जयपुर VIDEO: हाउसिंग बोर्ड की कार्यप्रणाली की चर्चा अब विदेशों तक, उपलब्धियों पर अध्ययन करने आया केन्या का प्रतिनिधिमंडल

VIDEO: हाउसिंग बोर्ड की कार्यप्रणाली की चर्चा अब विदेशों तक, उपलब्धियों पर अध्ययन करने आया केन्या का प्रतिनिधिमंडल

जयपुर: अपने असाधारण काम से देशभर में धाक जमा चुके हाउसिंग बोर्ड की कार्यप्रणाली और उपलब्धियों की चर्चा अब इंटरनेशनल लेवल पर भी होने लगी है, केन्या सरकार का एक डेलिगेशन हाउसिंग बोर्ड की उपलब्धियों और कार्यप्रणाली  का अध्ययन करने जयपुर आया है.

बीते 2 साल में अपने असाधारण काम से हाउसिंग बोर्ड ने पूरे राजस्थान में अपनी धाक जमाई है. रिकॉर्ड संपत्तियों का निस्तारण, अंतरराष्ट्रीय स्तर के प्रोजेक्ट और लोगों को सुविधाएं देने के लिए हाउसिंग बोर्ड में बीते 2 साल में एक से बढ़कर एक बड़े काम किए हैं, हाउसिंग बोर्ड की उपलब्धियों और कार्यप्रणाली को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अब उत्सुकता देखी जा रही है, इसी सिलसिले में केन्या सरकार की सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग की निदेशक लेवने निजाइना के नेतृत्व में 9 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल हाउसिंग बोर्ड की कार्यशैली, संचालित योजनाओं और प्रोजेक्टों का अध्ययन करने जयपुर आया है,

हाउसिंग बोर्ड मुख्यालय स्थित बोर्ड रूम में हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोडा ने केन्याई डेलिगेशन को कम समय में अर्जित की गई हाउसिंग बोर्ड की उपलब्धियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी. हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने डेलिगेशन को बताया कि बताया कि हाउसिंग बोर्ड ने  3 वर्ष  में  ही पारदिर्शता तरीके से ई-बिड और ई-ऑक्शन प्रक्रिया से 13 हजार 500 से अधिक सम्पत्तियों का निस्तारण किया है, हाउसिंग बोर्ड ने ई-ऑक्शन में म महज 35 कार्य दिवसों में 1010 मकान बेचे, जिससे मंडल को 162 करोड़ रूपये का राजस्व मिला, इसी कीर्तिमान को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस, लंदन द्वारा भी मान्यता प्रदान की गई है। इसके बाद बुधवार नीलामी उत्सव के तहत ई-बिड सबमिशन योजना में 12 दिनों में 185 करोड रूपये मूल्य की 1213 सम्पत्तियों का विक्रय कर फ़िर से अन्तर्राष्ट्रीय कीर्तिमान बनाया है, इस रिकॉर्ड को भी वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस, लंदन द्वारा भी मान्यता प्रदान की गई है, हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर ने केन्याई डेलिगेशन को वर्तमान में चल रहे प्रमुख प्रोजेक्टों कोचिंग हब, सिटी पार्क, फाउंटेन स्क्वायर, विधायक आवास परियोजना, कॉन्स्टीट्यूशन क्लब ऑफ राजस्थान, जयपुर चौपाटियों और आवासीय योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी. हाउसिंग बोर्ड की उपलब्धियों और कार्यशैली से केन्याई  डेलिगेशन काफी प्रभावित नजर आया केन्या सरकार के प्रतिनिधमंडल ने कहा कि कमिश्नर पवन अरोड़ा के नेतृत्व में जिस तरह हाउसिंग बोर्ड को को रिवायव किया गया है, वह हमारे लिए केस स्टडी है,,, केन्याई प्रतिनिधिमंडल हाउसिंग बोर्ड की कार्यप्रणाली से इतना प्रभावित हुआ कि उन्होंने केन्या में भी हाउसिंग बोर्ड की तर्ज पर काम करने की बात कही है, हाउसिंग बोर्ड की तर्ज पर केन्या में भी अब  ई-ऑक्शन और ई-बिड सबमिशन योजना को लागू किया जाएगा,,केन्याई प्रतिनिधमंडल ने हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर   केन्या आकर उनकी टीम को प्रशिक्षित करने का आग्रह भी किया है.

हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा के आग्रह के बाद केन्याई डेलिगेशन प्रताप नगर स्थित चौपाटी में पहुंचा, प्रताप नगर चौपाटी में  डेलिगेशन में लाइव बैंड के बीच लजीज व्यंजनों का स्वाद चखा, चौपाटी के माहौल से डेलिगेशन इतना अभिभूत नजर आया डेलिगेशन के सभी सदस्यों ने चौपाटी की अलग-अलग दुकानों पर जाकर अपने मोबाइलों से तस्वीरें और सेल्फी ली, लाइव बैंड की शानदार परफॉर्मेंस से केन्याई डेलिगेशन अपने आप को थिरकने से नहीं रोक पाया, डेलीगेशन सदस्यों ने लाइव बैंड पर स्टेज पर स्थानीय लोगों के साथ जमकर डांस किया, केन्या के डेलिगेशन ने चौपाटी में स्थानीय लोगों से भी खूब बातें की और उनके साथ कई तस्वीरें भी खिंचवाई, इस मौके पर केन्याई डेलिगेशन की प्रमुख लेवने निजाइना ने कहा कि यहां आ कर उन्हें बहुत अच्छा लगा है, उन्होंने  कहा कि वह विश्व के कई देशों में गए हैं  लेकिन इस तरह की चौपाटी उन्होंने पहली बार देखी है, चौपाटी की गुणवत्ता की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि वह केन्या में भी इसी तरह की चौपाटी का निर्माण करेंगे, डेलिगेशन के एक और सदस्य ने चौपाटी की तारीफ करते हुए कहा कि वह सभी विदेशी पर्यटकों को कहना चाहेंगे कि अगर वह इंडिया में घूमने जा रहे हैं तो जयपुर की चौपाटी में जरूर जाएं,

केन्याई डेलिगेशन को हाउसिंग बोर्ड की उपलब्धियां और कार्यशैली इतनी पसंद आई है कि उन्होंने हाउसिंग बोर्ड की तर्ज पर केन्या में भी ई ऑक्शन जैसे प्रयोग शुरू करने की बात कही है, बीते करीब 3 सालों में हाउसिंग बोर्ड ने जिस तरह की उपलब्धियां हासिल की हैं उन्हें केन्या के डेलिगेशन ने भी अपने लिए केस स्टडी माना है, ऐसे में यह कहा जा सकता है कि सिर्फ देश प्रदेश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी हाउसिंग बोर्ड के काम का डंका बज रहा है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र सिंह परमार की रिपोर्ट

और पढ़ें