Live News »

चक्रवाती तूफान ‘फैनी’ ले सकता है प्रचंड रूप, ओडिशा में 'येलो वार्निंग', यूपी में भी अलर्ट

चक्रवाती तूफान ‘फैनी’ ले सकता है प्रचंड रूप, ओडिशा में 'येलो वार्निंग', यूपी में भी अलर्ट

नई दिल्ली। चक्रवाती तूफान ‘फैनी’ काफी खतरनाक होता नजर आ रहा है । शुक्रवार दोपहर तक यह ओडिशा के तटीय इलाकों से टकराएगा और ‘तितली’ से ज्यादा तबाही मचा सकता है। पिछले साल ओडिशा में ‘तितली’ तूफान से 60 लोगों की मौत हो गई थी। भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने ‘फैनी’ के संबंध में 'येलो वार्निंग' जारी किया है। मौसम विभाग ने ओडिशा, पश्चिम बंगाल और आंध्रप्रदेश के कुछ हिस्से के लिए चक्रवात का अलर्ट जारी किया है और तटीय इलाकों को खाली करने का सुझाव दिया है। 

‘फैनी’ अगले 36 घंटे में बेहद खतरनाक तूफान में तब्दील हो जाएगा और 1 मई की शाम को उत्तरपश्चिम की ओर बढ़ेगा। इसके बाद यह ओडिशा की ओर रुख करेगा। पर्यटकों को गुरुवार शाम तक पुरी को छोड़ने की सलाह दी गई है। प्रशासन ने एतिहातन दो मई से सभी स्कूल-कॉलेज को भी बंद कर दिया है। सभी परीक्षाओं की डेट भी आगे बढ़ा दी गई है। 

यूपी में भी अलर्ट
उत्तर प्रदेश में भी ‘फैनी’ चक्रवात के संबंध में चेतावनी दी गई है। किसानों से कहा गया है कि 2 और 3 मई को भयंकर बारिश हो सकती है। किसानों से फसलों को बचाने की सलाह भी दी गई है।

तेजी से बढ़ रहा ‘फैनी’ 
मौसम विभाग के अलर्ट डिपार्टमेंट का अनुमान है कि‘फैनी’ का प्रभाव दक्षिण-पश्चिम, पश्चिम-मध्य और दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी की ओर है। यह ओडिशा के पुरी से 760 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम, विशाखापत्तनम के 560 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व और त्रिणकोमली से 660 किलोमीटर उत्तरपूर्व(श्रीलंका) में है। 

सुरक्षाबल अलर्ट पर 
वायुसेना, नौसेना और तटरक्षक बलों को अलर्ट पर हैं और जरूरत पड़ने उनकी सेवाओं का इस्तेमाल किया जाएगा। प्रशासन ने 2 मई से  ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है। 

और पढ़ें

Most Related Stories

गुजरात: अहमदाबाद के कोरोना अस्पताल में आग लगने से 8 मरीजों की मौत, PM मोदी ने की मुआवजे की घोषणा

गुजरात: अहमदाबाद के कोरोना अस्पताल में आग लगने से 8 मरीजों की मौत, PM मोदी ने की मुआवजे की घोषणा

अहमदाबाद: गुजरात में अहमदाबाद के एक कोविड-19 अस्पताल में आज भीषण आग लगने से बड़ा हादसा हो गया. आग की घटना में अस्पताल में इलाज करा रहे  8 मरीजों की मौत हो गई. इन आठ मरीजों में तीन महिलाएं हैं. आग की घटना के बाद करीब 40 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट किया गया है. ये हादसा नवरंगपुरा के श्रेय अस्पताल में विस्फोट से हुआ है. 

Coronavirus in India: 24 घंटे में मिले कोरोना के 56 हजार से ज्यादा नए मरीज, मृतकों का आंकड़ा 40 हजार के पार 

पीएम मोदी ने हादसे पर दुख जताया:
पीएम मोदी ने हादसे पर दुख जताया है और शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए घायलों के जल्द ठीक होने की कामना की है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि अहमदाबाद के अस्पताल में आग लगने से दुखी हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना है. घायल लोगों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं. इस घटना को लेकर गुजरात के सीएम विजय रूपाणी और अहमदाबाद के मेयर से बात की है. प्रशासन प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान कर रहा है.

