Live News »

केजरीवाल सरकार में पुराने चेहरे ही बनेंगे दोबारा मंत्री, नहीं होगा नया चेहरा

केजरीवाल सरकार में पुराने चेहरे ही बनेंगे दोबारा मंत्री, नहीं होगा नया चेहरा

नई दिल्ली: दिल्ली के रामलीला मैदान में 16 फरवरी को अरविंद केजरीवाल एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं. इससे पहले केजरीवाल की कैबिनेट से जुड़ी बड़ी खबर सामने आई है. सूत्रों के अनुसार अरविंद केजरीवाल अपनी कैबिनेट में कोई बदलाव नहीं करेंगे. यानी पिछली सरकार में जो मंत्री थे इस बार भई उन्हें की अवसर दिया जाएगा. ऐसे में अरविंद केजरीवाल सरकार के पुराने सातों मंत्री एक बार फिर शपथ ले सकते हैं. 

रविवार को तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे केजरीवाल, रामलीला मैदान में होगा समारोह 

मंत्रियों के विभागों का बंटवारा बाद में किया जाएगा:
अरविंद केजरीवाल का मानना है कि जिस सरकार के काम पर हम दोबारा जीत आए हैं, उन्हीं लोगों को दोबारा मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा. सूत्रों के अनुसार केजरीवाल मंत्रिमंडल में मनीष सिसोदिया, सतेंद्र जैन, गोपाल राय, कैलाश गहलोत, इमरान हुसैन और राजेंद्र पाल गौतम शामिल हो सकते हैं. मंत्रियों के विभागों का बंटवारा बाद में किया जाएगा.

पिछली सरकार में इस तरह था विभाग का बंटवारा:
पिछली सरकार में मनीष सिसोदिया डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री का पद, सत्येंद्र जैन स्वास्थ्य मंत्री का पद, गोपाल राय ग्रामीण विकास मंत्री का पद, कैलाश गहलोत परिवहन मंत्री का पद, इमरान हुसैन खाद्यमंत्री का पद और राजेंद्र पाल गौतम जल मंत्री का पद संभाल रहे थे.

AAP विधायक के काफिले पर फायरिंग में नरेश यादव नहीं थे टारगेट, हिरासत में आरोपी 

16 फरवरी को सुबह 10 बजे शपथ लेंगे केजरीवाल:
बता दें, दिल्ली में आम आदमी पार्टी की ऐतिहासिक जीत हुई है. अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में पार्टी ने न केवल 62 सीटें जीतीं बल्कि बीजेपी को महज 8 सीटों पर समेट दिया. जीत के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री के तौर पर 16 फरवरी को सुबह 10 बजे अरविंद केजरीवाल तीसरी बार शपथ लेंगे.


 

और पढ़ें

Most Related Stories

हाथरस के बाद अब यूपी के बलरामपुर में छात्रा से गैंगरेप, आरोपियों ने कमर और पैर तोड़े, पीड़िता की मौत

हाथरस के बाद अब यूपी के बलरामपुर में छात्रा से गैंगरेप, आरोपियों ने कमर और पैर तोड़े, पीड़िता की मौत

बलरामपुर: उत्तर प्रदेश में हाथरस के बाद अब बलरामपुर जिले में एक 22 साल की छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है. 2 आरोपियों ने छात्रा को किडनैप कर इंजेक्शन लगाकर बेहोश कर दिया और फिर दुष्कर्म किया. इस दौरान लड़की हालत इतनी बिगड़ गई कि उसकी मौत हो गई. उसके बाद बलरामपुर गैंगरेप पीड़िता का भी देर रात भारी सुरक्षाबलों की तैनाती के बीच अंतिम संस्कार कर दिया गया.  पुलिस ने साहिल और साजिद नाम के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. मामला गैंसड़ी इलाके का है. 

