छोटे से गांव मानपुरा का किसान बना देश का हीरो, लोग कहते थे पागल

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/25 11:10

झालावाड़। भारत सरकार ने राष्ट्रीय पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। सरकार ने भारत रत्न के लिए जहां प्रणव मुखर्जी, नानाजी देशमुख व भूपेन हजारीका के नामों की घोषणा की है, वहीं पद्मश्री पुरस्कारों की सूची में झालावाड़ के छोटे से गांव मानपुरा के किसान का नाम भी है। झालावाड़ के हुकुम चंद पाटीदार को जैविक खेती में उत्कृष्ट योगदान के लिए पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा।

खास बातचीत में हुकुम चंद पाटीदार ने बताया कि पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर बहुत खुशी का अनुभव हो रहा है। देश को आजाद होने के बाद से अब तक किसानों को बंधुआ मजदूरों की दृष्टि से देखा जाता था।

ऐसे में वर्तमान सरकार ने देश के अन्नदाता जो अपने आप को खेत खलीहानों में खपा देता है और व्यस्ततम जीवन जीता है ऐसे किसान को पद्मश्री जैसा पुरस्कार देकर एक बहुत बड़ा काम किया है।

सभी किसानों के लिए गर्व की बात है कि उन्होंने इस पुरस्कार का श्रेय उन सभी किसानों को दिया जो शुरुआत से उनसे जुड़े हुए हैं। अभी तक उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए। उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों को भी श्रेय देते हुए कहा कि पैदावार में कमी होने के बाद भी लगातार मेरा परिवार मेर साथ खड़ा रहा और मेरा उत्साहवर्धन किया। दरअसल हुकुम चंद पाटीदार का एक संयुक्त परिवार से हैं और चार भाई हैं। उनके संयुक्त परिवार में कुल 22 सदस्य हैं पाटीदार ने बताया कि उनकी जैविक खेती की यात्रा 2003 में शुरू हुई, जब भारत सरकार के तत्कालीन रणनीतिकार, राजनीतिक व समाज के लोगों जैविक खेती को हेय दृष्टि से देखते थे  इसका कोई महत्व नहीं समझा जाता था। उनकी यह सोच थी कि इस खेती से पैदावार घटेगी, जिससे देश के अरबों लोगों को पालना मुश्किल हो जाएगा। 

उन्होंने लक्ष्य बनाया कि कृषि में परिवर्तन करेंगे और जिस समय देश सोने की चिड़िया कहा जाता था और उत्तम गुणवत्ता की जो अपेक्षा हमारे देश से कि जाती थी वो हम वापस लाने का प्रयास करेंगे, इसी विचार के साथ हमने काम करना शुरू किया।

पाटीदार ने बताया कि प्रकृति से जुड़े हुए जीव जैसे पशुधन, कछुआ, माइक्रोन्यूट्रेंस व ऑर्गेनाइज्म ये सभी जीव कहीं ना कहीं हमें कृषि में मदद करते हैं। रासायनिक पदार्थों के प्रयोग इन जीवों के लिए जहर का काम करता है। रासायनिक पदार्थों के उपयोग के चलते जैव विविधता खत्म होती जा रही है। उन्होंने बताया कि अगर इन जीवों को नहीं बचाया गया तो यह देश व धरती पंगु हो जाएगी। चारों ओर विनाश का ही मंजर नजर आएगा। इसी बात को ध्यान में रखकर उन्होंने जैविक खेती को अपनाया।

पाटीदार ने किसानों को संदेश दिया कि जो किसान जितना जल्दी जैविक खेती को बनाएगा वह उतना जल्दी आर्थिक रूप से मजबूत होगा और अपनी जमीन की उर्वरता बचाने में भी कामयाब होगा। इसलिए अपने देश, परिवार व जमीन के हित के लिए जैविक खेती को अपनाया जाना चाहिए। इस प्राकृतिक खेती के उत्पादन से लोग शक्तिशाली एवं स्वस्थ जीवन जी सकेंगे इसलिए देश के किसानों को जैविक खेती की ओर धीरे धीरे कदम बढ़ाना चाहिए।

लोग उसे पागल समझते थे और उसकी शोध को बेमानी चीजें समझते थे क्या कभी ऐसा संभव है जो हुकम चंद सोच रहा है लेकिन दुनिया की परवाह ना करते हुए अपने लक्ष्य में जुटा रहा यहां तक की कई साल गुजार दिए अपनी तकनीक को ईजाद करने के लिए लेकिन आज जो उसे मिला  उस पर देश गर्व कर रहा है । 

अब पदम्श्री लगेगा हुकम चंद पाटीदार के आगे यह उसके लिए किसी अचंभे से कम नही सपने की तरह लग रहा है इस किसान को कुछ साल पहले सत्यमेव जयते में पहली बार हुकम चंद पाटीदार ने देश के सामने आकर जैविक खेती के बारे में बताया। इसके बाद से ही हुकमचंद पाटीदार देश दुनिया की नजर में चमकने लगा था लेकिन फिर भी लगातार अपने प्रयासों से नित नए प्रयोग से आज उसने वो मकाम हासिल कर लिया जिसकी लोग कल्पना ही कर सकते थे क्या कहते हैं पागल व्यक्ति ही ऐसे करता है जो कुछ कर गुजरने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है चाहे दुनिया उसे पागल ही क्यों न कहे।

आज यह किसान लोगों के लिये मिसाल बन गया, लोग इनकी मिसाल देने लगे है इनका अनुसरण करने लगे है । देश मे जगह जगह व्याख्यान देने जाते है देश विदेश से इनके पास छात्र शोध करने आने लगे है । 

...आरिफ मंसूरी फर्स्ट इंडिया न्यूज झालावाड़

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

GST कौंसिल की बैठक

चाणक्य के साथ BJP कोर कमेटी ने किया मंथन
Goa Gets a New CM in the Wee Hours; BJP’s Pramod Sawant Takes Oath
Big Fight Live : मिलेगा टिकट या गिरेगा विकेट?
उमा भारती का कांग्रेस पर जुबानी प्रहार
जानिये सैलरी में शानदार इन्क्रीमेंट दिलवाने वाला एक चमत्कारी टोटका
तो फिर किसका करेंगे सलमान खान प्रचार ?
प्रियंका की बोट यात्रा के सियासी मायने