Live News »

CAA पर प्रदर्शनों के बीच CJI का बड़ा बयान, कहा- विश्वविद्यालय किसी प्रोडक्शन यूनिट की तरह काम नहीं कर सकते
CAA पर प्रदर्शनों के बीच CJI का बड़ा बयान, कहा- विश्वविद्यालय किसी प्रोडक्शन यूनिट की तरह काम नहीं कर सकते

नागपुर: नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के मुद्दे पर देशभर के विश्वविद्यालयों में छात्रों के हो रहे प्रदर्शनों के बीच चीफ जस्टिस एसए बोबडे की बड़ी टिप्पणी सामने आई है. उन्होंने कहा है कि विश्वविद्यालय किसी प्रोडक्शन यूनिट की तरह काम नहीं कर सकते. 

विश्वविद्यालय केवल ईंट और मोर्टार के बारे में नहीं: 
जस्टिस बोबडे ने कहा कि विश्वविद्यालय केवल ईंट और मोर्टार के बारे में नहीं हैं और विश्वविद्यालयों को असेंबली लाइन प्रोडक्शन यूनिट की तरह काम नहीं करना चाहिए. सीजेआई ने यह बात नागपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में कही. उन्होंने आगे कहा कि यूनिवर्सिटी का विचार दिखाता है कि हम एक समाज के रूप में क्या पाना चाहते हैं. 

सीजेआई ने अपने बयान में सीएए का जिक्र नहीं किया:
बता दें कि चीफ जस्टिस बोबडे का बयान इसलिए भी अहम है, क्योंकि जामिया से लेकर जेएनयू तक बीते कुछ समय से नागरिकता संशोधन कानून को लेकर फीस वृद्धि के मसले पर आंदोलन देखने को मिला थे. हालांकि सीजेआई ने अपने बयान में सीएए का जिक्र नहीं किया है. 
 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in