कल से शुरू हो रहा है प्यार का महापर्व, जानिये मोहब्बत की शुरूआत गुलाब से ही क्यों

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/02/06 02:26

कल यानी 7 फरवरी से वेलेंटाइन वीक की शुरुवात रोज डे से शुरू जाएगी। प्यार में रोज की महत्वता क्या है, यह बात बाजार को अच्छी तरह से मालूम है। यही कारण है कि रोज डे के आने से पहले ही, बाजारों में गुलाब खिल उठते हैं। इस समय सबसे ज़्यादा डिमांड महंगे फूलों की नहीं, बल्कि गुलाब की है। 

संसार में क्या कुछ नहीं है। इक्षाओं, अभिलाषों तथा आकांक्षाओं से दुनिया भरी हुई है, और उन्हें पूरा करने के लिए तरह तरह के भौतिक संसाधन उपलब्ध है। लेकिन सबकुछ छोड़कर प्यार ने गुलाब को ही क्यों चुना? प्यार में आखिर गुलाब ही इतना महत्वपूर्ण क्यों है? प्रशन यह भी है कि वेलेंटाइन वीक की शुरूवात गुलाब से ही क्यों हो, क्या यह नियम खुद प्यार ने तय किया है?

इन बातों को समक्षने के लिए हमे यह जानना होगा कि प्यार में कभी भी भौतिक वस्तुओं की चाह नहीं होती। प्यार तो समर्पण का दूसरा नाम है। प्यार सिर्फ दूसरों को देना जानता है। यह भेदभाव नहीं पहचानता, ना ही इसे जाति या धर्म का बंधन मालुम है। यह आजाद है, सभी भौतिक सुखों से परे है। बड़ी से बड़ी से चीज़ और महंगी से महंगी वस्तु को ठुकरा देने वाला प्यार, गुलाब को इतनी सरलता से क्यों अपना लेता है? यह सवाल दिलचस्प है। 

दरअसल गुलाब कोई भौतिक चीज़ भर नहीं, बल्कि प्यार की अभिवयक्ति का सबसे सशक्त माध्यम है। इसमें वो ताकत है जो कठोर से कठोर इंसान के दिल को पिघला देती है। प्यार के बारे में लगभग जिन्होंने भी कुछ कहा या लिखा है, उन्होंने उसमे गुलाब का वर्णन जरूर किया है। रोमांस पर लिखने वाले ना जाने कितने ही कवियों, कहानीकारों और उपन्यासकारों ने अपनी महबूबा की तुलना गुलाब से की है, या महबूबा को ही गुलाब कहकर संबोधित किया है। 

कांटो में रहकर भी खिलने वाला गुलाब प्यार करने वालो को बहुत कुछ सिखाता है। यह बताता है कि प्यार में सिर्फ खुशिया ही नहीं मिलती, बल्कि कांटे भी मिलते हैं। काँटों से होकर ही खुशियों की प्राप्ति होती हैं। अगर आप भी किसी को सच्चे मन से चाहते है, तो देर न कीजिये। कल रोज डे के दिन, एक प्यारे गुलाब के साथ अपने दिल की बात का इजहार कर दीजिये। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

संसद हमले की 17वीं बरसी पर शहीदों को देश कर रहा है याद

गजेंद्र सिंह शेखावत पहुंचे जयपुर, मीडिया से की खास बातचीत
मध्यप्रदेश में ही रहेंगे \'मामा\'
मणिपुर के जज के हिन्दू राष्ट्र वाले बयान पर सियासी घमासान
मध्यप्रदेश में कांग्रेस जीत गई लेकिन दिग्गज हार गए
मुख्यमंत्री का नाम अभी घोषित नही हुआ, लेकिन कार्यकर्ताओं में मारपीट शुरू हो गई
देश में अब एक महिला मुख्यमत्री रह गई
4 मिनट 24 ख़बरें | National News
loading...
">
loading...