Live News »

कोरोना के खिलाफ जंग में उतरी देश की न्यायपालिका भी, आर्थिक सहायता के साथ बांट रहे खाना

कोरोना के खिलाफ जंग में उतरी देश की न्यायपालिका भी, आर्थिक सहायता के साथ बांट रहे खाना

जयपुर: देश और प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है. इसको देखते हुए जहां केन्द्र और राज्य सरकारे अपने प्रयास कर रही है वही अब न्यायपालिका भी कोरोना की जंग में शामिल हो गयी है. मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति के निर्देश पर राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के नेतृत्व में जज खुद भी सड़कों पर आकर लोगों की मदद कर रहे हैं. रालसा के एक्जीक्यूटीव चैयरेन जस्टिस संगीत लोढा खुद प्रदेशभर में किय जा रहे प्रयासों की डेटूडे मॉनिटरिंग कर रहे हैं.

मेरठ में एक ही परिवार के 13 लोग कोरोना पॉजिटिव, 35 लोगों की रिपोर्ट अभी आना बाकी 

अलग अलग जिलों में खाना वितरण किया जा रहा: 
गुजरात और मध्यप्रदेश से राजस्थान होकर बिहार यूपी जाने वाले प्रवासी मजदूरों को उदयपुर से लेकर प्रदेश के अलग अलग जिलों में खाना वितरण किया जा रहा है. वहीं कई शहरों में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण मजदूरो की मदद कर रहे हैं. उदयपुर जिला प्राधिकरण ने भी पिछले तीन दिनो में हजारो मजदूरों को राहत पहुंचायी है. इसके साथ ही प्रदेश की जेलों से लेकर वृद्धाश्रम, बाल सुधारगृहो, नारी निकेतन में मौजुद बच्चों और महिलाओं को भी सहायता पहुंचा रहा है. 

वकील राकेश द्विवेदी ने एक करोड़ की राशि की सहायता दी: 
वहीं सुप्रीम कोर्ट—हाईकोर्ट के सभी गैजेटेड अधिकारी अपनी तीन दिन की तनख्वाह देंगे. इसके साथ नॉन-गैजेटेड अधिकारी दो दिन की तनख्वाह प्रधानमंत्री राहत कोष में देंगे. वहीं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अपनी एक दिन की तनख्वाह पीएम फंड में देंगे. सुप्रीम कोर्ट जस्टिस एन वी रमन्ना ने भी तीन लाख की राशि पीएम फंड में दी है. वहीं सुप्रीम कोर्ट के ही वकील राकेश द्विवेदी ने एक करोड़ की राशि की सहायता दी है. इसके अलावा जस्टिस एस रविन्द्र भट्ट खुद प्रवासी मजदूरों के लिए खाने का वितरण वितरण कर रहे हैं. 

VIDEO: राजस्थान में कोरोना की बढ़ती जा रही दस्तक, रामगंज में दो और पॉजिटिव मिलने की सूचना 

दिल्ली हाईकोर्ट के सभी जज प्रधानमंत्री फंड में 10—10 हजार की राशि दे रहे:
इसके साथ ही दिल्ली हाईकोर्ट के सभी जज प्रधानमंत्री फंड में 10—10 हजार की राशि दे रहे हैं. वहीं राजस्थान के 1300 न्यायिक अधिकारियों ने भी अपना 5 दिन का वेतन दिया है. इसके अलावा महाधिवक्ता से लेकर सभी अतिरिक्त महाधिवक्ताओ ने एक माह की रिटेनरशीप दी है. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक हाईकोर्ट में तलब, 8 माह पूर्व पकड़े गये एक ट्रक से जुड़ा पूरा मामला

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक हाईकोर्ट में तलब, 8 माह पूर्व पकड़े गये एक ट्रक से जुड़ा पूरा मामला

जयपुर: सभी वैध दस्तावेजों के साथ लकड़ियों का परिवहन कर रहे एक दस पहिया ट्रक को सीज करने के मामले में हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद चिड़ावा रैंजर कोर्ट में पेश नहीं हुए. यही नहीं 27 जून 2019 को सीज किये गये ट्रक को 11 माह बाद भी रिहा नही करने पर कोर्ट ने राज्य के प्रधान मुख्य वन सरंक्षक को तलब किया है. राजकीय अधिवकता एन एस गुर्जर को अदालत ने आदेश दिये है कि वो प्रधान मुख्य वन सरंक्षक को 8 जून को कोर्ट में पेश करे.

