Live News »

स्वर्णनगरी में जगविख्यात मरु महोत्सव का 17 फरवरी से होगा आगाज

स्वर्णनगरी में जगविख्यात मरु महोत्सव का 17 फरवरी से होगा आगाज

जैसलमेर। देश-दुनिया में मशहूर जैसलमेर का परंपरागत तीन दिवसीय ’’ मरु महोत्सव - 2019 ’’ आगामी 17 से 19 फरवरी 2019 तक जैसलमेर में धूमधाम से आयोजित किया जाएगा। इसे लेकर पर्यटन विभाग और जैसलमेर जिला प्रशासन की ओर से व्यापक तैयारियाँ आरंभ कर दी गई हैं। इस बार यह महोत्सव नए रंगों और अभिनव आकर्षक कार्यक्रमों के साथ नयापन लिए हुए होगा और देशी-विदेशी हजारों सैलानियों को भरपूर मनोरंजन का सुकून देगा। मरु महोत्सव की तैयारियों को लेकर जिला कलक्टर नमित मेहता की अध्यक्षता में कलक्ट्रेट सभाकक्ष में प्रथम बैठक आयोजित हुई जिसमें संबंधित सभी कार्यक्रमों, तैयारियों आदि पर चर्चा की गई। 

जिला कलक्टर मेहता ने मरु महोत्सव को नवीन आकर्षणों के साथ भव्य एवं व्यापक ढंग से आयोजित करने के निर्देश देते हुए कहा कि इस बात का हरसंभव प्रयास किया जाए कि जो भी महोत्सव में आए, उसे भरपूर आनंद और आत्मसंतोष मिले तथा मीठी और अविस्मरणीय यादों के साथ लौटे। इसके लिए मरु संस्कृति से परिपूर्ण आंचलिक रंगों का भी बेहतर समावेश हो तथा स्थानीय लोगों एवं आने वाले सैलानियों की अधिक से अधिक भागीदारी हो। 

उन्होंने उप निदेशक पर्यटक स्वागत केन्द्र को निर्देश दिए कि वे रौचक एवं आर्कषक सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करें जिसमें स्थानीय ख्यातनाम लोक-कलाकारों के साथ ही विभिन्न प्रान्तों के ख्यातनाम लोक कलाकारों को आमंत्रित करें। साथ ही सभी अधिकारियों एवं महोत्सव आयोजन से संबद्धजनों से कहा कि वे मरु महोत्सव की गरिमा और गौरव के अनुरूप इस आयोजन को ऐसा बहुआयामी आकर्षण प्रदान करने पर जोर दिया ताकि सभी को यह महसूस हो कि यह उनका अपना आयोजन है। उन्होंने मेले के लिए अभी से ही व्यापक प्रचार-प्रसार करवाने के भी निर्देष प्रदान किए। जिला कलक्टर ने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे अपने जिम्मे के सभी दायित्वों को बेहतर ढंग से पूर्ण करने के लिए अभी से तैयारियां आरंभ कर दें। 

और पढ़ें

Most Related Stories

अंतरराष्ट्रीय सीमा पर नहीं है कोई लॉकडाउन, पूरा देश घरों में कैद पर सरहद की रक्षा में दिन-रात डटे जवान

अंतरराष्ट्रीय सीमा पर नहीं है कोई लॉकडाउन, पूरा देश घरों में कैद पर सरहद की रक्षा में दिन-रात डटे जवान

जैसलमेर: पाकिस्तान से लगती जैसलमेर-बाड़मेर जिले की पश्चिमी सीमा सीमा पर तैनात सहद के जवान एक और जहां सरहद की चौकस रखवाली कर रहे हैं तो दूसरी ओर अपने और अपने साथियों को कोरोना वायरस से बचाने के जतन भी करते हैं. अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर तैनात सीमा सुरक्षा बल के जवान सरहद की सुरक्षा के साथ कोरोना वायरस की घुसपैठ रोकने के लिए पूरी तरह चौकस है. देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन के चलते सीमा सुरक्षा बल के सेक्टर और बटालियन मुख्यालय सील है. जो जवान और अधिकारी बॉर्डर पर तैनात है वह 14 अप्रैल तक वहीं रहेंगे. आज फर्स्ट इंडिया भारत-पाक सीमा पर पहुंचा. 

