जवान बेटे की मौत के शोक में डूबा था परिवार, सांत्वना देने पहुंचे ग्रामीणों ने की फसल की कटाई

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/04/18 10:28

जैसलमेर। एक ओर परिवार पर नौजवान बेटे की मौत का वज्रपात हुआ और दूसरी ओर खेत में पूरे वर्ष की मेहनत से तैयार हुई गेहूं और जीरे की फसल की कटाई की भी चिंता परिवार को दिनों दिन दुख के भवसागर में डुबो रही थी। जहां परिवार के सभी सदस्य इस दुख से जूंझ रहे थे उसी दौरान परिवार के दुख को देख धौलिया गांव के सभी ग्रामीण परिवार को सहायता देने पहुंच गए। ग्रामीण दुख की घड़ी में डूबे परिवार को सांत्वना देने पहुंचे साथ ही परिवार के खेत में पक कर तैयार हुई गेहूं और जीरे की फसल की कटाई कर भाईचारा और साम्प्रदायिक सौहार्द का उत्कृष्ट उदाहरण दिया।

विपरीत परिस्थिति में आगे आया पूरा गांव  
धौलिया गांव में कुछ दिन पूर्व सड़क पार करने के दौरान स्कोर्पियो की चपेट में आने गांव के भागीरथराम पूनिया के बेटे सहदेव (24) की मौत हो गई थी। जिसके कारण पूरा परिवार शोक सतृत्प था। परिवारजन की आंखों से आंसू ओझल ही नहीं हो रहे थे। ऐसे में धौलिया गांव के ग्रामीणों ने शोक में डूबे परिवारजनों की मदद करने की ठानी और खेत में पकी जीरे और गेहूं की फसल की कटाई कर उसे थ्रेसर से मड़ाई की।

100 ग्रामीणों ने की फसल की कटाई
दरअसल शोक में डूबे परिवार की खेती बाड़ी और घर की जिम्मेदारी उठाने वाला एकाएक आंखों से ओझल हो गया। ग्रामीणों व रिश्तेदारों ने जैसे-तैसे परिवार को संभाला। मगर खेत में गेहूं और जीरे की फसल पक चुकी थी। इधर मौसम विभाग ने भी चार दिन अंधड़ व बारिश की चेतावनी जारी की। ऐसी स्थिति में शोक जताने आने वाले लोगों ने ही तय किया कि वे फसल लेने में मदद करेंगे। मंगलवार को करीब 100 ग्रामीण जिसमें 40 महिलाएं और 60 पुरुष खेत में फसल काटने में जुट गए। दोपहर तक खेत में खड़ी जीरा व गेहूं की फसल को इकट्ठा कर दिया। इस तरह गांव के ग्रामीण महिलाओं और पुरुषों ने परिवार की मदद कर एक अच्छी मिशाल कायम की।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in