Crude oil के ग्लोबल प्राइसेस में कमी, घट सकते हैं तेल के दाम

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/06/04 09:20

नई दिल्ली: देश में काफी समय से बढ़ रहे तेल के दामों में कमी आ सकती है. जी हां मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत में क्रूड ऑयल के ग्लोबल प्राइसेस में 9 डॉलर प्रति बैरल की कमी आई है. इससे साफ है कि अब जल्द ही तेल की कीमतें घटेंगी. 

चीन और अमेरिका में व्यापारिक तनाव
बतादें, सोमवार को क्रूड का प्राइस गिरकर 61 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गया, जो गुरुवार को 70 डॉलर से अधिक था. इसका कारण अमेरिका और चीन और मेक्सिको जैसे उसके कुछ प्रमुख व्यापारिक सहयोगी देशों के बीच तनाव बढ़ने से वैश्विक मंदी की आशंका है. 
अगर क्रूड ऑयल के ग्लोबल प्राइसेज में कमी जारी रहती है तो डोमेस्टिक मार्केट में फ्यूल और सस्ता होगा. मार्केट पर ग्लोबल ट्रेंड का असर देखना शुरु हो गया है. 

ट्रंप की आक्रामक नीति
दूसरी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की आक्रामक ट्रेड पॉलिसी से कमोडिटी मार्केट में घबराहट है. आशंका है कि ट्रेड वॉर के कारण ऑयल की डिमांड घट सकती है. ग्लोबल स्लोडाउन के साथ ही अमेरिका में ऑयल का प्रॉडक्शन बढ़ने से ईरान और वेनेजुएला से सप्लाई में कमी का असर समाप्त हो जाएगा.

भारत को मिलेगा फायदा
गौरतलब है कि ग्लोबल ऑयल प्राइसेज में कमी इस पर निर्भर करेगी कि अमेरिका अन्य देशों के साथ ट्रेड को लेकर अपने विवाद कैसे सुलझाता है. बहरहाल, ऑयल के प्राइसेज घटने का फायदा भारत को मिलेगा, जो अपनी ऑयल की जरूरत का लगभग 84 पर्सेंट इम्पोर्ट करता है. लेकिन ग्लोबल स्लोडाउन से देश की इकनॉमी को नुकसान हो सकता है.
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in