VIDEO: चीन के सबसे बड़े कोरोना वायरस एक्सपर्ट का दावा, अगले 4 हफ्तों में सबकुछ सामान्य हो जाएगा 

जवान सैनेटाइज होकर ही चौकी पर प्रवेश करते हैं:
जैसलमेर और बाड़मेर जिला पाकिस्तान से लगता है यहां की सीमा पर सीमा सुरक्षा बल निगाहें रखे हुए हुए हैं. हर समय देश की सीमा की रखवाली करने वाले जवान कोरोना वायरस के खतरे से भी अनजान नहीं है वे इसमें अतिरिक्त सावधानी बरते हुए जो भी सुरक्षा उपाय हैं, उन्हें अपना रहे हैं. सरहद पर पहरा देने जाते वक्त और वापसी में आते ही सभी जवान सैनेटाइज होकर ही चौकी पर प्रवेश करते हैं. इतना ही नहीं वे सीमा रखवाली के दौरान भी मुंह पर मास्क होता है तो दुश्मन की के नापाक इरादों का मुहं तोड़ जवाब देने के लिए हाथ में हथियार. इसी का ही नतीजा है कि सीमा सुरक्षा बल में देश के विभिन्न प्रांतों के सैनिक होने के बावजूद यहां अभी तक नजर नहीं आती है. इतना ही नहीं आपसी बात से बातचीत के दौरान भी यह लोग एक दूसरे से दूरी बनाए रखते हैं. 

ऑपरेशनल ड्यूटी में कोई कमी नहीं हुई: 
बॉर्डर के ऊपर पहले की तरह हमारी पूरी कार्रवाई चल रही है. ऑपरेशनल ड्यूटी में कोई कमी नहीं हुई है. अंतरराष्ट्रीय सीमा के जरिए होने वाली किसी भी तरह की राष्ट्र विरोधी वह अन्य गैरकानूनी गतिविधियों को रोकने के लिए हमारे जवान चौबीसों घंटे मुस्तैद हैं. ग्राउंड पर हर जगह निगरानी की जा रही है. उन्होंने बताया कि बॉर्डर पर ड्यूटी कर रहे जवानों की सुरक्षा के लिए भी सभी प्रकार के उपाय किए गए हैं. कोरोना से बचने के लिए जवान मास्क से लेकर सैनिटाइजर आदि का इस्तेमाल कर रहे हैं. बार-बार हाथ भी धो रहे हैं. 

बीएसएफ ने जवानों की समूह में रोजाना होने वाली गतिविधियां अब बंद: 
अंतर्राष्ट्रीय सीमा की ग्राउंड हालात की पड़ताल में सामने आया कि बीएसएफ ने जवानों की समूह में रोजाना होने वाली गतिविधियां अब बंद है. सुबह-शाम की सम्पर्क सभा नहीं होती. अब जवानों को बैरक में ही आदेश-निर्देश बता दिए जाते है. सेक्टर, बटालियन मुख्यालय और सीमा चौकियों पर पर सामूहिक परेड और व्यायाम बंद हैं. जवान अपनी फिटनेस के लिए अकेले में अथवा तीन मीटर की दूरी बनाकर व्यायाम कर रहे हैं. सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों ने बातचीत में बताया कि चौकी के गेट, कार्यालय और अन्य जगह सेनिटाइजर रखे हुए हैं. कोई भी बिना सेनिटाइजर किए चौकी में अंदर या बाहर नहीं निकल सकता. यहां तक की जीरो लाइन और तारबंदी पर गश्त के लिए जाने वाले जवान भी सेनिटाइजर और मॉस्क का उपयोग कर रहे हैं. तारबंदी के पास गश्त के समय एक-दूसरे से कम से कम दो मीटर की दूरी बनाकर चलते हैं.  