PM मोदी ने की मुआवजे की घोषणा:
पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय राहत कोष (PMNRF) से प्रत्येक मृतक के परिजनों को 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है. आग लगने से जो लोग घायल हुए हैं उन लोगों को 50,000 रुपये दिया जाएगा.

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार 

मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश: 
सीएम विजय रुपाणी ने अहमदाबाद के श्रेय अस्पताल में आग लगने की घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं. अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह विभाग) संगीता सिंह जांच का नेतृत्व करेंगी. सीएम ने तीन दिन में रिपोर्ट देने का आदेश दिया है. यह जानकारी मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा दी गई है. 

Coronavirus in India: 24 घंटे में मिले कोरोना के 56 हजार से ज्यादा नए मरीज, मृतकों का आंकड़ा 40 हजार के पार

Coronavirus in India: 24 घंटे में मिले कोरोना के 56 हजार से ज्यादा नए मरीज, मृतकों का आंकड़ा 40 हजार के पार

नई दिल्ली: भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा होता जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 56,283 नए मामले सामने आए हैं और 904 लोगों की मौत हुई है. ऐसे में अब देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 19,64,537 हो गई है. जिनमें से 5,95,501 सक्रिय मामले हैं, 13,28,337 लोग ठीक हो चुके हैं और अब तक 40,699 लोगों की मौत हो चुकी है. 

कोटा ACB की रामगंजमंडी में बड़ी कार्रवाई, नगरपालिका ईओ पंकज मंगल एक लाख की घूस लेते ट्रैप 

महाराष्ट्र में इस वक्त सबसे ज्यादा एक्टिव केस:  
देश में इस वक्त सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र में हैं. अब तक राज्य में 4.57 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. इनमें 10 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी भी शामिल हैं. इसके बाद दूसरे नंबर पर तमिलनाडु, तीसरे नंबर पर कर्नाटक, चौथे नंबर पर आंध्र प्रदेश और पांचवे नंबर पर दिल्ली है. इन पांच राज्यों में सबसे ज्यादा एक्टिव केस हैं.  

दुनियाभर में मरने वालों की संख्या सात लाख 11 हजार से ज्यादा: 
दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना के कहर से लगातार जूझ रही है. वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, इस वायरस से मरने वालों की संख्या सात लाख 11 हजार से ज्यादा हो गई है और संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ 89 लाख 74 हजार को पार कर गया है. जबकि एक करोड़ 21 लाख 62 हजार से ज्यादा लोगों ने कोरोना को मात दी है. 

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार 

भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश: 
भारत कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश है. अमेरिका, ब्राजील के बाद कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित भारत है. लेकिन अगर प्रति 10 लाख आबादी पर संक्रमित मामलों और मृत्युदर की बात करें तो अन्य देशों की तुलना में भारत की स्थिति बहुत बेहतर है. देश में कोरोना मामले बढ़ने की रफ्तार भी दुनिया में तीसरे नंबर पर बनी हुई है.


 

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार

नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता मनोज सिन्हा को जम्मू-कश्मीर का नया उपराज्यपाल नियुक्त किया गया है. इससे पहले बुधवार शाम को गिरीश चंद्र मुर्मू ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. जीसी मुर्मू ने ऐसे समय में इस्तीफा दिया, जब बुधवार को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का एक साल पूरा हुआ है. जम्मू-कश्मीर पूर्ण राज्य था तब मुर्मू से पहले सत्यपाल मलिक यहां के राज्यपाल थे, लेकिन जब केंद्र शासित प्रदेश बना तो अधिकारी जीसी मुर्मू को वहां भेजा गया.

6 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त, आज के दिन जन्मे जातक होते हैं बुद्धिवान और भाग्यवान 

31 अक्टूबर को मुर्मू को उपराज्यपाल नियुक्त किया गया था: 
पिछले साल पांच अगस्त को मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त कर दिये थे और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया था. इसके बाद 31 अक्टूबर को मुर्मू को उपराज्यपाल नियुक्त किया गया था. 1985 बैच के आईएएस अधिकारी मुर्मू के इस्तीफे के कारणों पर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. 

