अमेरिका की कंपनी का दावा, कोरोना वायरस की दवा का मनुष्यों पर टेस्टिंग हुई शुरू

अमेरिका की कंपनी का दावा, कोरोना वायरस की दवा का मनुष्यों पर टेस्टिंग हुई शुरू

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के कहर के चलते दुनियाभर के शोधकर्ता और वैज्ञानिक इस बीमीरी की दवा बनाने में जुटे हुए हैं. इसी बीच अमेरिका की एक बायोटेक्नोलॉजी कंपनी ने ऑस्ट्रेलिया में कोरोना वायरस संक्रमण की दवा का मनुष्यों में परीक्षण शुरू करने की घोषणा की. इतना ही नहीं इस महामारी की इसी वर्ष दवा आने की उम्मीद भी जताई है.

भारत में कोरोना वायरस को लेकर अमेरिकी प्रोफेसर का बड़ा अनुमान, जुलाई में होंगे करीब 5 लाख मामले 

दवा और टीकों का साथ-साथ कर रहे निर्माण:
बायोटेक्नोलॉजी कंपनी 'नोवावैक्स' के प्रमुख शोधकर्ता डॉ. ग्रिगोरी ग्लेन के अनुसार कंपनी ने पहले चरण का परीक्षण शुरू कर दिया है जिसमें मेलबर्न और ब्रिस्बेल शहरों के 131 स्वयंसेवियों पर दवा का परीक्षण किया जाएगा. उन्होंने बताया कि हम दवा और टीकों का साथ-साथ यह सोच कर निर्माण कर रहे हैं कि हम दिखा पाएंगे कि यह कारगर है और वर्ष के अंत तक इसे लोगों के लिए उपलब्ध करा सकेंगे. 

राजस्थान में पान, गुटखा और तम्बाकू बिक्री की अनुमति मिली, किया गया यह संशोधन 

दर्जनभर प्रायोगिक दवाएं परीक्षण के प्रारंभिक चरण में:
आपको बता दें कि चीन, अमेरिका और यूरोप में करीब दर्जनभर प्रायोगिक दवाएं परीक्षण के प्रारंभिक चरण में हैं या उनका परीक्षण शुरू होने वाला है. हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि इनमें से कोई भी दवा सुरक्षित और कारगर साबित होगी भी या नहीं, लेकिन कई दवाएं अलग-अलग तरीकों से बनाई गई हैं. ऐसे में इससे इस बात की उम्मीद बढ़ गई है कि इनमें से कोई दवा सफल हो सकती हैं. 
 

और पढ़ें