सामूहिक रूप से खाना खाने पर रोक: 
सीमा पर तैनात बीएसएफ अधिकारियों के मुताबिक चौकियों की मैस में अब सुबह और शाम के भोजन के समय सामूहिक रूप से खाना खाने पर रोक है. खाने के समय जवान दो मीटर की दूरी पर बैठककर भोजन करते हैं. यहां कम्युनिटी किचेन या लंगर के दौरान बहुत से जवान एक साथ खाना खाते हैं. लेकिन कोरोना के चलते सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए हमारे जवान अभी एक-एक कर खाना खाते हैं. हम उन्हें एक जगह अभी इकट्ठा नहीं होने दे रहे हैं. सबको अलग-अलग टाइमिंग दे दिया गया है और वे बारी-बारी से खाना खाते हैं. इसके अलावा साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान है. बार-बार हैंड वास या डिटौल से जवानों को हाथ धोने को कहा जा रहा है. यानी कोरोना से बचाव के लिए जो भी कदम उठाना चाहिए वह ग्राउंड पर लागू किया जा रहा है. 

मोदी सरकार ने लॉकडाउन का फैसला बिना तैयारी के लिया- सोनिया गांधी 

सर्दी, खांसी-जुकाम की शिकायत वाले व्यक्ति को रखा जा रहा:
सेक्टर की सभी बटालियन में चिकित्सक तैनात है. चौकी में जवानों के स्वास्थ्य की जांच और निगरानी के लिए नर्सिंगकमी अथवा चिकित्सा सहायक है. बटालियन स्तर पर बाहर से आने वाले जवानों, अधिकारियों को 14 दिन चिकित्सकीय निगरानी में रखने के लिए कोरेंटाइन वार्ड बने हुए है. इसके साथ ही ऑब्जर्वेसन वार्ड अलग से चल रहे हैं. जिसमें सर्दी, खांसी-जुकाम की शिकायत वाले व्यक्ति को रखा जा रहा है. बीएसएफ के अधिकारियों और जवानों को आम लोगों, ग्रामीण आदि के चौकी पर किसी काम से आने वाले, गश्त के दौरान खेतों में कोई दिखाई देने पर उससे तीन मीटर दूर रहकर बातचीत करने की हिदायत दी हुई है. सीमावर्ती गांवों में दूसरे जिलों, राज्यों से कोई आता है तो उसकी जानकारी भी बीएसएफ की खुफिया विंग जुटा रही है.  

बाबा रामदेव का 668 वां जन्मोत्सव, लॉकडाउन की वजह से नहीं होगा कोई कार्यक्रम 

बाबा रामदेव का 668 वां जन्मोत्सव, लॉकडाउन की वजह से नहीं होगा कोई कार्यक्रम 

रामदेवरा: जन-जन के आराध्य लोक देवता बाबा रामदेव का 668 वां जन्मोत्सव रविवार को है. तंवर समाज की भाट बही के मुताबिक बाबा रामदेव का जन्म चैत्र शुक्ला पंचमी को हुआ हैं. इस मौके हर रोज कि तरह रविवार को सिर्फ बाबा रामदेव समाधि का अभिषेक कर पूजा अर्चना के साथ आरती की गई. कोरोना और लॉक डाउन के चलते कोई आयोजन नहीं हैं. बाबा रामदेव समाधि के दर्शन श्रद्धालुओं के लिए गत 22 मार्च 2020 से कोरोना वायरस के चलते बन्द हैं. 

Rajasthan Corona Update: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा पहुंचा 55, भीलवाड़ा में एक नए पॉजिटिव केस की पुष्टि

667वां जन्मोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया:
गत वर्ष पहली बार 10 अप्रैल 2019 शुक्ल पंचमी को बाबा रामदेव का 667वां जन्मोत्सव  हर्षोल्लास के साथ मनाया गया था. बाबा रामदेव जन्मोत्सव समिति का गठन किया गया था. उल्लेखनीय है कि जन-जन के आराध्य लोक देवता बाबा रामदेव का जन्म दिवस तंवर समाज की अधिकृत भाट बही वंशावली के मुताबिक चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को होना उल्लेखनीय है. ऐसे में गत वर्ष पहली बार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी 10 अप्रैल 2019 को बाबा रामदेव का जन्म उत्सव समारोह धूमधाम के साथ मनाया गया. 

