क्या आप जानते हैं, क्या है एग्जिट पोल और यह कैसे किया जाता है?

Pawan Tailor Published Date 2018/12/08 04:01

जयपुर। राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के मतदान समाप्त होने के बाद चुनावी परिणामों को लेकर एग्जिट पोल भी आ चुके हैं। राजस्थान की बात करें तो इन एग्जिट पोल्स के मुताबिक यहां भाजपा की सरकार की विदाई होने और कांग्रेस की सरकार बनने का अनुमान जताया गया है। वहीं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना को लेकर असमंजस की स्थिति है। पांचों राज्यों के असली चुनावी नतीजे 11 दिसंबर को सामने आएंगे, तभी ये पता चल पाएगा कि एक्जिट पोल में जो दावे किए गए हैं, वो चुनाव परिणाम के कितने करीब पहुंच पाते हैं।

ऐसे में यह जानना भी काफी रौचक होता है कि आखिर ये एग्जिट पोल्स होते क्या हैं और  इन्हें किस तरह से किया जाता है। एग्जिट पोल्स वोट करके पोलिंग बूथ के बाहर आए लोगों से बातचीत या उनके रुझानों पर आधारित होते हैं और इनके जरिए अनुमान लगाया जाता है कि नतीजों का झुकाव किस ओर हो सकता है। चुनावी सर्वे कई प्रकार के होते हैं, जिनमें ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल भी शामिल हैं। चलिए, ये जानते हैं कि एग्जिट पोल्स के बारे में तमाम जानकारियों के बारे में...

क्या होता है ओपिनियन पोल?
ओपिनियन पोल का सीधा मतलब है जनता की राय। जनता की राय को समझने या मापने के लिए अलग–अलग तरह के वैज्ञानिक तरीकों का प्रयोग किया जाता है। इस सर्वे में मुख्य रूप से सैंपल साइज पर जोर होता है। जिसका जितना बड़ा सैंपल साइज होता है, उसके नतीजे उतने सही होने के करीब होते हैं।


क्या है एग्जिट पोल और कैसे किया जाता है?
एग्जिट पोल को मतदान वाले दिन ही किया जाता है। इसमें मतदान देने के तुरंत बाद जब मतदाता पोलिंग बूथ से बाहर निकलता है, तो उससे उसकी राय पूछी जाती है और फिर उसका विश्लेषण किया जाता है। मतलब यह है कि जब मतदाता वोट डालने के बाद मतदान केन्द्र से बाहर निकलता है तो उससे बात कर यह जानने का प्रयास किया जाता है कि उसने किसे वोट दिया होगा। इस प्रक्रिया को व्यापक स्तर पर यानि मतदाताओं की एक बड़ी तादाद के साथ किया जाता है। इसके बाद मतदाताओं की जो राय सामने आती है उसे ही एग्जिट पोल कहा जाता है। एग्जिट पोल को हमेशा मतदान समाप्त होने के बाद ही दिखाया जाता है।

क्या होता है प्री—पोल?
ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल में भी दो प्रकार के पोल होते हैं, जिनमें एक प्री—पोल और दूसरा पोस्ट पोल होता है। चुनाव की घोषणा के बाद और मतदान की तिथि से पहले जो सर्वे होते हैं, उन्हें प्री—पोल कहा जाता है। इसमें मतदाताओं से उनकी राय जानी जाती है कि वह चुनाव में किसे वोट देने वाले हैं।

क्या है पोस्ट पोल?
पोस्ट पोल हमेशा मतदान के बाद किया जाता है। यानी कि मतदान के अगले दिन या फिर उसके एक—दो दिन बाद किए जाने वाले सर्वे को पोस्ट पोल कहा जाता है। इसमें भी मतदाता से उसकी राय लेकर उसके वोट का अन्दाजा लगाया जाता है। चूंकि वोट देने के तुरंम बाद मतदाता सही से अपनी राय नहीं बताता है और वोट देने के दो—तीन दिन बाद जो राय देता है, वह उसके द्वारा दिए गए वोट के ज्यादा करीब होती है। ऐसे में प्री—पोल और एग्जिट पोल की अपेक्षा पोस्ट पोल के अनुमान चुनाव परिणाम के ज्यादा करीब पहुंच पाते हैं।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

कर्नाटक में कांग्रेस विधायक दल की बैठक कल

Big Fight Live | नीति और ​नीयत का \'अभिभाषण\' | 17 JAN, 2018
जानिए पुत्र प्राप्ति के महा टोटका |Good Luck Tips
गुफ्तगू एक्टर यजुवेंद्र प्रताप, एक्ट्रेस रश्मि मिश्रा के साथ
\'नेशन विद नमो\' वॉलेंटियर कार्यक्रम
दिल्ली में सर्द मौत का शतक
नरेंद्र मोदी-अमित शाह का \'मास्टर स्ट्रोक\'
पत्रकार छत्रपति हत्याकांड मामले में आज मिलेगी दोषी गुरमीत राम रहीम को सजा
loading...
">
loading...