Live News »

अब साकार होगा कोटा के एनसीसी कैड्टस का पायलट बनने का सपने

अब साकार होगा कोटा के एनसीसी कैड्टस का पायलट बनने का सपने

कोटा। कोटावासियों के लिये भले ही हवाई सेवा शुरू नहीं हो पाई हो, लेकिन शिक्षा नगरी के एनसीसी कैड्टस के लिए अच्छी खबर है। कोटा में 11 साल बाद एनसीसी एयरविंग कैडेट्स छोटा विमान माइक्रोलाइट प्लेन उड़ाने की अपनी हरसत पूरी करेंगे। आज से दो साल पहले लाए गए दो माइक्रोलाइट प्लेन में से एक की प्लेन की आज सफलता के साथ फ्लाइंग टेस्टिंग हो गई है।

ऐसे में अप्रेल माह में कोटा के एनसीसी एयरविंग के कैडेटस इन प्लेन को उड़ाते हुए कोटा एयरपोर्ट पर नजर आएंगे और कैडेट्स की पायलट बनने की उम्मीदों को पंख लगेंगे। कोटा एयरपोर्ट के एनसीसी एयरविंग सेवन राज के हैंगर से माइक्रोलाइट प्लेन को बाहर हवाई पट्टी पर लाया गया, जिसकी जोधपुर से कोटा आए विंग कमांडर पीएस पंवार ने पहले एनसीसी के एयरविंग के अधिकारियों के सहयोग से विमान की टेस्टिंग की।

विंग कमांडर पीएस पंवार ने प्लेन को 4 से 5 बार रनवे की ओर अपडाउन किया और उनके लिए यह पल रोमांच से भरे थे। विंग कमांडर ने कोटा शहर के उपर आकाश में प्लेन को करीब 30 से 40 मिनट तक फ्लाइंग करवाई। एनसीसी एयरविंग सेवन राज की ओर से विमान की टेस्टिंग के दौरान एयरपोर्ट पर पूरे सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए थे, ताकि टेस्टिंग के दौरान किसी प्रकार की चूक न रहे।

एनसीसी कैडेटस के प्रशिक्षण के लिए एनसीसी एयरविंग हैंगर में ऐसे तीन छोटे माइक्रोलाइट विमान मौजूद हैं, जिनमें अप्रेल माह में कैडेट्स उड़ान भरते हुए इन प्लेन में अपने पायलट बनने के सपने को साकार करेंगे। कोटा में एनसीसी एयरविंग कैडेट्स को इन विमानों को उड़सने का मौका मिलेगा। यहां एयरविंग में कुल 1350 स्कूल व कॉलेज के कैडेटस हैं, जिन्हें प्लेन उड़ाने व पायलट बनने की ट्रेनिंग नियमित मिल सकेगी।

और पढ़ें

Most Related Stories

VIDEO: मुख्यमंत्री गहलोत के बड़े फैसले, करापवंचन के प्रकरणों के लिए राज्य स्तर पर विशेष न्यायालय होगा गठित 

जयपुर: प्रदेश में एक तरफ कोरोना और सियासी संकट है, तो दूसरे तरफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जयपुर में बैठकर राजकाज निपटा रहे हैं. मुख्यमंत्री गहलोत ने शनिवार को चार अहमों फाइलों का निस्तारण करते हुए जनता से जुड़े कामों को हरी झंडी दी. सियासी संकट का असर मानो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर बिलकुल नजर नहीं आ रहा. पिछले तीन दिनों से मुख्यमंत्री गहलोत एक के बाद एक बड़े फैसले ले रहे हैं. शुक्रवार को सीएम गहलोत ने भर्तियों की अहम फाइले निपटाई थी, तो शनिवार को चार बड़े फैसले किए.

