चूरू जिला प्रमुख को कोर्ट से बड़ी राहत, फर्जी मार्कशीट से चुनाव लड़ने का था आरोप

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/05/31 11:01

चूरू: जिला प्रमुख हरलाल सारण को राजस्थान हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है. फर्जी डिग्री मामले में आज जिला प्रमुख हरलाल सहारण को कोर्ट से जमानत मिल गई है. दरअसल, सहारण पर फर्जी मार्कशीट से चुनाव लड़ने का आरोप था. सहारण की गत दिनों गिरफ्तारी हुई थी. बतादें, चूरु जिला प्रमुख के फर्जी मार्कशीट मामले में जस्टिस विजय विश्नोई ने फैसला सुनाया है. 

मामले में राजेन्द्र राठौड़ ने किया था प्रदर्शन
जिला प्रमुख सारण गिरफ्तारी की भाजपा ने भर्त्सना की. विधानसभा में प्रतिपक्ष के उप नेता राजेंद्र राठौड़ ने गिरफ्तारी की निंदा करते हुए कहा कि उक्त मामले में राज्य सरकार के पंचायतीराज द्वारा प्रकरण की जांच चल रही है और हाईकोर्ट में मुकदमा भी चल रहा है. प्रकरण की पुलिस जांच अन्यत्र निष्पक्ष अधिकारी से करवाने का प्रशासन से बार-बार आग्रह किया गया, जिस पर पुलिस ने कोई संज्ञान नहीं लिया.

मामले में  आज नागवाणों के नोहरे से कलेक्ट्रेट तक रैली निकालकर प्रदर्शन किया गया. मामले में सांसद राहुल कस्वा, पूर्व सांसद रामसिंह कस्वा, विधायक अभिनेष महर्षि, पूर्व विधायक अशोक पींचा, खेमाराम मेघवाल व जयनारायण पूनिया सहित वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने सहारण की गिरफ्तारी की निंदा की थी. 

जिला प्रमुख हरलाल सहारण पर दसवीं की फर्जी टीसी के आधार पर चुनाव लड़ने का आरोप 
परिवादी चिमनाराम कालेर ने जिला प्रमुख हरलाल सहारण पर दसवीं की फर्जी टीसी के आधार पर चुनाव लड़ने का आरोप लगाते हुए कोर्ट में इस्तगासा दायर किया था. कोर्ट ने कोतवाली को 25 जनवरी 2019 को एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए थे. जांच के दौरान पुलिस ने नामांकन के दौरान पेश की गई दसवीं की टीसी को फर्जी माना. पुलिस जांच में जुटी हुई थी कि इसी बीच जिला प्रमुख ने अपने वकील के जरिये कोर्ट में प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत कर आरोप लगाया कि कोर्ट में दिया गया इस्तगासा गलत है.

उनका कहना है कि परिवादी चिमनाराम को इस्तगासा पेश करने का कोई अधिकार नहीं है. इस्तगासे में लगाई गई आईपीसी की धारा 467 गलत लगाई गई है, वो लगती नहीं है. ये केवल जिला प्रमुख को गिरफ्तार करने के लिए ही लगाई गई है. उन्होंने कोर्ट की निगरानी में जांच करने की अपील की थी. सीजेएम ने शनिवार को सुनवाई करते हुए प्रार्थना-पत्र के तथ्यों को नकारते व आधारहीन मानते हुए खारिज कर दिया था. इसके बाद पुलिस फिर सक्रिय हुई और सहारण को जयपुर के जालुपुरा क्षेत्र से हिरासत में ले लिया. 

राकेश भारद्वाज की रिपोर्ट जोधपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in