कोरोना वायरस के रोगियों में मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर सरकार सतर्क - CM गहलोत

कोरोना वायरस के रोगियों में मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर सरकार सतर्क - CM गहलोत

कोरोना वायरस के रोगियों में मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर सरकार सतर्क - CM गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि कोरोना वायरस (coronavirus) की दूसरी लहर काफी घातक रही और इसके कारण लोगों में मानसिक स्वास्थ्य संबंधी विभिन्न समस्याएं देखने को मिल रही हैं और राज्य सरकार इसे लेकर सतर्क है.

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि स्वास्थ्य विभाग ऐसे मरीजों तथा उनके परिजनों को उचित उपचार और मनोचिकित्सकीय परामर्श देने की समुचित व्यवस्था करे. उन्होंने कहा कि साथ ही उन्हें कोरोना वायरस के बाद के दुष्प्रभावों को लेकर समय पर उपचार, संतुलित आहार एवं मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परामर्श दिया जाए.

कोविड-19 के बाद के दुष्प्रभाव हमारे लिए चिंता का विषय:
गहलोत शनिवार को समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि लम्बे समय तक उपचार के बाद लोगों में आ रहे कोविड-19 के बाद के दुष्प्रभाव हमारे लिए चिंता का विषय है. हमारा प्रयास है कि ऐसे रोगियों और परिजनों को समुचित उपचार एवं परामर्श मिले, ताकि वे जल्द से जल्द इन स्वास्थ्य समस्याओं से उबर सकें.

राज्य में अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित हो सके:
मुख्यमंत्री ने कहा कि 21 जून से केन्द्र सरकार की ओर से 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के नागरिकों के लिए मुफ्त टीकाकरण शुरू होगा. उन्होंने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम इसके लिए प्रभावी योजना तैयार करके इसे अभियान का रूप दे, ताकि राज्य में अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित हो सके.

और पढ़ें