दुष्कर्म पीड़िता ने हाईकोर्ट से लगायी गर्भपात की गुहार, हाईकोर्ट ने मेडीकल बोर्ड से पीड़िता की जांच कर रिपोर्ट की तलब

रामदेवरा में मोटरसाइकिल चोर गिरफ्तार, कहा -प्रेमिका से मिलने के लिए चुराई थी

रामदेवरा में मोटरसाइकिल चोर गिरफ्तार, कहा -प्रेमिका से मिलने के लिए चुराई थी

रामदेवरा: जैसलमेर के रामदेवरा पुलिस ने कार्रवाई करते हुए मोटरसाइकिल चोरी के आरोपी को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इस मामले में बाइक को भी जब्त किया है. पुलिस के अनुसार गत 22 मार्च को हुकमसिंह ने रिपोर्ट पेश की थी कि गत 21 मार्च को माध्यमिक विद्यालय में कार्यवश सुबह 10 बजे गया था. वहां से वापस 2:30 बजे निकलकर गाड़ी संभाली, तो वहां पर नही थी.

Coronavirus Updates: देशभर में मरने वालों की संख्या हुई 11, तमिलनाडु में पहली मौत

पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की:
रामदेवरा पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की. प्रकरण दर्ज होने के बाद अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार बैरवा और वृत्ताधिकारी वृत पोकरण मोटाराम के निर्देशन में रामदेवरा थानाधिकारी दलपतसिंह के नेतृत्व में सहायक उप निदेशक नींबदान चारण, कांस्टेबल मांगीलाल विश्नोई व मघसिंह की टीम गठित की. इस दौरान मुखबिर की सूचना पर महेश पुत्र हठेसिंह भील निवासी जुनापानी, मध्यप्रदेश को बाप कस्बे से दस्तयाब कर पूछताछ की. पूछताछ में उसने जुर्म स्वीकार किया.

पीएम मोदी का बड़ा ऐलान- आज रात 12 बजे से पूरे देश में लॉकडाउन, इसे कर्फ्यू जैसा ही समझें

प्रेमिका से मिलने आ रहा था शेखासर:
आरोपी अपनी प्रेमिका से मिलने गुना मध्यप्रदेश से शेखासर आ रहा था तथा रामदेवरा से शेखासर जाने के लिए कोई साधन नही होने से रामदेवरा में रेकी कर राईज माध्यमिक विधालय रामदेवरा के आगे से अध्यापक की मोटरसाइकिल चोरी कर शेखासर पहुंच गया. आरोपी को प्रेमिका के मां-बाप ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया व प्रकरण में चुराई गई मोटरसाइकिल पुलिस थाना बाप ने एमवी एक्ट में जब्त कर ली गई. आरोपी ने पुलिस को उक्त मोटरसाईकल अपनी होना बताया. इत्तला मिलने पर पुलिस थाना बाप से प्रकरण हाजा में चोरी गई मोटरसाइकिल जब्त कर थाना रामदेवरा लेकर आए. आरोपी से अन्य चोरी के प्रकरणों में भी पूछताछ जारी है.

Corona Virus Updates: राहत की खबर, ईरान से लाए 484 भारतीयों और जैसलमेर के 10 संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट आई निगेटिव

Corona Virus Updates: राहत की खबर, ईरान से लाए 484 भारतीयों और जैसलमेर के 10 संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट आई निगेटिव

जैसलेमर: जैसलमेर की जनता ने कई मुसीबतों का सामना किया है और हर जंग में जीत हासिल की है. अब कोरोना की बारी है. फिलहाल जैसलमेर बेहतर स्टेज पर है और सुखद यह है कि अब तक एक भी मरीज सामने नहीं आया है, हालांकि यहां के कई लोग जो विदेशों में रहते थे वे वापस आ चुके हैं और उनकी जांच भी हो चुकी है. जैसलमेर में कोरोना संदिग्ध के तौर पर अब तक 10 लोगों को अस्पताल में भर्ती किया गया था, जिनके सेम्पल जांच में भेजे गए और सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है.