पीड़िता कॉलेज में एडमिशन फीस जमा करने के बाद घर लौट रही थी: 
मिली जानकारी के अनुसार पीड़िता कॉलेज में एडमिशन फीस जमा करने के बाद घर लौट रही थी. इसी दौरान उसका किडनैप कर गैंगरेप की घटना हुई. पीड़िता की मां के मुताबिक, दरिदों ने उनकी बेटी की कमर और पैर तोड़ दिए थे और वह खड़ी नहीं हो पा रही थी.

बेहोशी की हालत में रिक्शे पर घर पहुंची:
पीड़िता की मां के अनुसार उनकी बेटी मंगलवार को कॉलेज में एडमिशन के लिए गई थी. तभी कुछ लड़कों ने उसका अपहरण कर उसके साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया. जब वह देर शाम तक घर नहीं आई तो उसके पास फोन करना शुरू किया तो उसका फोन बंद आ रहा था. लड़की को एक रिक्शा वाला एक नाबालिग बच्चे के साथ बेहोशी की हालत में तकरीबन 7:00 बजे लेकर आता है. लड़की की हालत बेहद खराब थी और वो कुछ भी नहीं बोल पा रही थी. 

{related} 

हॉस्पिटल पहुंचने से पहले रास्ते में उसकी मौत हो गयी:
उसके हाथ पर ग्लूकोज चढ़ाने वालार ड्रिप लगा हुआ था. परिजन उसे लेकर स्थानीय डॉक्टर के पास ले गए लेकिन गम्भीर हालात देखते हुए उसने लखनऊ ले जाने को कहा. परिजनों के मुताबिक जिले के तुलसीपुर हॉस्पिटल पहुंचने से पहले रास्ते में उसकी मौत हो गयी.

पेट में बहुत तेज जलन हो रही है:
लड़की की मां का कहना है कि आरोपियों ने बेटी की कमर और पैर भी तोड़ दिए, इसलिए न तो वह खड़ी हो पा रही थी और न ही बोल पा रही थी. बस इतना ही कह पाई कि पेट में बहुत तेज जलन हो रही है, हम मर जाएंगे. 

अखिलेश यादव बोले- भाजपा सरकार अब लीपापोती न करे:
यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा है कि हाथरस के बाद अब बलरामपुर में भी एक बेटी के साथ सामूहिक बलात्कार और उत्पीड़न का घृणित अपराध हुआ है. भाजपा सरकार बलरामपुर में हाथरस जैसी लापरवाही और लीपापोती न करे, बल्कि अपराधियों पर तुरंत कार्रवाई करें. 

यूपी पुलिस निशाने पर:
बता दें कि हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद जबरन उसका अंतिम संस्कार किए जाने के बाद यूपी पुलिस सवालों के घेरे में है. इस बीच एक एक बार फिर बलरामपुर में गैंगेरप की ऐसी ही एक घटना सामने आने से पुलिस निशाने पर आ गई है. 

Horoscope Today, 01 October 2020: अधिक मास पूर्णिमा पर राशि अनुसार करें दान, आर्थिक समृद्धि की होगी प्राप्ति

Horoscope Today, 01 October 2020: अधिक मास पूर्णिमा पर राशि अनुसार करें दान, आर्थिक समृद्धि की होगी प्राप्ति

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. 

{related} 

मेष राशि- मेष राशि के जातकों को अधिक मास पूर्णिमा पर गुड़ का दान अवश्य करें. ऐसा करने से आपकों आर्थिक समृद्धि की प्राप्ति होगी. 
वृषभ राशि- वृषभ राशि के जातको को अधिक मास की पूर्णिमा पर मिश्री का दान अवश्य करना चाहिए. ऐसा करने से उनके जीवन में सुख और समृद्धि बनी रहेगी. 

मिथुन राशि- अधिक मास पूर्णिमा पर मिथुन राशि के जातको हरे रंग की मूंग की दाल अवश्य दान करनी चाहिए. ऐसा करने से इनके वैवाहिक जीवन में चली आ रही परेशानी समाप्त होगी. 

कर्क राशि - कर्क राशि के जातको अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर चावलों का दान अवश्य करना चाहिए. ऐसा करने से इन्हें मानसिक शांति की प्राप्ति होगी. 

