Dausa: अवैध बजरी खदान में दबने से दो लोगों की मौत, परिजन शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जा रहे थे, पुलिस ने रोका

Dausa: अवैध बजरी खदान में दबने से दो लोगों की मौत, परिजन शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जा रहे थे, पुलिस ने रोका

दौसा: जिले के बांदीकुई के पास ढिगारिया भीम गांव में अवैध खनन (Illegal mining of gravel) एक बार फिर काल का ग्रास साबित हुआ है. यहां अवैध बजरी के दोहन के चलते आज सुबह 6 बजे बजरी ढहने से दो लोगों की मौत हो गई. घटना की सूचना मिलने पर बांदीकुई थाना पुलिस मौके पर पहुंची. वहीं, ग्रामीणों की भी भीड़ जमा हो गई. 

खदान से शव निकालकर अंतिम संस्कार के लिए ले जा रहे थे:
परिजन हादसे के बाद खदान से शव निकालकर अंतिम संस्कार के लिए ले जा रहे थे. इस दौरान एसपी मनीष अग्रवाल को घटना की जानकारी मिली. इसके बाद शवों को पुलिस के कब्जे में लिया गया. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है. 

बिना अनुमति के अवैध रूप से बजरी का खनन किया जा रहा था:
प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि मृतकों में एक व्यक्ति इस खान मालिक है और दूसरा मजदूर है. खेत में स्थित इस खान में बिना अनुमति के अवैध रूप से बजरी का खनन किया जा रहा था. दौसा पुलिस अधीक्षक ने बांदीकुई पुलिस को अवैध खनन करने वालों के खिलाफ केस दर्ज करने के निर्देश दिये हैं.

बांदीकुई थाना पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई:
मृतकों की पहचान हरकेश प्रजापत और बाबूलाल मीणा के रूप में हुई है. फिलहाल बांदीकुई थाना पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है. हादसे के बाद गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है. वहीं मृतकों के घरों में कोहराम मचा हुआ है. बाबूलाल के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया गया है. वहीं, हरकेश के परिजन मौके पर शव रख प्रदर्शन कर रहे हैं. जिसके साथ 25 लाख मुआवजे की मांग की जा रही है. 
 

और पढ़ें