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव 

यह आदेश जस्टिस प्रकाश गुप्ता की एकलपीठ ने ट्रक मालिक रनवीर की ओर से दायर याचिका पर दिये है. एडवोकेट पुष्पेन्द्र पाण्डे ने अदालत को बताया कि जिस वक्त ट्रक को सीज किया गया उस समय ट्रक ड्राइ्रवर के पास ट्रक में लोडेड 15 टन लकडियों के खरीद बिल, बिल्टी, ईवे बिल, कार्गो मूवर्स का बिल के साथ वाहन के सभी वैध दस्तावेज मौजुद थे. इसके बावजूद ट्रक को सीज किया गया जिसे 11 माह बाद भी रिलीज नही किया गया है.

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत

अदालत ने पूर्व सुनवाई के दौरान चिड़ावा रैंजर मोहरसिंह को कोर्ट में पेश होने के आदेश दिये थे. जिस पर राजकीय अधिवक्ता ने अदालत केा बताया कि उन्हे सूचित किया गया था लेकिन वे समय पर नही पहुंच पाये हैं. बहस सुनने के बाद अदालत ने मामले को गंभीरता से लेते हुए राज्य के प्रधान मुख्य वन सरंक्षक को कोर्ट में पेश होकर जवाब देने के आदेश दिये है. 

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव

जयपुर: सचिवालय में आज हर भवन का सेनेटाइजेशन किया गया. इसके लिए आज सुबह से ही नगर निगम की दमकल गाड़ियां बुलाकर सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव कराया गया. साथ ही कक्षों को भी सैनिटाइज्ड किया गया. कल चतुर्थ श्रेणी कर्मी की कोरोना पॉजिटिव मां की मौत व वार रूम के 1 अधिकारी के कोरोना पॉजिटिव होने का पता चलने के बाद कर्मचारियों का डर दूर करने के लिए यह सुरक्षात्मक एहतियाती कदम उठाया गया है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 49 पॉजिटिव मामले आए सामने, सर्वाधिक 8-8 केस कोटा-उदयपुर और चूरू में आए सामने  

भवनों में सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव कराया गया: 
सुरक्षा अधिकारी प्रदीप गोयल पंजीयक प्रेम नारायण सेन और नोडल अधिकारी शंकर शर्मा की पहल पर आज नगर निगम से गाड़ियां मंगा कर सचिवालय के भवनों में सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव कराया गया. साथ ही कक्षों को सैनिटाइज्ड किया गया. दरअसल कल एस एस ओ भवन में काम कर रहे चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की मां की मौत हो गई थी. बाद में जांच रिपोर्ट में मृतका के कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला.  इसके बाद एस एस भवन की दूसरी मंजिल को पूरा सील कर दिया गया और सिंचित  क्षेत्र विकास के 17 कर्मचारियों को होम क्वॉरेंटाइन कर दिया गया था. वहीं वार रूम में भी एक अधिकारी के कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला है. 

सचिवालय कर्मचारियों में भय का माहौल: 
इससे पूर्व सचिवालय के कोरोना पॉजिटिव एक कर्मचारी की मौत हो गई थी. इस सबके बीच सचिवालय कर्मचारियों में भय का माहौल है. यही डर समाप्त करने और विश्वास कायम करने के लिए पूरे सचिवालय में आज सेनेटाइजेशन कराया गया. इससे पहले भी तीन बार सचिवालय में सेनेटाइजेशन कराया गया था. यह घटनाएं सामने आने के बाद कई आईएएस अधिकारी भी सकते में हैं.

 मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत 

अधिकारी और कर्मचारी लगातार सुरक्षा उपकरणों की मांग कर रहे:
उधर सचिवालय में काम करने वाले अधिकारी और कर्मचारी लगातार सुरक्षा उपकरणों की मांग कर रहे हैं. कल भी अधिकारी संघ अध्यक्ष मेघराज पवार ने स्वागत कक्ष में  थर्मल स्केनर और सेनेटाइजर की व्यवस्था करने की मांग की. इसके साथ ही सचिवालय कर्मचारियों को N95 मास्क और अन्य सामग्री उपलब्ध कराने की मांग की गई. उधर कल सील की गई एस एस ओ भवन की दूसरी मंजिल में स्थित  5 विभागों पर्यटन, स्टेट इंश्योरेंस, ARD, सिंचाई विभाग के दफ्तरों में कामकाज प्रभावित हुआ है. वहीं कल जिन चतुर्थ श्रेणी कर्मी की मां की मौत हुई उस कर्मी और परिवार के सारे सदस्यों की आज सैंपलिंग की गई है. 

