आखिर अब टूटी निगम की नींद, मैरिज गार्डनों को लेकर जारी किए ये निर्देश

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/12 10:59

जयपुर। राजधानी जयपुर में ईपी के रोज गार्डन में हुए भयंकर अग्निकांड के 1 साल के बाद जयपुर नगर निगम की नींद टूटी है। नगर निगम को रोज गार्डन के बड़े हादसे के 1 साल बाद लोगों की सुरक्षा की चिंता हुई है। अब भविष्य में मैरिज गार्डनों में होने वाले ऐसे हादसों को रोकने के लिए निगम ने 1 दर्जन से अधिक दिशा निर्देश जारी किए हैं।

कई शहरों में विवाह स्थलों में अक्सर आग लगने जैसी बड़ी घटनाएं होती रही हैं। 1 साल पहले जयपुर के रोज मैरिज गार्डन में भी एक ऐसा अग्नि कांड हुआ था, जिससे शहर के विवाह स्थलों और वीआईपी विवाह स्थलों की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े हुए थे। उस समय नगर निगम ने हादसे की जांच के लिए एक कमेटी भी बनाई थी, लेकिन उस कमेटी ने बीते महीनों में ऐसा कोई प्रयास नहीं किया, जिससे मैरिज गार्डनों में होने वाली ऐसी घटनाओं को रोका जा सके।

अब 1 साल के बाद निगम के मौज़ूदा आयुक्त विजयपाल सिंह ने इस ओर ध्यान दिया है। विजय पाल सिंह ने सभी मैरिज गार्डनों के लिए एक दर्जन से अधिक निर्देश जारी किए हैं। सभी उपायुक्तों और मुख्य अग्निशमन अधिकारी की जिम्मेदारी होगी कि जो निर्देश आयुक्त ने जारी किए हैं, उनकी पालना सभी विवाह स्थलों में कराई जा सके। आयुक्त ने जो नए गाइडलाइंस बनाए हैं, उनमें खासकर विवाह स्थलों में फायर सेफ्टी पर फोकस किया गया है।

निगम ने निर्देशो में लिखा है कि मैरिज गार्डन असेम्बली बिल्डिंग की श्रेणी में आते हैं, इसलिए विवाह स्थलों पर एनबीसी के अनुसार फायर सेफ्टी होनी चाहिए। अगर सभी मैरिज गार्डन निगम के नई गाइडलाइन फॉलो करेंगे तो आने वाले दिनों में शहर में होने वाले विवाह समारोह सुरक्षित हो सकेंगे। अभी भी शहर में सैकड़ों की संख्या में ऐसे मैरिज गार्डन संचालित हो रहे हैं, जिनमें फायर सेफ्टी समेत आपदा की स्थिति में किस तरह कैजुअल्टी को रोका जाए, इसके कोई उपाय नहीं है। ऐसे में नगर निगम के नए दिशा निर्देश काफी अहम साबित हो सकते हैं।

दरअसल, शहर में लंबे समय से विवाह स्थलों में सुरक्षा कायदों की अनदेखी होती रही है। पहले तो जेडीए की बिना अनुमति के शहर में भारी तादाद में अवैध मैरिज गार्डन बनते रहते हैं, बाद में निगम की अनदेखी के कारण संचालक सुरक्षा मानकों का पालन नहीं करते हैं। इस कारण शहर में होने वाली हर शादी असुरक्षित होती है। अब नगर निगम ने जो निर्देश जारी किए हैं, वह शादियों और अन्य समारोहों को सुरक्षित बनाने के लिए काफी अहम है।

क्या हैं नगर निगम के नए दिशा निर्देश :
1. विवाह स्थल परिसर में फायर फाइटिंग की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए।
2. सभी इंटरनल हाइ ड्रनट के साथ होजरील होज भी होने चाहिए।
3. हाई ड्रनट होजरील के लिए कम से कम 1 फायर पंप 900 एलपीएम और 10 हजार लीटर ऑवर हेड फायर वायर टैंक क्षमता के होने चाहिए।
4. परिसर के क्षेत्र के अनुसार एरिया में आवश्यकतानुसार स्मोक डिटेक्टर, हीट डिटेक्टर, एमसीपी हूटर ओर फायर पैनल होना चाहिए।
5. सभी इलाकों में आपात निकास के साइन बोर्ड 2 होने चाहिए।
6. एक खाली जगह जहां आपात स्तिथि में सभी लोग इकठ्ठे हो सकें वहां असेम्बली पॉइंट के साइन बोर्ड होने चाहिए।
7. परिसर में कम से कम 2 निकास रखने होंगे, जिनकी चौड़ाई 6 मीटर और ऊंचाई 4.5 मीटर से कम नहीं होनी चाहिए।
8. परिसर में नो स्मोकिंग के बोर्ड होने चाहिए।
9. फायर सेफ्टी उपकरणों के प्रयोग के लिए विवाह स्थलों पर ट्रेंड फायरकर्मी रखने होंगे।
10. विवाह स्थलों के लिए होने वाले स्थाई और अस्थाई निर्माण में अतिज्वलनशील पदार्थ का इस्तेमाल नहीं करना होगा। इनके अलावा भी निगम ने कई निर्देश जारी किए हैं।

हालांकि यह सही है कि नगर निगम के यह निर्देश विवाह स्थलों को सुरक्षित बनाएंगे, लेकिन इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि निगम के अधिकारी इन निर्देशों का पालन करा पाएंगे। क्योंकि नगर निगम की ढुलमुल और मिलीभगत वाली कार्यप्रणाली किसी से छिपी नहीं है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

लोकसभा चुनाव को लेकर क्या है चौमूं की जनता का मूड

भारत ने दिखाई ताकत, वायुसेना का युद्धाभ्यास
पुलवामा हमले के बाद सहमा पाकिस्तान, LoC पर मची खलबली
आज की चर्चा प्रियंका गाँधी पर | Good Luck Tips
लंदन में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे
2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर क्या है बूंदी की जनता का मूड | Janta Ka Mood
सवर्दलीय बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने लिया प्रण !
पाकिस्तान प्रेम नवजोत सिंह सिद्धू को पड़ा भारी, कपिल के शो से हुए बाहर
loading...
">
loading...