महाराणा प्रताप को महान स्वीकार न करना देशद्रोह के समान : देवनानी

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/01/03 08:12

जयपुर (ऐश्वर्य प्रधान)। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के बाद अब सूबे में कांग्रेस सरकार आने के साथ ही शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के एक के बाद एक आए बयानों ने भाजपा को नया मुद्दा दे दिया है। भाजपा सरकार में शिक्षा मंत्री रहे वासुदेव देवनानी ने आज कांग्रेस के बयानों पर खुलकर पलटवार किया और शिक्षा का कांग्रेसीकरण किए जाने के आरोप लगाए।

पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार शिक्षा के कांग्रेसीकरण और तुष्टिकरण में जुट गई है। शिक्षा मंत्री द्वारा महाराणा प्रताप को महान स्वीकार न करना देश के बलिदानियों और वीरों का अपमान है। देवनानी ने इसे देशद्रोह करार दिया है। देवनानी ने कहा कि महाराणा प्रताप देश की शान है। साथ ही अकबर को आक्रांता बताया और कहा कि अकबर के खिलाफ स्वाधीनता के लिए प्रताप ने लड़ाई लड़ी है।

देवनानी ने कहा कि पिछली भाजपा सरकार ने पाठ्यक्रम में महाराणा प्रताप, वीर दुर्गादास, महाराजा सूरजमल, पृथ्वीराज चौहान, गोविन्द गुरू, वीर सावरकर, भगत सिंह, दीनदयाल उपाध्याय, डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, डॉ. भीमराव अम्बेडकर, ज्योतिबा फुले, स्वामी विवेकानन्द, स्वामी दयानन्द, भास्कराचार्य, आर्यभट्ट, महावीर, कपिल मुनि, गोगाजी, तेजाजी, दादू दयाल, निम्बार्काचार्य, महर्षि दधीच तथा परशुराम सहित अनेक महापुरूषों व समाज सुधारकों के विषय को पाठ्यक्रम में जोड़ा और बढ़ाया था। साथ ही कोठारी आयोग का जिक्र किया और कहा कि अंग्रेजों ने भारतीय शिक्षा के मूल विचार को यूरोप केन्द्रित किया था, जिसे भारत केन्द्रित करना आवश्यक है। शिक्षा का लक्ष्य ज्ञानवान, विचारवान, सुयोग्य, सुसंस्कृत, देशभक्त नागरिकों का निर्माण करना होता है।

भाजपा का कहना है कि तिरंगा झंडे में भगवा रंग है, उगते हुए सूर्य का रंग भगवा होता है, सन्यासियों के वस्त्र भगवा होते हैं और भगवा रंग त्याग व समर्पण का प्रतीक है। इसलिए कांग्रेस यह बताएं कि उसे भगवा रंग से चिढ़ क्यों है। भाजपा के आरोप हैं कि शिक्षा का बंटाधार कांग्रेस में किया था। प्रदेश को शिक्षा के क्षेत्र में 26वें स्थान से दूसरे स्थान पर लाना, बोर्ड परीक्षा परिणाम 57 प्रतिशत से बढ़ाकर 80 प्रतिशत करना, नामांकन बढ़ाना तथा स्टाफ की कमी को दूर करने को यदि बंटाधार कहा जायेगा तो शिक्षा मंत्री की बुद्धि पर प्रश्न खड़े होंगे।

देवनानी ने कहा कि कांग्रेस के समय प्रदेश में 4,400 विद्यालय उच्च माध्यमिक स्तर के थे, जिनको बढ़ाकर वसुंधरा सरकार ने 13,000 से अधिक किया। प्रदेश की प्रत्येक ग्राम पंचायत तक उच्च माध्यमिक विद्यालय बनाए, आंगनबाड़ी केन्द्रों को विद्यालयों से जोड़ा, अच्छे भवन बनाए। इस प्रकार अनेक कार्य करते हुए प्रदेश में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने का हमने काम किया। अच्छा होता कि शिक्षा मंत्री इन विकास कार्यों को आगे बढ़ाने की बात करते। बहरहाल, ऐसे में इन तमाम बयानों से एक बात तो साफ है कि आगामी दिनों में भाजपा को सदन से सड़क तक लड़ने के मुद्दे तो मिल ही गए हैं, लेकिन प्रश्न ये होगा कि इन मुद्दों पर भाजपा कार्यकर्ताओं का आम जनता कितना साथ देगी।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in