close ads


ओडिशा-बंगाल में अम्फान तूफान का कहर, ममता बोलीं- बंगाल में कम से कम 10-12 लोग चढ़े तूफान की भेंट

ओडिशा-बंगाल में अम्फान तूफान का कहर, ममता बोलीं- बंगाल में कम से कम 10-12 लोग चढ़े तूफान की भेंट

कोलकाता: पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भयावह चक्रवात अम्फान ने तबाही मचाई है. पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बताया कि बुधवार देर रात तक मिली जानकारी के मुताबिक कम से कम 12 लोगों की जान गई है. कई इलाकों में भारी तबाही हुई है. संचार व्यवस्था भी बुरी तरह से प्रभावित हुई है. सबसे ज्यादा प्रभावित इलाकों में नहीं पहुंचने से इसका वास्तविक आकलन नहीं हो पाया है. उन्होंने कहा कि हम कोरोना महामारी से ज्यादा नुकसान तो इस चक्रवात के कारण झेल रहे हैं. 

सोमवार से शुरू होंगी देशभर में घरेलू उड़ानें, लॉकडाउन के कारण 25 मार्च से उड़ानों पर लगी है पाबंदी

तूफान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा को झकझोर किया:
वहीं देर रात तक तेज बारिश और तूफानी हवाएं पश्चिम बंगाल और ओडिशा को झकझोरती रही. ऐसा अंधड़ बीते कई सालों में न किसी ने देखा न सुना गया. हवा की रफ्तार से ऐसा लग रहा था कि मानो सब कुछ तबाह हो जाएगा. तूफान की रफ्तार जब तक थमी, कोलकाता में सबकुछ उलट पुलट हो चुका था. बुधवार शाम के वक्त जब तूफान पूरे शबाब पर था. 

18 घंटे में श्रेणी-1 से श्रेणी-5 में बदला:
भारतीय मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती तूफान अम्फान रिकॉर्ड 18 घंटे में श्रेणी-1 से श्रेणी-5 के सुपर साइक्लोनिक तूफान में बदल गया. अम्फान बीते 20 वर्षों में पूर्वी तट से टकराने वाला दूसरा सबसे शक्तिशाली तूफान है. इससे पहले 1999 में ओडिशा में आए तुफान ने भारी तबही मचाई थी और इसमें 15 हजार लोगों की जान गई थी.

एलडीसी भर्ती में सामान्य—ओबीसी वर्ग के पद घटाने पर सरकार से जवाब तलब

राहत और बचाव कार्य जारी:
तबाही का मंजर बंगाल में कई जगहों पर है, तूफान के गुजर जाने के बाद राहत टीमें टूटे पेड़ों को सड़कों से हटाने में जुटी हैं, लेकिन काम खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा. सड़कों पर पानी भरा होने के चलते राहत काम में और भी मुश्किल आ रही है.


 

और पढ़ें