कोरोना के इलाज में असरदार नजर आ रही इस दवा के ट्राइल को भारत ने दी मंजूरी, जगी उम्मीद की किरण

कोरोना के इलाज में असरदार नजर आ रही इस दवा के ट्राइल को भारत ने दी मंजूरी, जगी उम्मीद की किरण

कोरोना के इलाज में असरदार नजर आ रही इस दवा के ट्राइल को भारत ने दी मंजूरी, जगी उम्मीद की किरण

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की दवा और वैक्सीन की खोज में आशा की किरण दिखाई दी है. भारत में कोरोना की वैक्सीन के लिए फेवीपिरवीर दवा का क्लिनिकल ट्रायल होगा. यह दवा चीन और जापान जैसे पूर्वी एशियाई देशों में इन्फ्लूएंजा के मरीजों को दी जाती है. ऐसे में CSIR के डायरेक्‍टर जनरल शेखर मांडे ने इस दवा के क्लिनिकल ट्रायल के लिए मंजूरी दे दी है. ऐसे में अब दुनियाभर की नजर भारत में फेवीपिरवीर दवा के क्लिनिकल ट्रायल पर रहेगी.

Lockdown effect: माता-पिता वीडियो कॉल के जरिए बने बेटी की शादी के गवाह, सात समंदर पार से दादी ने देखी ऑनलाइन शादी

फेवीपिरवीर क्या है?
फेवीपिरवीर एक एंटीवायरल दवा है जिसका उपयोग जापान और चीन में इन्फ्लूएंजा के इलाज के लिए किया जाता है. इसे एविगन ब्रांड के तहत बेचा जाता है. इस दवा की कई वायरल संक्रमणों के इलाज के लिए शोध किया जा रहा है. यह दवा मुख्य रूप से जापान की टोयामा केमिकल बनाती है. 

अन्य दवा के मुकाबले यह दवा वायरल को तेजी से कम करने में मददगार:
जानकारी के अनुसार चीन में कोरोना के इलाज के लिए इस दवा पर स्टडी की जा रही है. एक स्टडी में पाया गया कि अन्य दवा के मुकाबले यह दवा वायरल को तेजी से कम करने में मददगार है. हालांकि कुछ मरीजों में दवा के साइड इफेक्ट्स भी देखे गए. चीन के अनुसार इस दवा के अच्छे परिणाम मिले हैं. साथ ही बताया कि ये दवा बहुत सुरक्षित है और मरीजों के उपचार में साफ तौर पर बहुत प्रभावी है. 

लॉकडाउन के साइड इफेक्ट्स: भारत में दिसंबर तक पैदा हो सकते हैं दो करोड़ से ज्यादा बच्चे, दुनियाभर में बढ़ेगी जन्म दर

दवा को लेकर फिलहाल पुख्ता जानकारी नहीं:
मार्च में इटली ने भी कोरोना की प्रायोगिक दवा के रूप में फेवीपिरवीर दवा के इस्तेमाल को मंजूरी दी और कोरोना से बुरी तरह प्रभावित अपने तीन क्षेत्रों में इसका परीक्षण शुरू किया. हालांकि इटली की एक फार्मास्यूटिकल कंपनी के अनुसार इस दवा को लेकर फिलहाल पुख्ता तौर पर नहीं कहा जा सकता कि ये कितनी कारगर होगी. 


 

और पढ़ें