फैसला नंबर एक
-करापवंचन के प्रकरणों के लिए विशेष न्यायालय गठित होगा
-विभिन्न कम्पनियों के डीमर्जर के दस्तावेजों और
-ऋण दस्तावेजों आदि में कर चोरी रोकने का प्रयास
-जयपुर में  DIG (मुद्रांक) करापवंचन का विशेष न्यायालय गठित होगा

VIDEO: बसपा वाले 6 विधायकों को लेकर बोले कल्ला, कोर्ट से खिलाफ फैसला आने पर भी रणनीति तैयार

फैसला नंबर दो
-राज्य एवं जिला स्तरीय समितियों के गठन को मंजूरी
-एफपीओ से मिलेंगे किसानों को आय के अधिक अवसर
-2023-24 तक 10 हजार नए कृषक उत्पादक संगठन (एफपीओ) के गठन का लक्ष्य
-कृषि विभाग के ACS/प्रमुख सचिव/ सचिव की अध्यक्षता में गठित होगी कमेटी
-प्रदेश में खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का होगा विस्तार
-राज्य एवं जिला स्तरीय समितियों के गठन को मंजूरी
-कलक्टर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय समितियों का गठन होगा

फैसला नंबर तीन
-नवसृजित एवं क्रमोन्नत 16 तहसीलों तथा उप-तहसीलों का मामला
-तहसीलदार एवं नायब तहसीलदारों को पंजीयन के अधिकार
-अधिसूचना के प्रारूप का अनुमोदन किया है
-इन क्षेत्रों के आमजन को दस्तावेजों के पंजीयन में सुविधा होगी
-नवसृजित तहसील अरथूना (बांसवाड़ा), रायपुर (झालावाड़), सेखाला (जोधपुर) तथा -उप-तहसील से क्रमोन्नत तहसील उच्चैन (भरतपुर), पावटा (जयपुर), डग (झालावाड़), कानोड़ (उदयपुर), देलवाड़ा (राजसमन्द) एवं नवसृजित उप-तहसील कनेरा (चित्तौड़गढ़), खेजरोली (जयपुर), सांकड़ा (जैसलमेर), कुड़ी भगतासनी (जोधपुर), मंडरेला (झुंझुनूं), राहूवास एवं भाण्डारेज (दौसा) तथा खेरली मंडी (अलवर) के
तहसीलदारों एवं नायब तहसीलदारों को पंजीयन का अधिकार प्रदान किया जाएगा.

युजवेंद्र चहल की धनश्री वर्मा संग शादी हुई पक्की, रोका सेरेमनी की फोटो ट्विटर पर की शेयर

फैसला नंबर चार
-नजूल सम्पत्तियों के लिए गठित समिति का मामला
-अब समिति में सहायक पुलिस आयुक्त सदस्य होंगे
-उप पुलिस अधीक्षक के स्थान पर ACP होंगे सदस्य
-सामान्य प्रशासन सम्पदा विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी
-जयपुर में पुलिस कमिश्नरेट प्रणाली के कारण लिया फैसला
-पुलिस उप अधीक्षक का पदनाम सहायक पुलिस आयुक्त हो गया है

राज्य स्तरीय समिति गठित करने को दी मंजूरी:
इसी के साथ मुख्यमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत कार्यक्रम के तहत प्रदेश में अधिक से अधिक खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना एवं उनके विस्तार के लिए कृषि विभाग के प्रमुख सचिव की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय समिति गठित करने को मंजूरी दी है. उन्होंने जिला कलक्टर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय समितियाें के गठन के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी है.  गौरतलब है कि आत्मनिर्भर भारत कार्यक्रम के तहत केन्द्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना एवं विस्तार के लिए योजना प्रारम्भ की है. इस योजना के तहत इन इकाइयों की स्थापना एवं विस्तार के लिए 10 लाख रूपए तक के अनुदान का प्रावधान है. केन्द्र प्रवर्तित इस योजना में केन्द्र और राज्य के बीच 60ः40 के अनुपात में वित्तीय भागीदारी का प्रावधान है. सम्पूर्ण देश में 2 लाख खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना तथा विस्तार के लिए 10 हजार करोड़ का प्रावधान किया गया है.