...ऋतुराज शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज़ जयपुर

जैसलमेर जिले में टल रहा कोरोना का खतरा, एक ही दिन में 9 कोरोना मरीज हुए ठीक

जैसलमेर जिले में टल रहा कोरोना का खतरा, एक ही दिन में 9 कोरोना मरीज हुए ठीक

जैसलमेर: जिले के लिए अब कोरोना का खतरा टल रहा है. जहां कुछ दिन पूर्व प्रवासियों के चलते कोरोना मरीजों के आने का सिलसिला शुरू हुआ था वहीं कुछ ही दिनों में यह थमता भी नजर आ रहा है. जैसलमेर के लिए राहत की खबर यह है कि यहां आने वाले प्रवासियों की संख्या ज्यादा नहीं है. जबकि दूसरे शहरों में यह आंकड़ा बहुत ज्यादा है. एक तरफ जालोर, सिरोही, पाली, सीकर, डूंगरपुर, राजसमंद सहित कई जिलों में 100 से भी अधिक प्रवासी पॉजिटिव आ चुके हैं वहीं जैसलमेर में 35 प्रवासी ही अब तक पॉजिटिव आए हैं. जिले में चार दिन राहत के बाद पांचवें दिन एक बार फिर चार प्रवासी पॉजिटिव सामने आए. ये खुहड़ी गांव के हैं और यहां एक पॉजिटिव पहले आ चुका है. उसी के साथ ही बाहर से आए थे. वहीं जिले भर में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 72 पहुंच चुका है. वहीं दूसरी तरफ राहत की खबर यह आई कि 9 कोरोना पीड़ित ठीक होकर घर लौटे.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 49 पॉजिटिव मामले आए सामने, सर्वाधिक 8-8 केस कोटा-उदयपुर और चूरू में आए सामने  

जिले में प्रवासियों के आने का सिलसिला 1 मई से शुरू हुआ था: 
जिले में प्रवासियों के आने का सिलसिला 1 मई से शुरू हुआ था. शुरुआती 10 दिनों में ही 2 हजार से अधिक प्रवासी आ गए थे वहीं आगामी कुछ दिनों में 80 प्रतिशत प्रवासी आ गए. इसके बाद धीरे धीरे उनके आने का सिलसिला चलता रहा. अब तक 7500 प्रवासी जैसलमेर आ चुके हैं. इनमें अधिकांश को यहां आए 14 से 15 दिन बीत चुके हैं. पिछले सप्ताह में आए प्रवासियों की सैंपलिंग में ही कुछ पॉजिटिव केस आ सकते हैं. 2500 से अधिक प्रवासियों के सैंपल लिए जा चुके हैं जिले में अब तक 7 हजार 500 प्रवासी आए हैं और शुरुआत में केवल 10 प्रतिशत की सैंपलिंग रैंडमली करने की योजना थी, लेकिन पॉजिटिव केस आने से सैंपलिंग बढ़ा दी गई और 2500 से ज्यादा प्रवासियों के सैंपल लिए जा चुके हैं. अब प्रवासियों में कुछ लोग ही बचे हैं जिनकी सैंपलिंग करना शेष है. अधिक से अधिक सैंपल लिए जाने की वजह से ही जैसलमेर अब सुरक्षित नजर आने लगा है.