सिंह राशि- अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर सिंह राशि के जातको को गेहूं का दान अवश्य करना चाहिए. ऐसा करने से आपके मान-सम्मान में वृद्धि होगी. 

कन्या राशि - कन्या राशि के जातको को अधिक मास की पूर्णिमा पर जानवरों को हरे रंग का चारा अवश्य खिलाना चाहिए. ऐसा करने से आपके जीवन की सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी.  

तुला राशि - यदि आपको जीवन में ऐश्वर्य चाहिए तो आप अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर नौ वर्ष से छोटी कन्याओं को खीर का दान अवश्य करें. 

वृश्चिक राशि - अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर वृश्चिक राशि के जातको को गुड़ और चना बंदरों को खिलाने चाहिए. ऐसा करने से आपके शत्रुओं का नाश होगा. 

धनु राशि - धनु राशि के जातको को अधिक मास पूर्णिमा पर किसी मंदिर में चने की दान अवश्य दान करें. ऐसा करने से आपको जीवन के सभी सुखों की प्राप्ति होगी. 

मकर राशि - अधिक मास की पूर्णिमा पर मकर राशि के जातक कंबल का दान अवश्य करें. ऐसा करने से आपकी नौकरी में आ रही सभी तरह की परेशानी दूर होंगी. 

कुंभ राशि- कुंभ राशि के जातकों को अधिक मास की पूर्णिमा पर काली उड़द की दाल अवश्य दान करनी चाहिए. ऐसा करने से आपके बिजनेस में आ रही सभी तरह की परेशानी दूर हो जाएगी.

मीन राशि -  मीन राशि के जातक आज अधिक मास की पूर्णिमा तिथि पर हल्दी और बेसन की मिठाई का दान अवश्य करें. ऐसा करने से आपके जीवन में कभी भी धन की कोई कमीं नहीं होगी. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

1 अक्टूबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

1 अक्टूबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल... 

{related}

शुभ मास- प्रथम आश्विनी (अधिक) शुक्ल पक्ष  

शुभ तिथि पूर्णिमा तिथि रात्रि 2 बजकर 34 मिनट तक तत्पश्चात  द्वितीय आश्विन (अधिक) मास के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि आरम्भ. पूर्णिमा तिथि मे मांगलिक कार्य शुभ माने माने गये है. पूर्णिमा तिथि मे जन्मे जातक धनवान, बुद्धिवान, साहसी, धर्मपरायण और ऐश्वर्यवान होते हैं. 

उत्तरा भाद्रपद "ध्रुव -उर्ध्वमुख मुख"  संज्ञक नक्षत्र रात्रि 5 बजकर 57 मिनट तक रहेगा.  उत्तराभाद्रपद नक्षत्र मे स्थिर कार्य, वास्तु, शांति कर्म, विवाह इत्यादि मांगलिक कार्य विशेष रूप से सिद्ध होते हैं. उत्तराभाद्रपद नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक धनी, साहसी, प्रसिद्ध, सुन्दर, धनवान, बुद्धिमान होता है.  

चन्द्रमा -  सम्पूर्ण दिन कुम्भ राशि में संचार करेगा 

व्रतोत्सव -  पूर्णिमा व्रत, पंचक, अधिक आसोज मास पूर्णिमा  

राहुकाल - दोपहर 1.30 बजे से 3 बजे तक                              

दिशाशूल - गुरुवार को दक्षिण दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से दही खा कर निकले. 