युजवेंद्र चहल की धनश्री वर्मा संग शादी हुई पक्की, रोका सेरेमनी की फोटो ट्विटर पर की शेयर

युजवेंद्र चहल की धनश्री वर्मा संग शादी हुई पक्की, रोका सेरेमनी की फोटो ट्विटर पर की शेयर

नई दिल्ली: इंडियन क्रिकेट टीम के दिग्गज गेंदबाज युजवेंद्र चहल (yuzvendra chahal) की शनिवार धनश्री वर्मा के साथ रोका सेरेमनी हुईं.हो गया. युजवेंद्र (yuzvendra chahal) ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके ये जानकारी अपने करोड़ों फैन्स को दी, और उनके सोशल मीडिया अकाउंट पर फैन्स ने शुभकामनाएं और बधाई देना भी शुरू कर दिया.

आईपीएल के बाद करेंगे शादी:
जानकारी के मुताबिक डॉक्टर धनश्री वर्मा पेशे से कॉरियोग्राफर हैं. इस नई नवेली जोड़ी ने यह खुशी सोशल मीडिया पर एक फोटो शेयर करते हुए अपने फैंस के साथ शेयर की. उन्होंने फोटो को शेयर करते लिखा कि हमने अपने परिवारों के साथ 'हां' कहा. ऐसी उम्मीद है कि दोनों आईपीएल के बाद ही शादी करेंगे.

एक दूजे के होंगे राणा दग्गुबाती और मिहिका बजाज, आज शादी के बंधन में बंध जाएंगे दोनों 

इंस्टाग्राम पर शेयर की सेरेमनी की फोटो: 
आपको बता दें कि चहल की होने वाली दुल्हन का नाम धनश्री वर्मा है. धनश्री ने भी अपने इंस्टाग्राम पर चहल के साथ रोका सेरेमनी की फोटो शेयर की है. मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक धनश्री एक डॉक्टर हैं और साथ ही उनका एक यू-ट्यूब चैनल भी है.

चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा बोले, कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के किए जाएंगे प्रयास 

चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा बोले, कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के किए जाएंगे प्रयास 

 चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा बोले, कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के किए जाएंगे प्रयास 

जयपुर: प्रदेश में कोरोना की मृत्युदर में तेजी से गिरावट आ रही है. जहां प्रदेश में एक समय 2.34 प्रतिशत मृत्युदर थी वहीं अब यह 1.5 फीसद तक आ चुकी है. ये कहना है चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा का. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना से होने वाली मृत्युदर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जा रहे है.डॉ. शर्मा ने कहा कि प्रदेश में व्यापक स्तर पर जांचें की जा रही हैं, यही वजह है कि पॉजिटिव की संख्या में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है. जितना जल्दी हम पॉजिटव की पहचान कर सकेंगे उतनी ही जल्द कोरोना के प्रसार को नियंत्रित कर सकेंगे. रघु शर्मा ने कहा कि विभाग ने प्रतिदिन 45 हजार से ज्यादा जांचें करने की क्षमता विकसित कर ली है. 

80 प्रतिशत तक मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए:
उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव होने का अनुपात भी अन्य प्रदेशों की तुलना में खासा बेहतर है. प्रदेश में 80 प्रतिशत तक मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं. वर्तमान में 70 से 80 प्रतिशत मरीज समुचित उपचार के जरिए दुरुस्त होकर घर पहुंच रहे हैं.डॉ. शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार कोरोना की रोकथाम के लिए पूरी तरह सजग और सतर्क है. सरकार द्वारा प्रदेश भर में कोरोना जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है, जिससे लोगों में मास्क लगाने, भीड़ या समूह में ना जाने, बार-बार साबुन से हाथ धोने जैसी आदत के प्रति जागरूकता आई है. शहरों के अलावा अब गांवों में भी लोग सजगता दिखाने लगे हैं.

जैसलमेर में PCC चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा-BJP की बाड़ेबंदी ने साबित किया कि साजिश हुई थी

आरटीपीसीआर है खरा टेस्ट
रघु शर्मा ने कहा कि अब तक आरटीपीसीआर टेस्ट ही खरा साबित हुआ है. आईसीएमआर द्वारा सुझाए एंटीजन टेस्ट पॉजिटिव को नेगेटिव और नेगेटिव को पॉजिटिव बता रहा है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार केंद्र सरकार से एंटीजन किट की लगातार मांग कर ही है, लेकिन केंद्र सरकार द्वारा उपलब्ध नहीं कराए गए. उन्हें डर है कि कहीं एंटीजन टेस्ट का भी हाल रैपिड टेस्टिंग किट जैसा ना हो, जिसे राजस्थान द्वारा खारिज किए जाने पर पूरे देश में प्रतिबंध लगाना पड़ा था. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा विदेशी कंपनियों से कोरोना जांच की सुविधा लेना जान जोखिम में डालना जैसा है. 

