पुणे Corona Vaccine: 'कोविशिल्ड' टीकों की पहली खेप ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ से रवाना, हवाई मार्ग के देशभर में पहुंचाई जाएगी

Corona Vaccine: 'कोविशिल्ड' टीकों की पहली खेप ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ से रवाना, हवाई मार्ग के देशभर में पहुंचाई जाएगी

Corona Vaccine:  'कोविशिल्ड' टीकों की पहली खेप ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ से रवाना, हवाई मार्ग के देशभर में पहुंचाई जाएगी

पुणे: देश में कोरोना वायरस के खिलाफ निर्णायक लड़ाई का आरंभ करते हुए 16 जरवरी को टीकाकरण मुहिम की शुरुआत के मद्देनजर ‘कोविशील्ड’ टीकों की पहली खेप मंगलवार तड़के ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ से रवाना हुई. 

टीकों को हवाई मार्ग के जरिए भारत के अन्य हिस्सों में पहुंचाया जाएगा: 
टीकों को ले जाने के काम से जुड़े एक सूत्र ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि तापमान नियंत्रित तीन ट्रक इन टीकों को लेकर तड़के पांच बजे से कुछ समय पहले पुणे हवाई अड्डे जाने के लिए ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ से रवाना हुए. पुणे हवाईअड्डे से इन टीकों को हवाई मार्ग के जरिए भारत के अन्य हिस्सों में पहुंचाया जाएगा. टीकों को इंस्टीट्यूट से रवाना करने से पहले एक पूजा भी की गई थी.

पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी: 
दवा को प्रोडक्शन प्लांट से एयरपोर्ट तक जिन गाड़ियों में ले जाया जा रहा है. वो भी बेहद खास हैं. इन गाड़ियों में -25 से 25 डिग्री तक तापमान मैनेज रहता है. दवा की सुरक्षा के लिहाज से पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है. दवा लेकर जाने वाली गाड़ियों की भी GPS से चौबीसों घंटे निगरानी की जाएगी. दूसरे राज्यों से भी कॉर्डिनेट कर रहे हैं और वह सेंट्रल सेल से निगरानी रखेंगे.

पहले चरण में फ्रंटलाइन कर्मचारियों को प्राथमिकता दी जाएगी:
बता दें कि पहले चरण में फ्रंटलाइन कर्मचारियों को प्राथमिकता दी जाएगी. इसमें हेल्थ वर्कर्स, सफाई कर्मचारी और सैन्य बलों से जुड़े लोगों को टीका लगाया जाएगा. पहले चरण में लगभग तीन करोड़ नागरिक शामिल होंगे. दूसरे चरण में 50 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति और दूसरी बीमारियों से पीड़ित लोगों को टीका लगाया जाएगा. दूसरे चरण में टीका लगवाने वालों की संख्या लगभग 27 करोड़ होगी. 

और पढ़ें