राजस्थान में मतदान के बाद अब कैसेे हैंं चुनावी उम्मीदवारों का हाल

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/08 09:01

जयपुर। 200 सीटों वाली राजस्थान विधानसभा की 199 सीटों के लिए 7 दिसम्बर को हुए मतदान के बाद आए एग्जिट पोल में कांग्रेस की सरकार बनने का अनुमान जताया गया है। वहीं सत्तारूढ़ भाजपा के लिए सरकार बनाने को लेकर कड़ी चुनौतियों का अनुमान जताया गया है। ऐसे में एग्जिट पोल्स के अनुमानों से कांग्रेस के नेता एवं चुनावी उम्मीदवार उत्साहित नजर आ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर, भाजपा नेताओं एवं चुनावी उम्मीदवारों में भी न सिर्फ उम्मीदें बरकरार दिखाई दे रही है, ​बल्कि वे भी अपनी जीत के दावे कर रहे हैं।

प्रदेश में विधानसभा चुनाव में मतदान के बाद आज का दिन कांग्रेस व भाजपा दोनों दलों के प्रत्याशियों के लिए कुछ सुकून भरा रहा। कई दिनों बाद इन प्रत्याशियों ने अपना समय अपने परिवार के लोगों के साथ बिताया। हालांकि इसके अलावा उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से मतदान को लेकर फीडबैक भी लिया। साथ ही हार-जीत के आकलन में भी जुटे रहे। ऐसे में जानते हैं कि मतदान के बाद अब चुनावी उम्मीदवारों के क्या हाल हैं और वे अपनी जीत को लेकर क्या कहते हैं...

जयपुर की सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी पुष्पेन्द्र भारद्वाज का कहना है कि वे कितने वोट से जीतेंगे, इसका उन्होंने कोई आकलन नहीं किया है। लेकिन पिछले पांच साल वो जनता के बीच रहे हैं और जनता के लिए संघर्ष किया है। इसलिए उन्हें जनता से मतदान में पूरा आर्शीवाद मिला है। 

वहीं जयपुर के महापौर अशोक लाहौटी जो कि इस चुनाव में सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी हैं। अशोक लाहौटी का दावा है कि मतदान में जनता ने उन्हें पूरा समर्थन दिया है और मतगणना का दिन 11 दिसम्बर उनके ही नाम होगा।

जयपुर के मालवीय नगर से कांग्रेस की उम्मीदवार अर्चना शर्मा मतदान के अगले दिन पूरी तरह रिलैक्स हैं और वे खुद को जीता हुआ मानती हैं। अर्चना शर्मा का कहना है कि पिछली बार जब उन्होंने चुनाव लड़ा, तब की परिस्थितयों और आज की परिस्थितयों में काफी अंतर आ चुका है। जनता ने इस बार उन्हें दिल खोल कर समर्थन दिया है।

जयपुर के सिविल लाइन्स विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस उम्मीदवार प्रतापसिंह खाचरियावास का कहना है कि उनकी जीत को लेकर वे खुद ही नहीं, बल्कि जनता भी पूरी तरह से आश्वस्त है। वहीं कांग्रेस की सरकार बनने पर मुख्यमंत्री के दावेदारी पर दिए अपने बयान पर सफाई देते हुए खाचरियावास ने कहा कि जो उन्होंने कहा वही उनके नेता अशोक गहलोत ने भी कहा है कि मुख्यमंत्री कौन होगा इसका फैसला आलाकमान करेगा।

वहीं सिविल लाइंस से ही भाजपा के उम्मीदवार अरुण चतुर्वेदी को करीब 20 दिन बाद पूरी नींद लेने का सुकून मिला। मतदान पूरा होने के बाद आज चतुर्वेदी ने घर पर परिवार के साथ नाश्ता किया और सरकारी बंगले की बगिया को भी संभाला। चतुर्वेदी ने अपने सरकारी निवास पर ही कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और मतदान का फीडबैक लिया साथ ही उन्होंने मतगणना के लिए अपने कार्यकर्ताओं की तैनाती को भी अंतिम रूप दे दिया।

आमेर से बीजेपी के प्रत्याशी सतीश पूनिया मतदान खत्म होने के बाद आज जनता के बीच चाय पर चुस्की लेते हुए अपनी थकान मिटाते हुए दिखे। सतीश पूनिया ने कहा कि लोकतंत्र में अवकाश कभी नहीं होता, जनसेवक हमेशा जनता के प्रति समर्पित रहने वाला होना चाहिए।