484 भारतीय आइसोलेशन पर:
इतना ही नहीं पिछले कुछ दिनों से जैसलमेर के मिलट्री स्टेशन में ईरान से आए 484 भारतीय आइसोलेशन पर है. इनकी दो बार जांच की जा चुकी है और सभी स्वस्थ है. ऐसे में अब इनमें कोरोना के मरीज का सामने आने के चांस बहुत कम है. कुल मिलाकर ये दोनों मामले जैसलमेर के लिए सुखद है, क्योंकि संक्रमण की संभावना इन दोनों मामलों से थी. दुनिया भर में कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक ईरान से तीन विभिन्न चरणों में कुल 484 भारतीय नागरिकों को एयर इंडिया के विशेष विमानों द्वारा जैसलमेर एअरलिफ्ट किया गया था. इन सभी भारतीय नागरिकों को जैसलमेर मिलिट्री स्टेशन स्थित आइसोलेशन कम वेलनेस सेंटर में रखा गया है.

Corona Virus Updates: कोरोना का कोहराम, अब तक 10 लोगों की मौत, मरीजों की संख्या पहुंची 500, देशभर में लॉक डाउन

भारतीय नागरिकों की कोरोना जांच:
जानकारी के मुताबिक इन सभी 484 भारतीय नागरिकों की कोरोना जांच की गई थी और इसकी  रिपोर्ट भी आ गई है. राहत की बात यह है कि यह सभी 484 भारतीय नागरिक कोरोना नेगेटिव पाए गए हैं. सभी भारतीय नागरिकों की कोरोना रिपोर्ट फिलहाल नेगेटिव पाई गई है, लेकिन एहतियात के तौर पर इन्हें 14 दिन तक आर्मी स्टेशन के आइसोलेशन कम वैलनेस सेंटर में ही रहना पड़ेगा. जैसलमेर एअरलिफ्ट किए गए सभी 484 भारतीय नागरिक अभी जैसलमेर मिलिट्री स्टेशन स्थित वैलनेस सेंटर में है और आर्मी द्वारा की गई सुविधाओं से खासे संतुष्ट दिखाई दे रहे हैं.

जैसलमेर एयरपोर्ट पर विशेष जांच:
आप को बता दें की बीते दिनों ईरान से जैसलमेर पहुंचे एअर इंडिया विशेष विमानों से उतरे 484 भारतीय नागरिकों की जैसलमेर एयरपोर्ट पर विशेष जांच कराई गई थी. जांच प्रक्रिया पूरी होने के बाद सभी को वेलनेस सेंटर ले जाया गया था. जांच प्रक्रिया में सेना और नागरिक प्रशासन की टीमों का सहयोग रहा. भारतीय सेना ने एक माह की अल्प अवधि में जैसलमेर में एक हजार से अधिक बिस्तर सहित अत्यधुनिक सुविधाओं का वेलनेस सेंटर विकसित कर रखा है.

सतर्क रहने की जरूरत:
हालांकि खतरा अभी टला नहीं है. ऐसे में संयम बरतने की जरूरत है. 31 मार्च तक लॉकडाउन के दाैरान घर पर ही रहें. जरूरी हो तभी बाहर निकलें. सेनेटाइजर का उपयोग करें, मास्क लगाएं और बार बार हाथ धोएं. सरकार के इस प्रयास और कोरोना से लड़ने के लिए सहयोग करें और अपने घर पर ही रहें ताकि आपका परिवार और आप स्वस्थ रह सके. जैसलमेर के लिए सुखद यह भी है कि अब तक संक्रमण नहीं फैला है और अब सीमाएं सील होने के बाद बाहर से आवाजाही बंद हो गई है. ऐसे में किसी कोरोना पीड़ित के आने की संभावना कम हो गई है. फिर भी हमें सतर्क रहने की जरूरत है. लापरवाही बिल्कुल ना बरतें.  

