नाराज अखिलेश की ओर कांग्रेस ने बढ़ाया दोस्ती का हाथ, कहा - बात करके सुलझाएंगे नेतृत्व का मुद्दा

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/27 02:10

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और आरएलडी के होने वाले महागठबंधन में कांग्रेस को दरकिनार किए जाने के संकेत मिलने के बाद यूपी की राजनीति में सियासी पारा परवान चढ़ने लग गया है। साथ ही मध्य प्रदेश के नए मंत्रिमंडल में एसपी-बीएसपी को दरकिनार करने वाली कांग्रेस बैकफुट पर नजर आने लगी है। अब यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर ने अखिलेश की तरफ नई दोस्ती बढ़ाने का संकेत भी दे दिया है। उनका कहना है कि पार्टियों के नेतृत्व आपस में बात करके मामले को सुलझा लेंगे।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाने के संकेत दिये हैं। बब्बर का कहना है कि नाराजगी कभी बेगानों से नहीं होती है। दोनों पार्टियों का नेतृत्व बात करके चीजों को सुलझा लिया जाएगा। जनता चाहती है कि हम सब लोग मिलकर चुनाव लड़ें। बता दें कि इससे पहले बुधवार को अखिलेश यादव ने मध्य प्रदेश के नए मंत्रिमंडल में एसपी विधायक को जगह नहीं दिए जाने को लेकर नाराजगी जाहिर की थी और कांग्रेस पर तंज कसते हुए संभावित तीसरे मोर्चे का रुख करने का इशारा दिया था।

अखिलेश ने कहा था कि हम कांग्रेसियों को भी धन्‍यवाद देते हैं, जिन्‍होंने मध्‍य प्रदेश में हमारे विधायक को मंत्री नहीं बनाया। हम उनका और भारतीय जनता पार्टी का धन्‍यवाद देते हैं। कम से कम उन्‍होंने समाजवादियों का रास्‍ता साफ कर दिया। अखिलेश यादव के इस बयान के बाद माना जा रहा है कि वह कांग्रेस और बीजेपी से इतर एक तीसरे मोर्चे के साथ लोकसभा चुनाव में जा सकते हैं, जिसके लिए चंद्रशेखर राव प्रयासरत हैं।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in