IIT दिल्ली ने किया दावा, अश्वगंधा कोरोना वायरस के इलाज में कर सकता है मदद

IIT दिल्ली ने किया दावा, अश्वगंधा कोरोना वायरस के इलाज में कर सकता है मदद

IIT दिल्ली ने किया दावा, अश्वगंधा कोरोना वायरस के इलाज में कर सकता है मदद

नई दिल्ली: पूरी दुनिया में इस समय लाखों लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हैं, जिनमें से कई अपनी जान गंवा चुके हैं. अमेरिका से लेकर यूरोप तक हर देश कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन या फिर दवा के रिसर्च में लगा है. इस बीच एक रिसर्च में सामने आया है कि अश्वगंधा में पाए जाने वाले एक तत्व की मदद से इस बीमारी की दवा बनाने में मदद मिल सकती है.

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को WHO एग्जीक्यूटिव बोर्ड के चेयरमैन की मिली बड़ी जिम्मेदारी 

अश्वगंधा में पाया जाने वाला विथानन कोरोना की दवा बनाने में मददगार संभव:
IIT दिल्ली और जापान में नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ एडवांस्ड इंडस्ट्रियल साइंस एंड टेक्नोलॉजी की रिसर्च के मुताबिक अश्वगंधा में पाया जाने वाला विथानन कोरोना की दवा बनाने में मददगार हो सकता है. रिसर्च के अनुसार अश्वगंधा और प्रोपोलिस में ऐसे प्राकृतिक तत्व हैं जिनसे कोरोना वायरस से बचाव संभव है. प्रोपोलिस, एक हनी बी प्रोडक्ट है, जिसमें आपके शरीर को क्षति से बचाने और बीमारी से लड़ने के लिए एंटीऑक्सिडेंट्स मौजूद हैं.

फिलहाल ये स्टडी समीक्षाधीन: 
रिसर्च टीम का कहना है कि इस शोध में जो कंपाउंड हमें मिले हैं वह दोनों ही मानव शरीर में वायरस के रेप्लिकेशन के लिए जिम्मेदार सॉर्स-सीओवी-2 के मुख्य एंजाइम मैन प्रोटिएज को खत्म करने की क्षमता रखते हैं. फिलहाल ये स्टडी समीक्षाधीन है और निकट भविष्य में प्रकाशित होने की उम्मीद है.

22 मई को है वट सावित्री व्रत, जानें क्या है महत्व 

दवा बनाने में होगी देरी:
रिसर्च टीम का मानना है कि दवा बनाने के लिए इन तत्वों का लैब में प्राथमिकता के आधार पर टेस्ट और ट्रायल होना चाहिए, ताकि महामारी को रोकने के लिए वैक्सीन बनाने के लिए जारी प्रयासों में और देरी न हो. रिसर्च टीम के अनुसार दवा को बनाने में काफी वक्त लग सकता है और ऐसे में मौजूदा हालात में ये प्राकृतिक तत्व कुछ हद तक इसे रोकने या थैरेपी के तौर पर प्रयोग में लाए जा सकते हैं. 

और पढ़ें