कोरोना वायरस के चलते शाहीन बाग प्रदर्शन को हटाने की कार्रवाई शुरू, पुलिस ने उखाड़े टेंट

Corona Virus Updates: 650 सालों में पहली बार धार्मिक नगरी में छाई विरानी, रामदेवरा में सड़कों पर पसरा सन्नाटा 

Corona Virus Updates: 650 सालों में पहली बार धार्मिक नगरी में छाई विरानी, रामदेवरा में सड़कों पर पसरा सन्नाटा 

रामदेवरा: विश्व प्रसिद्ध धार्मिक नगरी रामदेवरा में सीएम अशोक गहलोत के एक दिन पूर्व सड़कों पर निजी वाहनों की रोक के दिए गए निर्देशों का बड़ा असर देखने को मिला. मंगलवार सुबह से रामदेवरा की मन्दिर रोड,पर्चा बावड़ी सड़क,मुख्य बाजार,पोकरण रोड़, रेलवे स्टेशन सड़क,सदर बाजार आदि पर सिर्फ सिर्फ विरानी छाई दिखी. 

Corona Virus Updates: कोरोना का कोहराम, अब तक 10 लोगों की मौत, मरीजों की संख्या पहुंची 500, देशभर में लॉक डाउन

रामदेवरा में दिखी विरानी:
फर्स्ट इंडिया ने मंगलवार सुबह रामदेवरा की सभी सड़कों का लिया जायज़ा. सभी सड़कों पर लोक देवता बाबा रामदेव के समाधि लेने के बाद से आज तक कभी इतनी वीरानी रामदेवरा नहीं दिखी, जितनी कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते दिखी. सीएम अशोक गहलोत के सोमवार को दिए निजी वाहनों के सड़कों पर नही चलने के निर्देश के बाद रामदेवरा की सभी वाहनों की आवाजाही बिल्कुल भी नज़र नही आई. 

कोरोना वायरस के चलते शाहीन बाग प्रदर्शन को हटाने की कार्रवाई शुरू, पुलिस ने उखाड़े टेंट

लॉक डाउन का पूरी तरह पालन:
वहीं आम जरूरत की दुकानों में भी केवल सब्जी ,किराना और मेडिकल की दुकानें खुली थी. यहां भी लोग नज़र नहीं आये. सभी रामदेवरा के लोग घरों में रहकर धारा 144 और लॉक डाउन का पूरी तरह पालन कर कोरोना के संघर्ष में सरकार का साथ दे रहें हैं. विश्व प्रसिद्ध बाबा रामदेव की नगरी में पूरे साल लाखों श्रद्धालुओं की रेलमपेल के बीच यहां पर स्थित चाय, प्रसाद,खाने की होटलें, डेयरियां सुबह 2 बजे खुल जाती थी. वही होटलों ,धर्मशालाओं की बात करें तो इनकी संख्या 500 हैं. यहां भी विरानी हैं. सभी सरकारी आदेश की पालना कर कोरोना संघर्ष में अपनी भागीदारी निभा रहे हैं.

रामदेवरा में बाबा रामदेव मन्दिर हुआ बंद, जनता कर्फ्यू से पहले पसरा सन्नाटा

रामदेवरा में बाबा रामदेव मन्दिर हुआ बंद, जनता कर्फ्यू से पहले पसरा सन्नाटा

रामदेवरा(जैसलमेर): रामदेवरा में अल सुबह 3 बजे खुलने वाली प्रसाद व अभिषेक की अधिकांश दुकानें शनिवार को सूरज निकलने के बाद भी बन्द रही. यात्रियों से गुलजार रहने वाली मुख्य सड़कों पर सुबह से वीरानी छाई हुई है. दूर दूर तक यात्रियों की कोई चहल पहल नहीं. स्थानीय लोग भी घरों में दुबके हैं. ये नज़ारा शनिवार को रामदेवरा में सुबह नज़र आया. 

कोरोना वायरस: देश में बढ़ रहे संक्रमित मरीज, 250 पहुंची संख्या 

दुकानें बन्द और सड़क पर सन्नाटा पसरा हुआ: 
फर्स्ट इंडिया न्यूज ने शनिवार को सुबह रेलवे स्टेशन रोड का दौरा किया. अमूमन ये सड़क 24 घण्टे अतिव्यस्त रहती हैं. रेलों से आने व जाने वाले यात्रियों की भारी भीड़ के चलते इस सड़क पर रौनक रहती हैं. शनिवार को दुकानें बन्द और सड़क पर सन्नाटा पसरा हुआ है.

