VIDEO: कोरोना का यात्रा पर खौफ! हवाई और रेल यात्रियों की संख्या में जबरदस्त गिरावट

VIDEO: कोरोना का यात्रा पर खौफ! हवाई और रेल यात्रियों की संख्या में जबरदस्त गिरावट

जयपुर: हवाई और रेल यात्रा पर कोरोना का खौफ (fear of corona) जबरदस्त तरीके से देखा जा रहा है. पिछले डेढ़ माह में हवाई यात्रियों (air travel) की संख्या आधी रह गई है. जयपुर एयरपोर्ट (jaipur airport) से फ्लाइट संचालन में कमी देखी जा रही है. दरअसल यात्रियों की संख्या कम होने के चलते ही फ्लाइट (flight) रद्द होने का अनुपात बढ़ा है. ट्रेन संचालन हालांकि बढ़ा है, लेकिन यात्रीभार यहां भी कम है. 

जयपुर एयरपोर्ट (airport) पर इन दिनों हवाई यात्रा की स्थिति बिगड़ी हुई है. आधा दर्जन फ्लाइट तो सुबह 8 बजे तक रद्द कर दी जाती हैं. रोजाना 8 से 9 फ्लाइट रद्द हो रही हैं और इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है कोरोना महामारी. कोरोना की वजह से यात्रियों में जबरदस्त खौफ फैला हुआ है. वहीं अलग-अलग राज्यों द्वारा निगेटिव आरटीपीसीआर टैस्ट रिपोर्ट की अनिवार्यता ने भी परेशानी खड़ी कर दी है. इस कारण अब बहुत कम संख्या में यात्री यात्रा करना पसंद कर रहे हैं. केवल जरूरी कार्य से ही लोग हवाई यात्रा कर रहे हैं. यात्रीभार की कमी के चलते एयरलाइंस को फ्लाइट रद्द करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है. दरअसल मार्च माह के पहले पखवाड़े तक यात्रीभार सामान्य चल रहा था. फरवरी और मार्च माह के पहले पखवाड़े में जयपुर एयरपोर्ट से रोज औसतन 42 फ्लाइट्स का संचालन हो रहा था और यात्रियों की संख्या करीब 9500 चल रही थी. लेकिन इन दिनों औसतन 30 फ्लाइट और यात्रीभार घटकर 4800 रह गया है.

पिछले 7 दिन में इतना रहा यात्रीभार:
- 12 अप्रैल को 33 फ्लाइट संचालित, 2978 यात्री आए, 1474 यात्री गए
- 13 अप्रैल को 28 फ्लाइट संचालित, 2614 यात्रियों का आगमन, 1757 का प्रस्थान
- 14 अप्रैल को 27 फ्लाइट, 2927 यात्रियों का आगमन, 1804 का प्रस्थान
- 15 अप्रैल को 31 फ्लाइट संचालित, 2848 यात्री आए, 1688 यात्री गए
- 16 अप्रैल को 30 फ्लाइट संचालित, 2736 यात्री आए, 1772 यात्री गए
- 17 अप्रैल को 30 फ्लाइट संचालित, 3404 यात्री आए, 2033 यात्री गए
- 18 अप्रैल को 30 फ्लाइट संचालित, 3599 यात्रियों का आगमन, 2189 का प्रस्थान
- यानी रोज औसतन 30 फ्लाइट संचालित, 3015 यात्री आए, 1816 गए

हवाई यात्रीभार की तरह रेल यात्रीभार में भी गिरावट दिख रही है. फरवरी और मार्च माह में यात्रीभार चरम पर था. मार्च माह के मध्य के बाद यात्रीभार में कमी देखी जा रही है. वर्तमान में यात्रीभार में और भी ज्यादा गिरावट हुई है. अब केवल वही लोग यात्रा कर रहे हैं, जो लॉकडाउन के डर के चलते अपने घर पहुंचना चाहते हैं. इन दिनों जयपुर से उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल जाने वाले यात्रियों की संख्या अधिक है. वहीं महाराष्ट्र और गुजरात से आने वाले यात्रियों की संख्या ज्यादा है.

जानिए, जयपुर जंक्शन से रेल यात्रीभार कितना कम हो रहा:
- पिछले साल अगस्त से दिसंबर 2020 तक रोज औसतन 21626 यात्री
- जनवरी 2021 में रोज औसतन 29516 यात्रियों का आवागमन
- 39857 रहा फरवरी का रोजाना का औसत यात्रीभार
- मार्च माह में रोज औसतन 40 हजार यात्रियों का हुआ आवागमन
- अप्रैल माह में रोज औसतन 34722 यात्रियों का आवागमन

कुलमिलाकर आने वाले दिनों में रेल और हवाई यात्रा दोनों के लिए ही हालात कठिन हो सकते हैं. आगामी दिनों में यदि कोरोना महामारी के हालात नहीं सुधरे तो फ्लाइट रद्द होने का आंकड़ा और ज्यादा बढ़ने की संभावना है. वहीं गिरते यात्रीभार के बीच रेलवे प्रशासन को भी ट्रेनें बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है.

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

और पढ़ें