ऐतिहासिक फैसले, शानदार बजट और कई अहम विधेयक के साथ विधानसभा का पहला बजट सत्र संपन्न

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/06 09:25

जयपुर: ऐतिहासिक फैसले, शानदार बजट और कई अहम विधेयक पास करने के साथ ही 15वीं विधानसभा का पहला बजट सत्र सोमवार को संपन्न हो गया. 27 जून से शुरू हुए बजट सत्र के दौरान कुल 21 बैठकें हुई. इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष द्वारा लागू की गई कड़ी व्यवस्था भी चर्चा का विषय बनी रही.  

कभी शानदार वाद विवाद, तो कभी विपक्ष का सत्ता पक्ष पर आक्रमण, कभी सदस्यों में नोकझोंक, तो कभी स्पीकर द्वारा की गई कड़ी कार्रवाई, कभी छीटाकशी, तो कभी हंसी के फुहारे, कभी गीत-संगीत तो कभी राजस्थानी कहावतें. कभी बहिर्गमन, तो कभी धरना प्रदर्शन और नारेबाजी. कभी नेता प्रतिपक्ष द्वारा सरकार को घेरना, तो कभी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रभावी प्रदर्शन से विपक्ष का निरुत्तर होना. जी हां कुछ इस तरह ही गुजरा है राजस्थान विधानसभा का बजट सत्र. एक महीने से अधिक समय तक चले इस बजट सत्र के दौरान सदन में राजनीति के कई रंग देखने को मिले. लेकिन साथ ही विधायकों को अपने क्षेत्र की जनता की समस्याओं को उठाने का बेहतरीन मौका भी मिला और पहली बार चुनकर आए विधायकों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका भी. 

- इस सत्र में कुल 7292 प्रश्न प्राप्त हुए, जिनमें से 7277 प्रश्नय स्वीकृत किये गये

- स्वीकृत प्रश्नों में तारांकित प्रश्न  3220 एवं अतारांकित प्रश्नए 4057 हैं.  

- कुल 477 तारांकित प्रश्न  सूचीबद्ध हुए, जिनमें से 222 प्रश्न मौखिक रूप से पूछे गये एवं उनके उत्तर दिये गये.

- 64 विधायकों ने स्थंगन प्रस्तांवों के माध्यम से अपने विचार रखे. जिनमें 22 विषयों पर राज्य सरकार की ओर से स्थिति स्पष्ट की गई.  

-   नियम-295 के अंतर्गत 190 विशेष सूचनाएं आयी, जिनमें से 75 सूचनाओं के संबंध में राज्य सरकार से जानकारी प्राप्त हुई. 

- ध्यानाकर्षण के लिए 639 प्रस्तावों की सूचनाएं प्राप्त‍ हुई उनमें से 284 के उत्तर राज्य  सरकार से प्राप्तं हो गये है. 

- कुल 28 प्रस्ताव सदन में संबंधित मंत्री का ध्यान आकर्षित करने हेतु कार्य-सूची में सूचीबद्ध किये गये.  

- 10 जुलाई को आय-व्ययक अनुमान वर्ष 2019-2020  पर 4 दिन डिबेट हुई जिसमें 106 माननीय सदस्यों ने भाग लिया. सदन में कुल 23.13 घंटे वाद विवाद हुआ. 

- वर्तमान सत्र में कुल 15 विधेयक पुर:स्थापित किये जाकर सभी 15 विधेयक सदन द्वारा पारित किये गये. 

- 55 सदस्यों को उनके द्वारा दी गई पर्ची के आधार पर बोलने का अवसर प्रदान किया गया- विभिन्न समितियों के कुल 28 प्रतिवेदन सदन में उपस्थापित किये गये. 

- सत्र में कुल 20 गैर सरकारी संकल्प प्राप्त हुए. 

बजट सत्र के दौरान राज्यो में किसानों के कर्जे, पेयजल एवं बिजली पर तीन दिन चर्चा की गई. बजट सत्र के दौरान विधानसभा अध्यक्ष डॉक्टर सीपी जोशी ने नई व्यवस्था भी लागू की जिसका सभी सदस्यों ने सम्मान किया हालांकि कई बार नोकझोंक भी देखने को मिली. इस सत्र के दौरान ही विधानसभा में दो विशेष कार्यक्रम भी आयोजित हुए जिसमें पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह व लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने हिस्सा लिया. बजट सत्र की समाप्ति के साथ ही विधायक अपने-अपने क्षेत्रों की तरफ लौट चुके हैं और साथ में लेकर गए हैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा दी गई कई सौगातें और विधान सभा द्वारा बढ़ाए गए वेतन भत्तों का पुरस्कार. अब देखना यह है कि विधानसभा में प्रभावी प्रदर्शन करने के बाद अब यह सदस्य अपने क्षेत्र की जनता के बीच जाकर कैसा प्रदर्शन करते हैं. 

....योगेश शर्मा, ऐश्वर्य प्रधान और ऋतुराज के साथ नरेश शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज़ जयपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in