आज के शुभ चौघड़िये - सूर्योदय से प्रातः 7.50 मिनट तक शुभ का, प्रातः 10.49 से दोपहर 3.18 मिनट तक चर, लाभ, अमृत का और सायं 4.48 से सूर्यास्त तक शुभ का चौघड़िया

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री
 

VIDEO: बारां में दो नाबालिग लड़कियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस पर लगे गंभीर आरोप

VIDEO: बारां में दो नाबालिग लड़कियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस पर लगे गंभीर आरोप

बारां: जिले में दो नाबालिग लड़कियों से गैंगरेप का मामला सामने आया है. आरोपियों ने नाबालिग का अपहरण कर जयपुर, कोटा और अजमेर ले जाकर गैंगरेप किया. दरिंदों ने लगातार तीन दिन नाबालिगों से गैंगरेप किया. नाबालिगों के पिता ने अब पुलिस पर भी गंभीर आरोप लगाएं हैं. उनका आरोप है कि रिपोर्ट दर्ज करने के बाद पुलिस ने दो लड़के पकड़े लेकिन बाद में छोड़ दिए गए. अब आरोपियों की तरफ से पुलिस को कोई जवाब नहीं दिया जा रहा है. 

{related}

ऐसे में सबसे बड़ा सवाल तो यह उठता है कि जिन पर आरोप लगा पुलिस ने उनको पकड़ा तो छोड़ा क्यों? यह पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करने वाला अपने आप में गंभीर सवाल है, और पीड़ित परिवार यह आरोप लगा रहा है. दुष्कर्म पीड़िताओं की जवाबी सुनिए पूरी दास्तां... 
 

सेवानिवृत्ति बाद भी 1 वर्ष तक सीएम सलाहकार बने रहेंगे डीबी गुप्ता

सेवानिवृत्ति बाद भी 1 वर्ष तक सीएम सलाहकार बने रहेंगे डीबी गुप्ता

जयपुर: डीबी गुप्ता 1 वर्ष तक सीएम सलाहकार पद पर बने रहेंगे. आईएएस से सेवानिवृत्ति बाद अब वे इस पद पर रिटायर्ड आईएएस के रूप में सेवाएं देंगे. योजना भवन में आज उनकी आईएएस से सेवानिवृत्ति होने पर कार्यक्रम रखा गया. इसमें उन्होंने अनौपचारिक बातचीत में सीएस पद से हटाने को लेकर टिप्पणी से इनकार करते हुए कहा कि कोई भी जिम्मेदारी देना सीएम का विवेकाधिकार है और वे पदों के पीछे नहीं भागे. उन्होंने कहा कि ब्यूरोक्रेसी में कर्तव्य और अधिकारों का सम्मिश्रण होना चाहिए. उन्होंने अपने शांत स्वभाव को लेकर कहा कि उनका स्वभाव ही रहा है कि  सभी से शांति और शालीनता से बात करता हूँ. हालांकि अपनी बात लॉजिकली रखने में भी वे यकीन रखते हैं.

मेरे पास रिश्तों का बैंक बैलेंस:  
उन्होंने कहा कि वे कलेक्टर भी रहे हैं और पहले यह भी समय रहा है कि फरियादियों को कक्ष तक नहीं आने देते थे लेकिन आज तो कलेक्टर से लोग लंबी चौड़ी बहस कर लेते हैं. उन्होंने अपने मित्रों, शुभचिंतकों की दुआओं को लेकर कहा कि मेरे पास रिश्तों का बैंक बैलेंस है जिसमें कभी विड्रॉल नहीं होता. उन्होंने 37 साल के अपने आईएएस के सेवाकाल को लेकर संतुष्टि का भाव जताया. 

{related}

अब जीरो बजट फार्मिंग की ओर विशेष ध्यान केंद्रित करेंगे:
गुप्ता ने कहा कि सीएम सलाहकार पद पर रहते हुए वे अब जीरो बजट फार्मिंग की ओर विशेष ध्यान केंद्रित करेंगे. आंध्र प्रदेश में लांच इस कार्यक्रम के तहत बहुत कम लागत में केमिकल्स के उपयोग बिना खेती होती है. उन्होंने कहा कि वे कृषि के साथ डेयरी पशुपालन, उद्यानिकी से जुड़े मुद्दों को लेकर सलाह देंगे और सीएम जो भी टास्क देंगे उसे पूरा करेंगे. भविष्य में मुख्य सूचना आयुक्त या अन्य पद के बारे में चर्चाओं को लेकर उन्होंने कहा कि जो भी जिम्मेदारी दी जाती है वे पूरी जिम्मेदारी से उसे निभाएंगे. 

