पपला गुर्जर को फरार कराने के मामले में शामिल बदमाश बलबीर गिरफ्तार, चार थानों की टीमों ने पाई सफलता

पपला गुर्जर को फरार कराने के मामले में शामिल बदमाश बलबीर गिरफ्तार, चार थानों की टीमों ने पाई सफलता

खेतड़ी(झुंझुनूं): झुंझुनूं पुलिस ने सीकर पुलिस, एटीएस और एसओजी की मदद से फरार बदमाश पपला गुर्जर के साथी और पपला गुर्जर को फरार कराने में मदद करने वाले पचेरी थाना इलाके के पथाना निवासी बलबीर पुत्र रामेश्वर गुर्जर को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है. बलबीर पर पुलिस ने इनाम भी घोषित कर रखा था. 

एसपी जेसी शर्मा ने बताया कि बहरोड़ थाने पर फायरिंग कर उसे फरार कराने में मदद करने वाले जिले के पचेरी थाना इलाके के पथाना निवासी बलबीर पुत्र रामेश्वर गुर्जर की तलाश की जा रही थी. वहीं उसकी गतिविधियों पर भी पूरी निगरानी थी. इसी दौरान जानकारी मिली कि बलबीर गुर्जर अपने ससुराल उदयपुरवाटी के रघुनाथगढ़ आया हुआ है. जिस पर एटीएस एडीजी अशोक राठौड़, जयपुर रेंज आईजी एस. सेंगाथिर, झुंझुनूं एसपी जेसी शर्मा, सीकर एसपी गगनदीप सिंगला तथा एएसपी जयपुर सिद्धांत शर्मा के निर्देशन में टीमों का गठन किया गया. टीम ने पूरी रणनीति बनाकर उदयपुरवाटी में बाबूलाल व सोहन गुर्जर के घर पर दबिश दी. जहां पर बलबीर गुर्जर को दबोचा गया. 

बलबीर चंद दिनों के अंतराल में ही अपनी जगह बदलता रहता था:
एसपी जेसी शर्मा ने बताया कि बलबीर गुर्जर उन आरोपियों में शामिल था. जिन्होंने बहरोड़ थाने पर फायरिंग कर पपला गुर्जर को भगाकर ले गए थे. जो घटना के बाद से ही फरार था. बलबीर अपने पास ना तो मोबाइल रखता था और चंद दिनों के अंतराल में ही अपनी जगह बदलता रहता था. यही कारण था कि उसे पकड़ना भी पुलिस के सामने बड़ी चुनौती था. आरोपी को पकड़कर एसओजी एटीएस जयपुर के हवाले कर दिया गया है. जो आरोपी को पपला गुर्जर को लेकर और वारदात से जुड़ी अन्य पूछताछ करेगी.

चार थानों की टीमों ने पाई सफलता:
एसपी जेसी शर्मा ने बताया कि इस कार्रवाई में जयपुर से आए एएसपी सिद्धांत शर्मा के अलावा खेतड़ी, नवलगढ़, जिला स्पेशल टीम सीकर, उद्योग नगर थाना सीकर की टीम ने यह कार्रवाई की. इसमें खेतड़ी एसएचओ सुरेंद्र देगड़ा, उद्योग नगर सीकर थानाधिकारी पवनकुमार चौबे, जिला स्पेशल टीम सीकर के प्रभारी अशोक चौधरी, खेतड़ी थाने के कांस्टेबल दिनेशकुमार, चौखाराम, संदीप, अभिषेक, नवलगढ़ थाने के कांस्टेबल प्रवीण, जिला स्पेशल टीम सीकर के कांस्टेबल हरिशकुमार, रमेशकुमार, सुरेंद्रकुमार व दुर्गाराम शामिल थे. इनमें रघुनाथगढ़ में बलबीर के छिपे होने का सबसे मजबूत इनपुट खेतड़ी थाने के कांस्टेबल दिनेशकुमार ने दिया.

पपला अभी भी फरार, 15 महीने से पुलिस खाली हाथ:
बहरोड़ के थाने से छह सितंबर को ताबड़तोड़ फायरिंग कर फरार कर ले गए पपला गुर्जर के साथियों को तो पुलिस पकड़ पा रही है. लेकिनल 15 महीने बीत जाने के बाद पपला अभी भी पुलिस के हाथ नहीं लगा है. पपला के साथियों ने एके—47 राइफल व कई पिस्टलों से लैस होकर हवालात का ताला तोड़ा और फायरिंग करते हुए फिल्मी स्टाइल में उसे पुलिस हिरासत से छुड़ा ले गए थे और पुलिस देखती रह गई. वह पपला अभी भी पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ पाया है. हालांकि वारदात में शामिल पपला के कई साथियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है. 

और पढ़ें