले पटाखों के निर्माता पर लागू होते हैं और उसके लिये निर्माता को नियमानुसार लायसेंस जारी किया जाता है। विदेशों से आयातित पटाखों में किस प्रकार के रसायन को उपयोग किया गया। साथ ही विस्फोट के समय आवाज का पैमाना क्या है? नहीं पता होता है और इन फटाकों को बच्चे परिवार के साथ दीपावली व अन्य त्योहार पर चलाते हैं ।

 

सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार भी उनका पालन करना अनिवार्य होता है ।विदेशों से आयातित फटाखे गैर-कानूनी तरीके से लाये जाते हैं और वो सब भारतीय नियम-कानून के मानक अनुसार नहीं होते हैं। इसके कारण जिला कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षकों को विस्फोटक अधिनियम 2008 के अंतर्गत कार्रवाई करने हेतु पत्र लिखा गया था। कलेक्टर ने पत्र के पालन में आदेश जारी किये हैं।

 


Chinese, Firecracke, Sale, Purchase, Jail, Indore, Indian market

  
First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in