जरूरतमंदों को लगाए जा रहे हैं निःशुल्क जीवनरक्षक इंजेक्शन:
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में 40 हजार की लागत के जीवनरक्षक इंजेक्शन (टोसिलीजूमेब व रेमडीसीविर) भी आमजन को मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल के जरिए निःशुल्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि जिन मरीजों को भी ये इंजेक्शन लगाए हैं, उनका परिणाण भी सुखद रहा है. उन्होंने कहा कि मरीजों के इलाज के लिए बजट की कोई कमी नहीं है. 

VIDEO: विधायक संयम लोढ़ा ने किया भाजपा पर पलटवार, कहा-चोर के घर चांदणा

VIDEO: आखिर कहां तक जा सकती कल्पना की उड़ान? इन दिनों वसुंधरा राजे के संदर्भ में चल रहा कुछ ऐसा ही...

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच भाजपा नेता भी सक्रिय हो गए हैं. पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शुक्रवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर प्रदेश के राजनीतिक हालात पर चर्चा की. वहीं कल राजस्थान के समाचार पत्रों में प्रकाशित एक सनसनीखेज खबर ने राजनीतिक गलियारों में हलचल मचा दी. भाजपा के 46 विधायकों के साथ राजे द्वारा कोई नई पार्टी बनाने की खबर देखकर खुद वसुंधरा राजे सकते में आ गई. ऐसे में अब सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा हो रहा है कि कल्पना की उड़ान आखिर कहां तक जा सकती है? क्योंकि मौजूदा राजनीतिक हालात में कोई दूर-दूर तक ऐसा नहीं सोच सकता तो फिर आखिर किन लोगों ने मीडिया में ऐसी खबर 'प्लान्ट' करवाई.  

VIDEO: 2 बार की मुख्यमंत्री हैं वसुंधरा राजे उनकी सलाह की जरूरत हुई तो लेंगे- सतीश पूनिया  

यह खबर देख दिल्ली ने भी मैडम को किया बाकायदा फोन: 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह खबर देख दिल्ली ने बाकायदा मैडम को फोन किया और मैडम से इस खबर का सच जानना चाहा? इस पर राजे ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि आप खुद ही पता लगवा लीजिए. अब जानकार सूत्रों ने इस बात के संकेत दिए है कि आलाकमान इन खबरों की सच्चाई का पता लगा सकता है. आलाकमान के हाथ बहुत लंबे है और केवल 24 घंटे में ही अपनी एजेंसियों से आलाकमान सच्चाई का पता लगा सकता है. कुल मिलाकर भाजपा की यह अंदरूनी गुटबाजी कोई अच्छा संकेत नहीं है. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के बाद अब BJP ने भी शुरू की बाड़ेबंदी, इन 12 विधायकों को अहमदाबाद भेजने की सूचना!  

मुख्यमंत्री पद के संभावित भाजपाई उम्मीदवारों में मची भागदौड़:
जानकारों की माने तो इस बढ़ती गुटबाजी का शायद एक कारण यह भी है कि राजस्थान में सीएम पद की कोई 'वैकेंसी' नहीं होने के बावजूद मुख्यमंत्री पद के संभावित भाजपाई उम्मीदवारों में भागदौड़ मची है. वहीं मुख्यमंत्री पद की इस भागदौड़ को देखकर खुद पायलट खेमा भी हैरान है. क्योंकि सीएम बनने की दौड़ में पायलट कैंप अभी स्वयं को सबसे आगे मान रहा है. 


