दलाल के जरिये खेला जा रहा था घूस का खेल, लालची सीबीआई इंस्पेक्टर फरार

Navin Sharma Published Date 2019/03/08 03:30

जयपुर। राजस्थान में एसीबी की टीम इन दिनों भ्रष्टाचार के खिलाफ जमकर मुस्तैद दिखाई दे रही है। एसीबी की टीम राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में साल 2019 के शुरूआत महीनों में ही कई बड़ी कार्रवाईयों को अन्जाम दे चुकी है। इनमें नारकोटिक्स डिपार्टमेंट के उपायुक्त सहीराम मीणा का नाम भी सबसे बड़ा नाम के रूप में शामिल है। इसके अतिरिक्त एसीबी ने कई बड़े अधिकारियों को घूस का खेल खेलते हुए दबोचा है। इसी बीच आज एसीबी मुख्यालय में डीजी आलोक त्रिपाठी ने प्रेसवार्ता आयोजित कर सीबीआई इंस्पेक्टर प्रकाश चंद के बारे में जानकारी दी।

एसीबी मुख्यालय आयोजित प्रेसवार्ता में एसीबी डीजी आलोक त्रिपाठी ने कहा कि, पिछले 10 दिनों से एसीबी की टीम कार्रवाई में लगी हुई थी और आज यह कार्रवाई सफल हो पाई है। उन्होंने कहा कि आज 75 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए दलाल को पकड़ा गया है, वहीं इसमें सीबीआई इंस्पेक्टर प्रकाश चंद का नाम सामने आया है, जो कि अभी फरार चल रहा है। सीबीआई इंस्पेक्टर एक परिवादी से पहले भी 90 लाख रुपए ले चुके थे और आज फिर परिवादी को डरा धमकाकर और रुपए वसूलना चाहते थे।

प्रेसवार्ता में डीजी आलोक त्रिपाठी के साथ ही एडीजी सौरभ श्रीवास्तव और आईजी दिनेश एमएन भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि प्रदेशभर में पहली बार किसी सीबीआई अफसर के खिलाफ ऐसी कार्रवाई की गई है। अब एसीबी CBI इंस्पेक्टर प्रकाश चंद को ढूंढने का प्रयास कर रही है। त्रिपाठी ने कहा कि सीबीआई के इंस्पेक्टर प्रकाश चंद ने गृह निर्माण समिति के केस में दलाल शांतिलाल के जरिए रिश्वत मांगी थी। पूर्व में परिवादी 90 लाख की रिश्वत दे चुका था और कल शांतिलाल को 75 लाख रुपए की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया गया है। इस रकम में 30 लाख रुपए नकद व 45 लाख का चेक है।

एसीबी में डीजी एसीबी आलोक त्रिपाठी ने कहा कि सीबीआई इंस्पेक्टर प्रकाश चंद परिवादी के मुकदमों की हाईकोर्ट के आदेश अनुसार जांच कर रहा था। ऐसे में पिछले कई दिनों से सीबीआई इंस्पेक्टर परिवादी को प्रताड़ित कर रहा था। साथ ही य​ह भी सामने आया है कि सीबीआई इंस्पेक्टर प्रकाश चंद दलाल की मिलीभगत से पूरा खेल कर रहा था।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

संबंधित ख़बरे

Most Related Stories

Stories You May be Interested in