सिन्हा 2019 का लोकसभा चुनाव हार गए थे: 
मनोज सिन्हा पूर्व में गाजीपुर से सांसद रहे हैं और पूर्वी यूपी में बीजेपी के बड़े चेहरे हैं. हालांकि सिन्हा 2019 का लोकसभा चुनाव हार गए थे. मनोज सिन्हा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में मंत्री रह चुके हैं और उनके पास रेलवे के राज्यमंत्री और संचार राज्यमंत्री का कार्यभार था.

Horoscope Today, 6 August 2020: गुरुवार को चमकेंगे इन पांच राशि वालों के सितारे, करें ये उपाय  

मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे आगे थे:
बता  दें कि बीजेपी को यूपी के 2017 के विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत मिलने पर मनोज सिन्हा मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे आगे थे. इस दौरान वो दिल्ली से वाराणसी पूजा करने गए थे और इस उम्मीद में थे कि सीएम पद की शपथ लेंगे. लेकिन पार्टी ने योगी आदित्यनाथ को आगे किया. उसके बाद प्रधानमंत्री के भरोसेमंद होने के चलते उन्हें अब यह बड़ी जिम्मेदारी दी गई है. 


 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी

अयोध्या: अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन पूरा हो गया है और पीएम मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रख दी है. उसके बाद प्रधानमंत्री ने राम मंदिर के शिलापट जारी किया, इसके साथ ही डाकटिकट भी जारी किया. पीएम मोदी को यहां भगवान राम की मूर्ति भेंट की गई. उन्होंने कहा कि मेरा सौभाग्य है मुझे ट्रस्ट ने ऐतिहासिक पल के लिए आमंत्रित किया. 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

आज पूरा भारत राममय हो गया: 
प्रधानमंत्री ने कहा कि करोड़ों लोगों को इस बात का विश्वास ही नहीं हो रहा होगा कि वो अपने जीते-जी इस कार्य को शुरु होते हुए देख रहे हैं. राम जन्मभूमि आज मुक्त हुई है और आज पूरा भारत राममय हो गया है. रामलला बरसों तक टेंट में रहे थे, लेकिन अब भव्य मंदिर बनेगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि गुलामी के कालखंड में आजादी के लिए आंदोलन चला है, 15 अगस्त का दिन उस आंदोलन का और शहीदों की भावनाओं का प्रतीक है. ठीक उसी तरह राम मंदिर के लिए कई-कई सदियों तक पीढ़ियों ने प्रयास किया है, आज का ये दिन उसी तप-संकल्प का प्रतीक है. राम मंदिर के चले आंदोलन में अर्पण-तर्पण-संघर्ष-संकल्प था. 

मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा:
उन्होंने कहा कि राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा. पूरी दुनिया से लोग यहां आएंगे, यहां के लोगों के लिए अवसर बनेगा. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के चलते भूमि पूजन कार्यक्रम अनेक मर्यादाओं के बीच चल रहा है. उन्होंने कहा कि इस मंदिर के साथ इतिहास खुद को दोहरा रहा है, जिस तरह गिलहरी से लेकर वानर, केवट से लेकर वनवासी बंधुओं को राम की सेवा करने का सौभाग्य मिला.

राम मंदिर नर से नारायण को जोड़ने का प्रतीक: 
प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया के लोग इस भव्य राम मंदिर के बनने के बाद यहां प्रभु राम और माता जानकी के दर्शन के लिए आएंगे. ये राम मंदिर वर्तमान को अतीत से जोड़ने का प्रतीक होने के साथ साथ नर से नारायण को जोड़ने का प्रतीक है. आज पूरा भारत राममय, हर मन रोमांचित और हर घर दीपमय है. उन्होंने कहा कि श्रीराम का मंदिर हमारी संस्कृति का आधुनिक प्रतीक बनेगा. हमारी शाश्वत आस्था का प्रतीक बनेगा, राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा और ये मंदिर करोड़ों-करोड़ों लोगों की सामूहिक शक्ति का भी प्रतीक बनेगा.

बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय का मामला, हाई कोर्ट विधानसभा अध्यक्ष को नोटिस जारी कर कल सुबह 10.30 बजे तक मांगा जवाब 

भारत की ये शक्ति पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का विषय:
प्रधानमंत्री ने कहा कि लोगों के सहयोग से राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हुआ है, जैसे पत्थर पर श्रीराम लिखकर रामसेतु बना, वैसे ही घर-घर से आई शिलाएं श्रद्धा का स्त्रोत बन गई हैं. ये न भूतो-न भविष्यति है. उन्होंने कहा कि भारत की ये शक्ति पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का विषय है. राम हर जगह हैं, भारत के दर्शन-आस्था-आदर्श-दिव्यता में राम ही हैं. तुलसी के राम सगुण राम हैं, नानक-तुलसी के राम निगुण राम हैं. भगवान बुद्ध-जैन धर्म भी राम से जुड़े हैं. तमिल में कंभ रामायण है, तेलुगु, कन्नड़, कश्मीर समेत हर अलग-अलग हिस्से में राम को समझने के अलग-अलग रुप हैं. उन्होंने कहा कि राम सब जगह हैं, राम सभी में हैं. विश्व की सबसे अधिक मुस्लिम जनसंख्या इंडोनेशिया में है, वहां पर भी रामायण का पाठ होता है. दुनिया के न जाने कितने छोर हैं जहां की आस्था में और न जाने कितने रूपों में राम को लोग आराध्य मानते हैं. ऐसे सभी देशों में राम मंदिर के निर्माण के शुरू होने से उत्साह है. अयोध्या में बनने वाला राम मंदिर सिर्फ हमारे लिए नहीं , पूरी मानवता को प्रेरणा देता रहेगा. क्योंकि राम तो सबके हैं, राम तो सबमें हैं.


 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

अयोध्या: अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन पूरा हो गया है और पीएम मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रख दी है. भूमि पूजन की सभी प्रक्रिया करने के बाद प्रधानमंत्री ने शुभ मुहूर्त के वक्त शिला रखी. प्रधानमंत्री ने शिला रखकर वहां भूमि पर प्रणाम किया. अयोध्या इस ऐतिहासिक घटना की साक्षी बनी और वहां मौजूद लोग जय श्रीराम का उद्घोष कर रहे हैं. पीएम मोदी ने ठीक 12.44.08 बजे शिला रखी. पूजा के दौरान 9 शिलाओं का अनुष्ठान किया गया, इसके अलावा भगवान राम की कुलदेवी काली माता की भी पूजी की गई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर भूमि पूजन के अनुष्ठान में हिस्सा लिया और पूजा की सभी विधियां पूरी की. RSS प्रमुख मोहन भागवत, यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी इस दौरान मौजूद रहे. पंडितों को इस भूमि पूजन के बाद पीएम मोदी की तरफ से दक्षिणा दी गई है. 

राममय हुई अयोध्या:
राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले अयोध्या राममय हो गई है. हर तरफ राम नाम का संकीर्तन हो रहा है. जय श्रीराम के नारे की गूंज सुनाई दे रही है. हल्की बारिश भी हो रही है. हालांकि, कार्यक्रम स्थल पर वाटरप्रूफ टेंट लगाए गए हैं.

भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे:
भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे, पांच मंडप वाले और 161 फुट ऊंचे इस मंदिर को दुनिया के बेहतरीन मंदिरों में से गिना जाएगा. इसके खंभों में किसी तरह के लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी के फावड़े और कन्नी का इस्तेमाल करेंगे.

चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा:
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अयोध्या की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति और वाहन की जांच की जा रही है. कई इलाकों में रूट डायवर्ट किए गए हैं.


 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: अयोध्या में विधिवत रूप से जारी है पूजा का कार्यक्रम, पंडित मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे

Ram Mandir Bhoomi Pujan: अयोध्या में विधिवत रूप से जारी है पूजा का कार्यक्रम, पंडित मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे

अयोध्या: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस समय अयोध्या में राम जन्मभूमि पूजन कर रहे हैं और तमाम मंत्रोच्चार के बीच राम जन्मभूमि का सालों का इंतजार खत्म हो गया है. पंडित और मुख्य यजमान इस समय मंदिर निर्माण से पहले समस्त भगवान के आह्वान के मंत्र पढ़ रहे हैं. RSS प्रमुख मोहन भागवत, यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद हैं.

मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे: 
राम जन्मभूमि पूजन को संपन्न कराने वाले पंडित मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे हैं. भूमि पूजन का लाइव प्रसारण भी किया जा रहा है और बड़े एलईडी स्क्रीन के जरिए समस्त उपस्थितगण भी इसको देख पा रहे हैं.

भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे:
भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे, पांच मंडप वाले और 161 फुट ऊंचे इस मंदिर को दुनिया के बेहतरीन मंदिरों में से गिना जाएगा. इसके खंभों में किसी तरह के लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी के फावड़े और कन्नी का इस्तेमाल करेंगे.

चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा:
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अयोध्या की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति और वाहन की जांच की जा रही है. कई इलाकों में रूट डायवर्ट किए गए हैं.

Ram Mandir Bhoomi Pujan: पीएम मोदी ने किया रामलला को साष्टांग दंडवत प्रणाम, पारिजात का पौधा लगाया

Ram Mandir Bhoomi Pujan: पीएम मोदी ने किया रामलला को साष्टांग दंडवत प्रणाम, पारिजात का पौधा लगाया

अयोध्या: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामलला के दर्शन किए, उनकी पूजा की. इस दौरान पीएम ने साष्टांग दंडवत प्रणाम किया और परिसर में पारिजात का पौधा लगाया. अब पीएम मोदी यहां भूमि पूजन कर रहे हैं और इसी के साथ राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया विधिवत रूप से शुरू हो रही है.

40 किलो चांदी की ईंट से रखी जाएगी मंदिर की नींव:
पीएम मोदी अयोध्या पहुंचेंगे. भूमि पूजन के दौरान वो 40 किलो की चांदी की ईंट राममंदिर की नींव में रखी जाएगी. इसके बाद वो मंदिर परिसर में पारिजात का पौधा लगाएंगे. सबसे पहले वो हनुमान गढ़ी में दर्शन के लिए जाएंगे. 

सवा लाख लड्डू होंगे तैयार: 
भूमि पूजन समारोह के लिए अयोध्या में करीब सवा लाख लड्डू तैयार हो रहे हैं. इन्हें प्रसाद के रूप में पूरे देश में वितरित किया जाएगा.

भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे:
भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे, पांच मंडप वाले और 161 फुट ऊंचे इस मंदिर को दुनिया के बेहतरीन मंदिरों में से गिना जाएगा. इसके खंभों में किसी तरह के लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी के फावड़े और कन्नी का इस्तेमाल करेंगे.

चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा:
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अयोध्या की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति और वाहन की जांच की जा रही है. कई इलाकों में रूट डायवर्ट किए गए हैं.

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की, थोड़ी देर में राम मंदिर का भूमि पूजन

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की, थोड़ी देर में राम मंदिर का भूमि पूजन

अयोध्या: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंचने के बाद सीधे हनुमानगढ़ी मंदिर पहुंचे. पीएम मोदी ने यहां पूजा की, उन्हें यहां पर पगड़ी पहनाई गई. उसके बाद प्रधानमंत्री रामजन्मभूमि पहुंच गए हैं. अब से कुछ देर में पीएम रामलला की पूजा करेंगे. जिसके बाद भूमि पूजन शुरू होगा. 

40 किलो चांदी की ईंट से रखी जाएगी मंदिर की नींव:
पीएम मोदी अयोध्या पहुंचेंगे. भूमि पूजन के दौरान वो 40 किलो की चांदी की ईंट राममंदिर की नींव में रखी जाएगी. इसके बाद वो मंदिर परिसर में पारिजात का पौधा लगाएंगे. सबसे पहले वो हनुमान गढ़ी में दर्शन के लिए जाएंगे. 

सवा लाख लड्डू होंगे तैयार: 
भूमि पूजन समारोह के लिए अयोध्या में करीब सवा लाख लड्डू तैयार हो रहे हैं. इन्हें प्रसाद के रूप में पूरे देश में वितरित किया जाएगा.

भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे:
भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे, पांच मंडप वाले और 161 फुट ऊंचे इस मंदिर को दुनिया के बेहतरीन मंदिरों में से गिना जाएगा. इसके खंभों में किसी तरह के लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी के फावड़े और कन्नी का इस्तेमाल करेंगे.

चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा:
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अयोध्या की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति और वाहन की जांच की जा रही है. कई इलाकों में रूट डायवर्ट किए गए हैं.

Open Covid-19