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत 

जैसलमेर में अब तक 72 कोरोना मरीज सामने आए: 
गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से कोरोना मरीजों का जैसलमेर में ही इलाज शुरू हो गया है. इससे पहले इन्हें जोधपुर भेजा जाता था. लेकिन अब माहेश्वरी अस्पताल में ही कोविड केयर सेंटर स्थापित कर दिया. यहां अब तक 18 मरीज भर्ती हुए थे. जिसमें गुरुवार की रात 9 मरीज डिस्चार्ज हो गए. इनमें सिपला व कन्नोई के 3-3, मोहनगढ़ के 2 और रामा का एक मरीज शामिल है. शुक्रवार को आए चार मरीजों सहित अब माहेश्वरी अस्पताल में 13 मरीज भर्ती है. जैसलमेर में अब तक 72 कोरोना मरीज सामने आए हैं. पोकरण से 35 मरीज आए थे और उसके बाद प्रवासियों के आने का सिलसिला शुरू हुआ. ग्रामीण क्षेत्रों से 37 कोरोना पॉजिटिव मिले. अब तक आए 72 मरीजों में से 53 ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं. जैसलमेर के लिए राहत की बात यह है कि यहां जितने भी मरीज सामने आए वे सभी असिमटोमेटिक है. इन्हें कोरोना की वजह से कोई तकलीफ नहीं थी. पॉजिटिव आने पर उन्हें भर्ती कर दिया. उम्मीद जताई जा रही है कि अब शेष मरीज भी जल्द ही ठीक होकर घर लौटेंगे. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 49 पॉजिटिव मामले आए सामने, सर्वाधिक 8-8 केस कोटा-उदयपुर और चूरू में आए सामने

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 49 पॉजिटिव मामले आए सामने, सर्वाधिक 8-8 केस कोटा-उदयपुर और चूरू में आए सामने

जयपुर: राजस्थान में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है. पिछले 12 घंटे में प्रदेश में 49 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. इसमें सर्वाधिक 8-8 केस कोटा-उदयपुर और चूरू में सामने आए. इसके अलावा बारां में एक, बाड़मेर में चार, भरतपुर में दो, भीलवाड़ा में तीन, धौलपुर में तीन, गंगानगर-हनुमानगढ़ में एक-एक केस, जयपुर में 2, झालावाड़ में 3, झुंझुझूं में 2 और करौली में 3 केस सामने आए हैं. ऐसे में प्रदेश में अब पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ बढ़कर 8414 पहुंच गया है. 

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25 लाख रुपए स्वीकृत 

राजस्थान में 2939 कोरोना के एक्टिव केस:  
वहीं पिछले 12 घंटे में जयपुर में एक कोरोना संक्रमित मरीज ने दम भी तोड़ा है. ऐसे में राजस्थान में अब कोरोना से मरने वालों की संख्या भी बढ़कर 185 पहुंच गई है. हालांकि राहतभरी खबर यह है कि अब तक 5290 केस पॉजिटिव से नेगेटिव भी हुए हैं. इनमें से 4585 को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. ऐसे में अब राजस्थान में 2939 कोरोना के एक्टिव केस है. इनमें से 2349 प्रवासी राजस्थानी है. 

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू  

शुक्रवार को 298 नए पॉजिटिव केस सामने आये: 
इससे पहले शुक्रवार को पिछले 24 घंटे में 4 मरीजों की कोरोना से मौत हो गई. जबकि 298 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. जयपुर में 3, झुंझुनूं में एक मरीज की मौत हो गई. जोधपुर में फिर सामने आए सर्वाधिक 67 पॉजिटिव केस, अजमेर में 13, अलवर में 2, भरतपुर में 45, भीलवाड़ा में एक, बीकानेर में दो, चित्तौड़गढ़ में एक, चूरू में 6, धौलपुर में 5, डूंगरपुर में 6, हनुमानगढ़ में 5, जयपुर में 23, जैसलमेर में चार, झुंझुनूं में 12, झालावाड़ में 42, कोटा में 17, नागौर में 19, पाली में 1, सीकर में 13, सिरोही में 5, उदयपुर में 9 पॉजिटिव केस सामने आये है. 

नाबालिग लड़की का अपहरण कर चार दिन तक किया दुष्कर्म, पीड़िता के भाई ने दर्ज करवाया मुकदमा

नाबालिग लड़की का अपहरण कर चार दिन तक किया दुष्कर्म, पीड़िता के भाई ने दर्ज करवाया मुकदमा

पादु कलां(नागौर): थाना क्षेत्र के धांधलास गांव की एक नाबालिग लड़की का अपहरण कर चार दिनों तक उसके साथ बलात्कार किये जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. आरोप है कि अपने भाई व एक बहन के साथ रह रही एक 16 वर्षीय लड़की के साथ उसके भाई के साथ ही मजदूरी का काम करने वाले एक युवक ने इस वारदात को अंजाम देते हुए उससे बलात्कार किया. पादू कलां पुलिस ने नामजद मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है. 