 

नाबालिग से दुष्कर्म के बाद हत्या, अधेड़ को पुलिस ने हिरासत में लिया

नाबालिग से दुष्कर्म के बाद हत्या, अधेड़ को पुलिस ने हिरासत में लिया

परबतसर(नागौर): पीलवा थाना क्षेत्र के बाजोली गांव में एक शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है. एक 60 वर्षीय अधेड़ ने अपनी पुत्री के समान नाबालिग से दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी. मृतक के नाना ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई कि मेरी दोहिती ललिता उम्र 10 वर्षी जन्म से ही अपने नाना के पास ननिहाल में रहती है. 

VIDEO: उदयपुर में बच्चों पर अमानवीयता का वीडियो वायरल, चोरी के आरोप में 3 बच्चों को अर्धनग्न कर पूरे बाजार में घुमाया 

नाबालिग लड़की भेड़ बकरियां चराने के लिए चारागाह में गई हुई थी: 
नाबालिग लड़की भेड़ बकरियां चराने के लिए चारागाह में गई हुई थी. इस दौरान मेरी दोहिती को अकेला देखर दमुराम पुत्र कानाराम राईका उम्र 60 वर्षीय जो भी चारागाह में पशु चरा रहा था बच्ची को अकेला देखकर उसके साथ दुष्कर्म किया. दुष्कर्म के बाद आरोपी ने उसकी हत्या कर दी और सबूत मिटाने के लिए शव को नाड़ी के किचड़ में डाल दिया. 

केन्द्रीय मंत्री कैलाश चौधरी कोरोना पॉजिटिव, जोधपुर एम्स में भर्ती 

60 वर्षीय अधेड़ अपना जुर्म किया कबूल: 
ऐसे में नाबालिग जब शाम तक घर नहीं पहुंची तो परिजनों ने इसकी सूचना थाने में दी. जिस पर पुलिस ने एक 60 वर्षीय अधेड़ को हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया. सूचना पर मकराना सीओ सुरेश कुमार सांवरिया, एडिशन एसपी संजय गुप्ता, पीलवा थाना प्रभारी राधेश्याम चौधरी, परबतसर सीआई सुखराम चौटिया मौके पर पहुंचे तथा मौका मुआयना किया. इस दौरान परिजनों व समाज के लोगों ने शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम व मुआवजे की मांग को लेकर मकराना सीओ सुरेश कुमार सांवरिया को ज्ञापन भी सौंपा. 

VIDEO: उदयपुर में बच्चों पर अमानवीयता का वीडियो वायरल, चोरी के आरोप में 3 बच्चों को अर्धनग्न कर पूरे बाजार में घुमाया

उदयपुर: जिले के झाड़ोल थाना क्षेत्र के हाथ खाखड गांव में तीन बालकों पर चोरी का आरोप लगाकर अर्धनग्न कर बाजार में घुमाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने आरोपी केशु लाल प्रजापत के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है. 

केन्द्रीय मंत्री कैलाश चौधरी कोरोना पॉजिटिव, जोधपुर एम्स में भर्ती  

अर्धनग्न कर पूरे बाजार में घुमाया: 
दरअसल, गांव के रहने वाले केशु लाल प्रजापत ने अपने मकान में चोरी के आरोप में तीन भाइयों को पकड़ा और उनके साथ मारपीट की. इसके बाद उन्हें अर्धनग्न कर पूरे बाजार में घुमाया. इस घटनाक्रम का वीडियो वायरल होने पर झाड़ोल थाना पुलिस हरकत में आई और अब पूरे मामले की जांच कर की जा रही है. फर्स्ट इंडिया न्यूज़ की खबर के बाद इस मामले में बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ने भी पुलिस अधीक्षक से तथ्यात्मक जानकारी प्रस्तुत करने को कहा है. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के बाद अब BJP ने भी शुरू की बाड़ेबंदी, इन 12 विधायकों को अहमदाबाद भेजने की सूचना!

