जयपुर लाइब्रेरियन भर्ती परीक्षा का पेपर लीक कर पांच-पांच लाख रूपए में किया सौदा, ऐसे हुआ पर्दाफाश

लाइब्रेरियन भर्ती परीक्षा का पेपर लीक कर पांच-पांच लाख रूपए में किया सौदा, ऐसे हुआ पर्दाफाश

लाइब्रेरियन भर्ती परीक्षा का पेपर लीक कर पांच-पांच लाख रूपए में किया सौदा, ऐसे हुआ पर्दाफाश

जयपुर: कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा रविवार को आयोजित लाइब्रेरियन भर्ती परीक्षा का पेपर लीक होने का मामला सामने आया है. इस तरह के गिरोह का पर्दाफाश करते हुए रविवार को कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच ने विद्याधर नगर स्थित एक पीजी हॉस्टल में दबिश देकर दो महिला परीक्षार्थी सहित 6 जनों को गिरफ्तार कर लिया. गिरोह का सरगना कोचिंग संचालक व बिचौलिया अभी तक फरार चल रहे हैं. जिन्हें पकड़ने के लिए पुलिस टीमें संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है. पुलिस ने हॉस्टल से लेपटॉप, प्रिन्टर, मोबाइल व नकदी बरामद की है. गिरफ्तार आरोपी अभ्यर्थी मौसम चौधरी फागी के सहदड़िया, ब्रह्मा चौधरी मौजमाबाद के बिहारीपुरा, सहयोगी अमित चौधरी झुंझुनूं के मण्डावा, प्रदीप कुमार लक्ष्मणगढ़ सीकर, मनोज कुमार थोई सीकर व सुरेन्द्र कुमार मंडावरा फागी के रहने वाले है.

एडिशनल कमिश्नर अशोक कुमार गुप्ता ने बताया कि शनिवार देर शाम को इंस्पेक्टर नरेन्द्र दायमा को सूचना मिली कि विद्याधर नगर स्थित एक आरआर पीजी हॉस्टल में रविवार को आयोजित लाइब्रेरियन भर्ती परीक्षा का पेपर आउट होने वाला है. ऐसे में ADCP नॉर्थ धर्मेन्द्र सागर के नेतृत्व में टीमें गठित करके सुबह 6 बजे से ही हॉस्टल के आस-पास निगरानी शुरु कर दी. टीमों में  इंस्पेक्टर लखन खटाना, राधा रमन गुप्ता, एसआई महेन्द्र सिंह सहित राजेश, पुरुषोतम, दीपक त्यागी, मनोज, कृष्णावतार, जगदीश, अनिल, राकेश व नेमी चन्द शामिल थे.

ऐसे हुआ पर्दाफाश: 
प्राथमिक जांच में सामने आया कि सरगना ने दोनों अभ्यर्थियों से 5-5 लाख रुपए में पेपर देने के लिए बदले हॉस्टल में बुला लिया और शुक्रवार शाम को उनके लिए पांच नए मोबाइल फोन खरीदे. जिसमें नई ई-मेल आईडी जनरेट करके जय श्री कृष्णा के नाम से वाट्स अप ग्रुप बनाया गया. जिसमें केवल पांच सदस्य शामिल थे.

- रविवार सुबह 9:07 बजे इस ग्रुप में एडमिन द्वारा एक पेपर शेयर किया गया. जिसके कुछ देर बाद ही आंसर की शेयर कर दी गई.

- ग्रुप में पेपर आते ही हॉस्टल में केयर टेकर अमिल ने प्रिन्ट आउट निकालकर दोनों अभ्यर्थियों को दे दिए.

- आरोपियों से पूछताछ के बाद सामने आया कि ये हॉस्टल मदर्स एजुकेशन हब अम्बाबाड़ी के संचालक संदीप का है. वह लोगों को नौकरी लगाने के बदले 5-5 लाख रुपए लेता है. परीक्षा शुरु होने से दो घंटे पहले पेपर व आंसर शीट देने की बात हो रखी थी. 

और पढ़ें