ऐतिहात के तौर पर 21मार्च से 31 मार्च तक बन्द: 
कोरोना वायरस से बचाव के लिये ऐतिहात के तौर पर 21मार्च से 31 मार्च तक बन्द किये गये बाबा रामदेव मन्दिर के बाद शुक्रवार की शाम,शनिवार सुबह रामदेवरा आई सभी रेलों में रामदेवरा के आये कुछ यात्री मन्दिर के आगे जोड़ कर वापस लौट गये. रामदेवरा में 500 के करीब प्रसाद,अभिषेक, परचून की दुकानों के साथ ही 400 धर्मशालाओ व दो दर्जन होटलो के चलते प्रतिवर्ष करोड़ों का व्यवसाय यात्रियों की आवक से होता हैं. 

कोरोना की तीसरी स्टेज में राजस्थान! पिछले 12 घंटे में 8 लोगों में कोरोना पॉज़िटिव, तो भीलवाड़ा में बाजार बंद

मन्दिर में अभिषेक व आरती पूर्व कार्यक्रम की तरह:
650 साल में बाबा रामदेव मन्दिर कोरोना वायरस के चलते लगातार दस दिन 31 मार्च तक श्रद्धालुओं के लिये बन्द रहेगा. लेकिन मन्दिर में अभिषेक व आरती पूर्व कार्यक्रम की तरह होती रहेगी. समाधि समिति के लिये निर्णय के बाद से श्रद्धालुओं ने रामदेवरा आने के अपने कार्यक्रम रद्द करने शुरू कर दिये हैं. 
 

स्वर्णनगरी में कोरोनाबंदी: सभी पर्यटन स्थल बंद, बाजार में सन्नाटा

स्वर्णनगरी में कोरोनाबंदी: सभी पर्यटन स्थल बंद, बाजार में सन्नाटा

जैसलमेर: पूरे विश्व में फैल चुके कोरोना को लेकर 152 देश लड़ रहे हैं. इसी बीच भारत में भी सरकार द्वारा बचाव व रोकथाम को लेकर अपने प्रयास किए जा रहे हैं. राजस्थान में सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए आगामी आदेश तक सभी प्रकार की परीक्षाएं स्थगित करने के आदेश दे दिए है. जिले में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दिया गया है. प्रशासन सार्वजनिक जगहों पर स्प्रे का छिड़काव करने के साथ ही अपने प्रयास कर रहा है. इसके साथ ही पर्यटन नगरी के रूप में विख्यात स्वर्णनगरी में आगामी 31 मार्च तक सभी पर्यटन स्थलों पर भी ताले लगा दिए गए है. जिससे जैसलमेर की सड़कें पूरी तरह से सूनी हो गई है, जहां कभी पैर रखने तक की जगह नहीं मिलती वहीं अब एक आदमी भी दिखाई नहीं दे रहा है.

सरकार ने वर्क फ्रॉम होम सिस्टम किया लागू, इन 17 विभागों को छोड़कर सब जगह 50% कर्मचारी देंगे उपस्थित देंगे 

धारा 144 के चलते सड़कें भी सुनसान रही:
वहीं पर्यटन व्यवसाय पूरी तरह से ठप हो गया है. हालांकि जैसलमेर में कुछ दिनों बाद गर्मी तेज होने से ऑफ सीजन शुरू होने वाली थी लेकिन इस बार कोरोना के असर के चलते जैसलमेर जल्दी ही सूना हो गया है. प्रदेश में लागू हुई धारा 144 का भी असर जैसलमेर में देखने को मिला. धारा 144 के चलते सड़कें भी सुनसान रही. वहीं कलेक्टर ने आदेश जारी कर सभी राजस्व सीमाओं में स्थित सार्वजनिक स्थानों, धार्मिक स्थानों एवं अन्य आमजन के द्वारा आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों में एकत्रित होने वाले व्यक्तियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए निषेधाज्ञा जारी कर दी है. निषेधाज्ञा के अनुसार किसी भी सार्वजनिक एवं धार्मिक स्थल पर जिला मजिस्ट्रेट अथवा संबंधित उपखंड मजिस्ट्रेट की बिना किसी पूर्व अनुमति के 20 से अधिक व्यक्ति सामूहिक विचरण नहीं करेंगे.