6 चरणों में आयोजित होगी पटवारी भर्ती परीक्षा, RSSB ने जारी किया परीक्षाओं का संभावित कार्यक्रम

जयपुर: राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से करीब एक दर्जन भर्तियों की संभावित परीक्षा तिथि जारी की गई है. करीब एक दर्जन भर्ती परीक्षाओं को लेकर लम्बे समय से बेरोजगारों की ओर से मांग की जा रही थी, और उसी मांग को देखते हुए बोर्ड की ओर से इन परीक्षाओं की संभावित तिथि जारी की गई है. 

सबसे बड़ी भर्ती पटवारी भर्ती परीक्षा के लिए बोर्ड की ओर से 10 जनवरी 2021 से 24 जनवरी 2021 तक का समय निर्धारित किया गया है. बोर्ड की ओर से परीक्षा तीन चरणों में आयोजित करवाई जाएगी. 10 जनवरी, 17 जनवरी और 24 जनवरी को दो पारियों में इस परीक्षा का आयोजन किया जाएगा. साथ ही सार्वजनिक निर्णाण विभाग, राजस्थान राज्य कृषि वीपणन बोर्ड, जल संसाधन विभाग, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, कृषि विभाग, शासन सचिवालय, राजस्थान लोक सेवा आयोग, राज्य सरकार के अधीनस्थ विभागों और कार्यालयों में विभिन्न वर्गों में आयोजित होने वाली परीक्षा का कार्यक्रम जारी किया गया है.

{related}

इनमें से आधा दर्जन ऐसी भर्तियां हैं जिनकी परीक्षा कोरोना के चलते पहले स्थगित की गई थी. संभावित परीक्षा कार्यक्रम जारी करने के साथ ही बोर्ड की ओर से ये भी नोट जारी किया गया है की प्रशासनिक कारणों और कोरोना के चलते संभावित परीक्षा तिथियों में आगामी दिनों में बदलाव भी किया जा सकता है. 

बाबरी विध्वंस पर फैसले का शिवसेना ने किया स्वागत, कांग्रेस ने बताया संविधान की परिपाटी से परे

बाबरी विध्वंस पर फैसले का शिवसेना ने किया स्वागत, कांग्रेस ने बताया संविधान की परिपाटी से परे

नई दिल्ली: बाबरी विध्वंस मामले में लखनऊ स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने आज फैसला सुनाते हुए सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया. जज एसके यादव ने कहा है कि विवादित ढांचा गिराने की घटना पूर्व नियोजित नहीं थी और ये घटना अचानक हुई थी. 

अदालत का निर्णय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय व संविधान की परिपाटी से परे: 
अब इस फैसले पर एक बाद एक प्रतिक्रिया सामने आ रही है. इसी के चलते कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सभी दोषियों को बरी करने का विशेष अदालत का निर्णय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय व संविधान की परिपाटी से परे हैं. उच्चतम न्यायालय की पांच न्यायाधीशों की खंडपीठ के 9 नवंबर, 2019 के निर्णय के मुताबिक बाबरी मस्जिद को गिराया जाना एक गैरकानूनी अपराध था. पर विशेष अदालत ने सभी दोषियों को बरी कर दिया. विशेष अदालत का निर्णय साफ तौर से उच्चतम न्यायालय के निर्णय के भी प्रतिकूल है.

#BabriMasjidDemolitionCase मामले में सभी दोषियों को बरी करने का विशेष अदालत का निर्णय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय व संविधान की परिपाटी से परे है।

सुप्रीम कोर्ट की 5 न्यायाधीशों की खंडपीठ के 9 नवंबर 2019 के निर्णय के मुताबिक बाबरी मस्जिद को गिराया जाना एक गैरकानूनी अपराध था।