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत 

साथी के साथ मिलकर खेत से किया नाबालिग का अपहरण:  
पादू कलां थाना पुलिस के अनुसार धांधलास ग्राम निवासी 16 वर्षीया नाबालिग पीड़िता के भाई ने थाने में मामला दर्ज कराते हुए बताया की मैं मेरी पत्नी व मेरी 16 वर्षीया बहन तीनों ही गांव में मेहनत मजदूरी करते हैं व मेरे पिता मजदूरी के लिये अहमदाबाद रहते हैं. पीड़िता के भाई ने बताया की उसके साथ आरोपी युवक दिनेश भी धांधलास मे मजदूरी का काम करता है. पीड़िता के भाई के अनुसार 17 मई को उसकी बहन जो खेत मे से लकड़िया लेने गई हुई थी. इस दौरान आरोपी युवक दिनेश पुत्र कैलाश मेघवाल निवासी ईडवा ने सुरेश के साथ मिलकर उसकी बहन का कपडे से मुहं बांधकर व हाथ बांधकर मोटरसाईकिल पर बैठाकर ईडवा ले गये. 

भूमिगत हौद में कैद कर 4 दिनों तक किया बलात्कार:
पीड़िता के भाई ने रिपोर्ट में बताया की आरोपियों ने उसकी नाबालिग बहन को ईड़वा में एक भूमिगत हौद मे कैद कर लिया व इस दौरान आरोपी दिनेश ने उसकी बहन को वहां नग्न अवस्था में रखते हुए 4 दिन तक बलात्कार किया.

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू   

गुमशुदगी हुई दर्ज तो 5 दिनों बाद आरोपी नाबालिग को लेकर पहुंचा थाने:
पीड़िता के भाई ने बताया की उसकी बहन का कोई पता नहीं लगने पर उसने 20 मई को उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने गया तो अगले ही दिन आरोपी युवक पीड़िता को लेकर पहुंचा और हमें सुपुर्द कर दी.

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25 लाख रुपए स्वीकृत

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत

जयपुर: प्रदेश में गर्मी के मौसम के दौरान विधायकों अब अपने विधानसभा क्षेत्र में 25 लाख रूपए तक पेयजल आपूर्ति से संबंधित काम करा सकेंगे. विधायकों की मांग पर मुख्यमंत्री गहलोत ने इस प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है. जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता इस संबंध में तत्काल स्वीकृति जारी करने के लिए अधिकृत होंगे. 

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू  

200 विधानसभा क्षेत्रों के लिए 50 करोड़ रूपए स्वीकृत:  
गहलोत ने इसके लिए प्रति विधानसभा क्षेत्र 25 लाख रूपए के आधार पर सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों के लिए 50 करोड़ रूपए स्वीकृत किए हैं. इस राशि से हैंडपंप ड्रिल कराने, सौर ऊर्जा संचालित बोरवैल, पम्प मशीनरी बदलने के कार्य, सूख चुके ट्यूबवैल के स्थान पर नए ट्यूबवैल, पुरानी एवं जर्जर पाइपलाइन बदलने तथा इनके विस्तार के काम किए जा सकेंगे. इन दिनों गर्मी के कारण पूरे प्रदेश में पेयजल की मांग बढ़ी है. ऎसे में विधायक पेयजल संबंधी आवश्यकताओं को लेकर उनके पास आने वाले अपने विधानसभा क्षेत्र के लोगों को राहत दिला सकें इसके लिए मुख्यमंत्री ने यह मंजूरी दी है. 13 मई को हुई वीडियो कांफ्रेंस के दौरान विधायकों ने गहलोत से अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में पेयजल की सुविधा के लिए नए कार्य स्वीकृत करने का अनुरोध किया था. 

मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: PM मोदी का जनता के नाम पत्र, कहा- एक साल में लिए गए फैसले बड़े सपनों की उड़ान 

विधायक पेयजल की आवश्यकताओं के अनुरूप कार्य करा सकेंगे:
उल्लेखनीय है कि कोविड-19 के कारण उत्पन्न परिस्थितियों से निपटने के लिए राज्य सरकार ने प्रदेशभर में चिकित्सा के आधारभूत ढांचे को मजबूत करने का निर्णय किया है. विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास निधि की वर्ष 2020-21 एवं 2021-22 की सम्पूर्ण राशि इन कार्यों के लिए ही उपयोग में लिए जाने का नीतिगत फैसला किया गया था. विधायक अपने विधानसभा क्षेत्र में पेयजल की आवश्यकताओं के अनुरूप कार्य करा सकें, इसके लिए मुख्यमंत्री ने 50 करोड़ की यह अतिरिक्त राशि स्वीकृत की है. 

मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: PM मोदी का जनता के नाम पत्र, कहा- एक साल में लिए गए फैसले बड़े सपनों की उड़ान

मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: PM मोदी का जनता के नाम पत्र, कहा- एक साल में लिए गए फैसले बड़े सपनों की उड़ान

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला साल आज पूरा हो गया है. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम चिट्ठी लिखर पिछले 1 साल की सरकार की उपलब्धियों का रोडमैप बताया है.

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू  

कोरोना पर जीत के लिए देश के दृढ़ संकल्प को भी सलाम किया: 
प्रधानमंत्री मोदी ने पत्र में लिखा कि देशवासियों की आशाओं-आकांक्षाओं की पूर्ति करते हुए हम तेज गति से आगे बढ़ ही रहे थे, कि कोरोना वैश्विक महामारी ने भारत को भी घेर लिया. कई लोगों ने आशंका जताई थी कि जब कोरोना भारत पर हमला करेगा, तो भारत पूरी दुनिया के लिए संकट बन जाएगा. पीएम ने अपनी चिट्ठी में कोरोना पर जीत के लिए देश के दृढ़ संकल्प को भी सलाम किया. 

उन्होंने लिखा कि यदि सामान्य स्थिति होती तो मुझे आपके बीच आकर आपके दर्शन का सौभाग्य मिलता, लेकिन वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से जो परिस्थितियां बनी हैं उन परिस्थितियों में, मैं इस पत्र के द्वारा आपका आशीर्वाद लेने आया हूं.

बड़े शहरों को छोड़ कर जा रहे मजदूरों का मर्म भी दिखा:
मोदी के खत में बड़े शहरों को छोड़ कर जा रहे मजदूरों का मर्म भी दिखा. उन्होंने कहा कि ''निश्चित तौर पर, इतने बड़े संकट में कोई ये दावा नहीं कर सकता कि किसी को कोई तकलीफ और असुविधा न हुई हो. हमारे श्रमिक साथी, प्रवासी मजदूर भाई-बहन, छोटे-छोटे उद्योगों में काम करने वाले कारीगर, पटरी पर सामान बेचने वाले, रेहड़ी-ठेला लगाने वाले, हमारे दुकानदार भाई-बहन, लघु उद्यमी, ऐसे साथियों ने असीमित कष्ट सहा है. इनकी परेशानियां दूर करने के लिए सभी मिलकर प्रयास कर रहे हैं.

2014 की उपलब्धियों का जिक्र:
पिछले कार्यकाल की उपलब्धियों के बारे में बताते हुए पीएम मोदी ने लिखा कि हमने गरीबों के बैंक खाते खोलकर, उन्हें मुफ्त गैस कनेक्शन देकर, मुफ्त बिजली कनेक्शन देकर, शौचालय बनवाकर और घर बनवाकर गरीब की गरीमा भी बढ़ाई. इससे आगे उन्होंने लिखा कि उस कार्यकाल में जहां सर्जिकल स्ट्राइक हुई, एयर स्ट्राइक हुई. वहीं हमने वन रैंक वन पेंशन, वन नेशन वन टैक्स- जीएसटी, किसानों की MSP की बरसों पुरानी मांगों को भी पूरा करने का काम किया. पहला कार्यकाल अनेकों आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए समर्पित रहा.

एक साल में लिए गए फैसले इन्हीं बड़े सपनों की उड़ान: 
पीएम ने कहा कि इस एक साल में लिए गए फैसले इन्हीं बड़े सपनों की उड़ान है. उन्होंने आगे लिखा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास' इस मंत्र को लेकर आज देश सामाजिक हो या आर्थिक, वैश्विक हो या आंतरिक, हर दिशा में आगे बढ़ रहा है.