आजादी के बाद देश में पहली 4 दोषियों को एक साथ फांसी, एक ही केस में चार बार जारी किये गये डेथ वारंट 

पर्यटन को इस बार करोड़ों रुपए का भी नुकसान:
जैसलमेर पर्यटन को इस बार करोड़ों रुपए का भी नुकसान हो गया है, जहां सैलानियों के पैर अप्रैल महीने तक थमते थे लेकिन कोरोना वायरस के चलते करीब दो महीने पहले ही सैलानियों के पांव रुक गए है. जैसलमेर में फोर्ट म्यूजियम, राजकीय संग्रहालय, वॉर म्यूजियम, पटवा हवेली व गड़ीसर तालाब इन दिनों सूने पड़े हैं. एडवायजरी जारी होने के बाद जैसलमेर में अब सैलानी घूमने के लिए नहीं आ रहे हैं. वहीं स्वर्णनगरी के सभी पर्यटन स्थलों पर ताले लगा दिए गए है. जिससे जैसलमेर पूरी तरह से सूना हो गया है. कोरोना के चलते जैसलमेर में 25 मार्च से शुरू होने वाले चेटीचंड के सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए हैं. बैठक में निर्णय लिया गया कि चेटीचंड के उपलक्ष्य में आयोजित की जाने वाली शोभायात्रा, प्रतिभा सम्मान समारोह, भंडारा लंगर व सभी प्रतियोगिता स्थगित कर दी गई है. 

ईरान से तीसरी बार भारतीयों का दल पहुंचा जैसलमेर, एयरपोर्ट पर हुई सभी की स्क्रीनिंग

ईरान से तीसरी बार भारतीयों का दल पहुंचा जैसलमेर, एयरपोर्ट पर हुई सभी की स्क्रीनिंग

जैसलमेर: दुनिया में कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक ईरान से 195 भारतीय नागरिकों को लेकर एयर इंडिया के दो विशेष विमान जैसलमेर पंहुचे, जहां पहले विमान में 105 भारतीय नागरिकों को जैसलमेर लाया गया. जिसमें 68 पुरुष और 37 महिलाएं शामिल है. वहीं दूसरे विमान में 90 लोग लाए गए, जिसमें 41 पुरुष और 48 महिलाओं सहित एक बच्चा भी है. इससे पूर्व तीन विमानों से लाए गए 289 भारतीय नागरिक जैसलमेर में सेना की ओर से विकसित वेलनेस सेंटर में रखा हुआ है.

अब बायोमेट्रिक से नहीं ओटीपी से मिलेगा राशन! कोरोना के संक्रमण को देखते हुए व्यवस्था में बदलाव

जैसलमेर एयरपोर्ट पर हुई विशेष जांच:
इनके साथ बुधवार को आए नागरिकों को आइसोलेटेड वार्ड में रखा जाएगा. यहां कुल मिलाकर अब 484 भारतीय नागरिक हो गए है. बुधवार को ईरान से पहुंचे दोनों विशेष विमानों से उतरे 195 भारतीय नागरिकों की जैसलमेर एयर पोर्ट पर विशेष जांच की गई. जांच प्रक्रिया पूरी होने के बाद सभी को वेलनेस सेंटर ले जाया गया. जांच प्रक्रिया में सेना और नागरिक प्रशासन की टीमों का सहयोग रहा.

चूरू ACB टीम की झुंझुनूं में बड़ी कार्रवाई, मंडावा नगरपालिका ईओ मनीष पारीक को किया ट्रैप

नहीं पाया गया कोई भी कोरोना पॉजिटिव:  
भारतीय सेना ने एक माह की अल्प अवधि में जैसलमेर में एक हजार से अधिक बिस्तर समेत अत्यधुनिक सुविधाओं का वेलनेस सेंटर विकसित कर रखा है. इस सेंटर में बेहतरीन चिकित्सा सुविधाओं के अलावा आइसोलेशन में रहने के दौरान लोगों के मनोरंजन और खेलकूद की पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है. यहां पर ईरान से आने वाले 484 भारतीय नागरिकों को 14-14 दिन के लिए रखा जाएगा. फिलहाल यहां रखे गए लोगों में से एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं पाया गया है.

Open Covid-19