केन्द्रीय मंत्री कैलाश चौधरी कोरोना पॉजिटिव, जोधपुर एम्स में भर्ती

केन्द्रीय मंत्री कैलाश चौधरी कोरोना पॉजिटिव, जोधपुर एम्स में भर्ती

जोधपुर: केन्द्रीय राज्य मंत्री कैलाश चौधरी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. चौधरी का दिल्ली के एम्स में सैम्पल दिया गया था जहां से आज उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी इन दिनों बाड़मेर जैसलमेर के दौरे पर है. चौधरी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद हाल ही में उनसे मिले लोगों में हड़कंप मच गया है. वहीं इसी के चलते संक्रमित होने की जानकारी मिलते ही चौधरी जैसलमेर दौरा छोड़कर जोधपुर एम्स में भर्ती हो गए हैं. 

VIDEO: 2 बार की मुख्यमंत्री हैं वसुंधरा राजे उनकी सलाह की जरूरत हुई तो लेंगे- सतीश पूनिया  

हनुमान बेनिवाल और किरोड़ी लाल मीणा भी कोरोना पॉजिटिव मिले थे: 
इससे पहले नागौर सांसद हनुमान बेनिवाल और राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा भी कोरोना पॉजिटिव मिले थे. हालांकि इन दोनों नेताओं का स्वास्थ्य अब ठीक है. सांसद हनुमान बेनीवाल की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद शुक्रवार को उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया. इससे पहले किरोड़ी लाल मीणा भी अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं. वहीं देश के गृहमंत्री अमित शाह और एमपी के मुख्यमंत्री समेत कई दिग्गज नेता कोरोना की बीमारी से जूझ रहे हैं. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के बाद अब BJP ने भी शुरू की बाड़ेबंदी, इन 12 विधायकों को अहमदाबाद भेजने की सूचना!  

VIDEO: 2 बार की मुख्यमंत्री हैं वसुंधरा राजे उनकी सलाह की जरूरत हुई तो लेंगे- सतीश पूनिया

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा है कि वसुंधरा राजे 2 बार की मुख्यमंत्री है उनकी सलाह की जरूरत हुई तो लेंगे. इसके साथ ही उन्होंने कैलाश मेघवाल को लेकर कहा कि पार्टी की उनसे बात हुई है उसके बाद उनका कोई बयान नहीं आया. उन्होंने कहा कि उनकी उम्र नहीं कि उन्हें बाड़ेबंदी में शामिल किया जाए. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के बाद अब BJP ने भी शुरू की बाड़ेबंदी, इन 12 विधायकों को अहमदाबाद भेजने की सूचना!  

हम लोग विपक्ष में है सरकार को घेरने का काम हम करेंगे: 
सतीश पूनिया ने कहा कि 2 साल से कई तरह की चर्चाएं होती है. हमारी पार्टी में न तो कोई विग्रह बाकी है और कोई भी गॉसिप होती रहे हमे उससे कोई फर्क नहीं पड़ता. उन्होंने कहा कि हम लोग विपक्ष में है और सरकार को घेरने का काम हम करेंगे. 30 प्रश्न एक विधायक लगा सकता है तो हमारे विधायक भी सत्र में अधिकाधिक प्रश्न लगाएंगे. हम कांग्रेस की हर रणनीति का जवाब देने के लिए तैयार है. राजेंद्र राठौड़ को रणनीति के पता नहीं होने पर पूनिया ने कहा कि कई बार एक घर में पति-पत्नी को भी कई बातें पता नहीं होती. 

 VIDEO: नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया का बयान, कहा- 11 तारीख के निर्णय के बाद ही हम तय करेंगे आगे क्या करेंगे 

भाजपा विधायकों की बाड़ेबंदी को लेकर दिया जवाब: 
भाजपा विधायकों की बाड़ेबंदी को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने बयान देते हुए कहा कि विधायकों को शिफ्ट करना गैरकानूनी नहीं है. आवश्यक हुआ तो उन्हें जयपुर बुलाया जाएगा. हमारी 45 विधायकों से बातचीत हुई है इसे दूसरे नजरिया से देखने की आवश्यकता नहीं है. उन्होंने कहा कि सत्र के बाद सभी चीजें मीडिया के सामने रखूंगा. हमने जिलों के हिसाब से विधायकों को कैटेराइज्ड किया है. 2 महीने से कांग्रेस वाले पड़े है तो हमारे वाले भी 7 दिन घूमकर आ जाएंगे. 

Open Covid-19