झोटवाड़ा से कंग्रेस प्रत्याशी लालचंद कटारिया भी करीब 20 दिन की चुनावी थकान के बाद आज सामान्य दिनचर्या में नजर आए। झोटवाड़ा से कंग्रेस प्रत्याशी लालचंद कटारिया भी मतदान पूरा होने के बाद अब अपनी महिला कॉलेज व खेतीबाड़ी संभालने में जुट गए। उन्होंने खेतों में ही कार्यकर्ताओं के साथ चर्चा की।

जयपुर की हवामहल सीट से कांग्रेस प्रत्याशी महेश जोशी ने भी अपनी जीत का दावा किया है। मतदान प्रक्रिया पूरे होने के बाद महेश जोशी भी अब नियमित दिनचर्या की तरफ बढ़ने लगे। आज उन्होंने घर पर ही आराम किया, पूजा अर्चना की और मंदिरों में जाकर जीत की कामना की। इसके बाद महेश जोशी ने रेलवे स्टेशन के पास स्थित अपने निवास पर ही कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। कार्यकर्ताओं ने भी जोशी की जीत को जय मानते हुए उन्हें मिठाई खिलाई और फूल मालाओं से स्वागत किया।

अजमेर दक्षिण से भाजपा प्रत्याशी अनिता भदेल ने अपने कार्यालय में कार्यकर्ताओं के साथ परिणाम को लेकर मंथन किया। भदेल ने कहा कि 2013 में भी मतदान प्रतिशत ने इतना ही आंकड़ा छुआ था, जिससे भाजपा को प्रचंड बहुमत मिला था और इस बार भी जनता ने मतदान 2013 के बराबर ही किया है। हमे भरोसा है कि जनता ने कमल के निशान वाले बटन को दबाकर अपना समर्थन दिया है और जीत भाजपा की ही होगी।

वहीं कांग्रेस के प्रत्याशी हेमंत भाटी ने भी चुनाव पूर्ण होने के बाद अपने कार्यालय पर कार्यकर्ताओं के साथ मंथन किया। भाटी का भी मानना यह है कि जनता का उनको बहुत स्नेह और आशीर्वाद मिला है। ऐसे में इस बार उनकी जीत पक्की है, जिस प्रकार से जनता ने ओर कार्यकर्ताओ ने अपना जोश दिखाया है, उसे मुझे पूरा भरोसा है कि हम सरकार बना रहे हैं और हमारी जीत पक्की है।

कोटा उत्तर से कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल मतदान के बाद आज रिलेक्स मुड में नजर आए। सिविल लाइन्स स्थित निवास पर उन्होंने कार्यकर्ताओं और आमजन से मुलाकात की। धारीवाल के अनुसार कार्यकर्ताओ में गजब का उत्साह नजर आ रहा है और यह बता रहा है कि मतदान प्रतिशत का बड़ा हिस्सा कांग्रेस के पक्ष में आएगा।

ब्यावर से कांग्रेस एवं भाजपा के दोनों प्रत्याशी फुर्सत के क्षणों में नजर आए। शनिवार को दोनों ही प्रत्याशियों ने अपने-अपने समर्थकों से मुलाकात की तथा चुनावी चर्चा की। कांग्रेस प्रत्याशी पारसमल जैन ने अपने समर्थकों से मुलाकात करते हुए काफी प्रसन्न मुद्रा में दिखाई दिए, उन्होंने कहा कि सुबह से ही समर्थकों की बधाईयों के फोन मिल रहे है, लेकिन फिलहाल 11 दिसम्बर का इंतजार है।

वहीं भाजपा प्रत्याशी शंकरसिंह रावत ने कहा कि मतदान के दौरान भाजपा के प्रत्येक कार्यकर्ता ने जी-जान से मेहनत की है और निश्चित ही इसका सार्थक परिणाम मिलेगा। वहीं एग्जिट पोल के अनुमानों पर उन्होेंने कहा कि एग्जिट पोल से विपरीत चुनावों परिणामों में भाजपा को सभी जगहों से चौकाने वाले आंकडे मिलेगें।

सरदारशहर से कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा अपनी जीत के प्रति आश्वस्त नजर आए, वहीं भाजपा नेता अशोक पिंचा ने भी अपनी जीत का दावा किया। बहरहाल, शहर की जनता ने अपना फैसला मत बेटियों में बंद कर दिया है और अब 11 दिसंबर के दिन ही साफ हो पाएगा की जनता ने किसके पक्ष में मतदान कर किस नेता को विधानसभा भेजने का निर्णय लिया है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in