बयान-: pic.twitter.com/pHDP0BEkdt

— Randeep Singh Surjewala (@rssurjewala) September 30, 2020

शिवसेना ने किया फैसले का स्वागत:
वहीं दूसरी ओर शिवसेना नेता और राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि फैसले में कहा गया कि विध्वंस एक साजिश और परिस्थितियों का परिणाम नहीं था, यह अपेक्षित निर्णय था. हमें उस एपिसोड को भूलना चाहिए. अगर बाबरी मस्जिद को ध्वस्त नहीं किया गया होता तो हमने राम मंदिर के लिए कोई भूमि पूजन नहीं देखा होता. राउत ने कहा, 'मैं और मेरी पार्टी शिवसेना, फैसले का स्वागत करते हैं और आडवाणी जी, मुरली मनोहर जी, उमा भारती जी और मामले में बरी हुए अन्य लोगों को बधाई देते हैं. 

I and my party Shiv Sena, welcome the judgment and congratulate Advani ji, Murli Manohar ji, Uma Bharti ji & the people who have been acquitted in the case: Sanjay Raut, Shiv Sena, on the #BabriMasjidDemolitionVerdict https://t.co/WOQAtoYkXQ

— ANI (@ANI) September 30, 2020

ओवैसी ने एक दुखद दिन बताया:
उधर असदुद्दीन ओवैसी ने, 'आज का दिन भारतीय न्यायपालिका के इतिहास में एक दुखद दिन बताया है. अब, अदालत का कहना है कि कोई साजिश नहीं थी. कृपया मुझे बताएं, किसी कार्रवाई को सहज होने के लिए कितने दिनों और महीनों की तैयारी की आवश्यकता होती है?' उन्होंने कहा कि सीबीआई अदालत द्वारा निर्णय भारतीय न्यायपालिका के लिए एक काला दिन है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने पहले ही इस विवाद को लेकर कहा था कि ये विवाद 'कानून का अहंकारी उल्लंघन' और 'पूजा के सार्वजनिक स्थान को नष्ट करने करने का मामला' है. 

वही क़ातिल वही मुंसिफ़ अदालत उस की वो शाहिद
बहुत से फ़ैसलों में अब तरफ़-दारी भी होती है

— Asaduddin Owaisi (@asadowaisi) September 30, 2020


 

एसएमएस अस्पताल में कोरोना मरीजों का इलाज क्यों नहीं - राजस्थान हाईकोर्ट

एसएमएस अस्पताल में कोरोना मरीजों का इलाज क्यों नहीं - राजस्थान हाईकोर्ट

जयपुर: राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एसएमएस में कोरोना मरीजों का इलाज नहीं करने और उन्हें एडमिट नहीं करने के मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने स्वप्रेणा प्रसंज्ञान लिया है. मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति और जस्टिस प्रकाश गुप्ता की खण्डपीठ ने स्वप्रेणा प्रसंज्ञान से जनहित याचिका दायर करते हुए याचिका की प्रति राज्य के महाधिवक्ता को देने के निर्देश दिये है. 

नोटिस जारी करते हुए 12 अक्टूबर तक जवाब मांगा:  
साथ ही राज्य के मुख्य सचिव, एसीएस चिकित्सा और एसएमएस अधीक्ष को नोटिस जारी करते हुए 12 अक्टूबर तक जवाब मांगा है. मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति की खण्डपीठ ने राज्य के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में कोरोना मरीजों का ईलाज नही होने को गंभीर मानते हुए ये आदेश दिया है. खण्डपीठ ने मामले की सुनवाई मोहनसिंह की ओर से दायर जनहित याचिका के साथ सूचीबद्ध करने के आदेश दिये है.

{related}

सरकार के नियत्रंण में लेने की गुहार लगायी गयी: 
गौरतलब है कि मोहनसिंह की ओर से राजस्थान हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर एसएमएस सहित विभिन्न जिलों के सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज करने...कोरोना से जुड़े सभी टेस्ट और इलाज निशुल्क करने, राज्य के निजी अस्पतालों और होटलों को सरकार के नियत्रंण में लेने की गुहार लगायी गयी है. याचिका में बीपीएल, गरीब और जरूरमंदों कोरोना मरीजों का निशुल्क इलाज करने की गुहार की गयी है.