बीते एक वर्ष में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय ज्यादा चर्चा में रहे: 
प्रधानमंत्री ने बताया कि बीते एक वर्ष में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय ज्यादा चर्चा में रहे और इस वजह से इन उपलब्धियों का स्मृति में रहना भी बहुत स्वाभाविक है. राष्ट्रीय एकता-अखंडता के लिए आर्टिकल 370 की बात हो, सदियों पुराने संघर्ष के सुखद परिणाम-राम मंदिर निर्माण की बात हो, आधुनिक समाज व्यवस्था में रुकावट बना ट्रिपल तलाक हो, या फिर भारत की करुणा का प्रतीक नागरिकता संशोधन कानून हो, ये सारी उपलब्धियां आप सभी को स्मरण हैं. 

पर्यटन क्षेत्र को मिलेगी संजीवनी,1 जून से खुलेंगे पर्यटन स्थल, शुरू में स्मारकों में प्रवेश रहेगा फ्री

किसान सम्मान निधि के दायरे में हर किसानः
गरीब, किसान, महिलाओं और युवाओं का जिक्र करते हुए मोदी ने लिखा कि अब पीएम किसान सम्मान निधि के दायरे में हर किसान आ चुका है. पिछले एक साल में एस योजना के तहत 9.50 करोड़ से ज्यादा किसानों के खातों में 72 हजार करोड़ रुपये से अधिक राशि जमा कराई गई है.

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू

जयपुर: राज्य सरकार ने कोविड-19 महामारी के कारण स्थगित की गई 10वीं और 12वीं कक्षाओं के विभिन्न विषयों की बोर्ड परीक्षाएं कराने का निर्णय लिया है. मुख्यमंत्री आवास पर देर शाम CM गहलोत व शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा के बीच हुई वार्ता के बाद फैसला लिया गया. 

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके, 9 बजकर 8 मिनट पर महसूस हुए तेज झटके

प्रदेश के स्टूडेंट्स के हित मे बड़ा फैसला लिया:  
मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रदेश के स्टूडेंट्स के हित मे बड़ा फैसला लिया है. CM ने 10वीं व 12वीं की शेष परीक्षा कराने पर मुहर लगा दी है. गहलोत ने शुक्रवार देर शाम को मुख्यमंत्री निवास पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया. इस निर्णय के बाद अब 10वीं और 12वी कक्षाओं के विभिन्न विषयों की शेष रही परीक्षाओं की तिथियों को कार्यक्रम राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर द्वारा जारी किया जाएगा. बैठक में शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा, मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, शासन सचिव स्कूल शिक्षा मंजू राजपाल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे. 

हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए:
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इन परीक्षाओं के दौरान कोरोना महामारी के संदर्भ में जारी हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए. सभी परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षार्थियों और अध्यापकों द्वारा मास्क तथा सैनिटाइजर का उपयोग किया जाएगा.  साथ ही, विद्यार्थियों को परीक्षा केन्द्र पर आवागमन और परीक्षा के दौरान सोशल डिस्टेसिंग के नियम की सख्ती से पालना करनी होगी. 

परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया:
गहलोत ने आवश्यकता के अनुसार परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया और कहा कि जिन स्कूल भवनों में क्वारंटाइन सुविधाएं संचालित की जा रही है, उन भवनों को परीक्षा से पहले तय प्रोटोकॉल के अनुसार सैनिटाइज किया जाए तथा वहां स्वास्थ्य सुरक्षा मानकों की सम्पूर्ण व्यवस्था की जाए. सीबीएसई बोर्ड के बाद अब राज्य सरकार ने भी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की शेष परीक्षा कराने का फैसला किया है इस फैसले से प्रदेश के स्टूडेंट्स ने राहत की सांस ली है. 

राजस्थान के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज में 1 लाख कोरोना टेस्ट, RT-PCR मशीन के जरिए हुए टेस्ट

31 मई के बाद भी प्रदेशभर में रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा:
वहीं 31 मई के बाद भी प्रदेशभर में रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा. यानी शाम 7 से सुबह 7 बजे तक इमरजेंसी सेवाओं के अलावा सबकुछ बंद रहेगा. इसके साथ ही सीएम गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सुप्रीम कोर्ट की भावना के अनुरूप निजी अस्पतालों में कोरोना के निशुल्क इलाज के लिए एक एडवाइजरी जारी की जाए. जो भी अस्पताल इसका उल्लंघन करे, उसके विरुद्ध कार्रवाई का प्रावधान हो. गहलोत ने सीएम निवास पर कोरोना संक्रमण को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक के दौरान ये अहम फैसले किए. 

Open Covid-19