जेपी नड्डा ने जयपुर में भरी हुंकार, कहा- एकला चलो की भावना नहीं होनी चाहिए, हमें सभी को साथ लेकर चलने की क्षमता पैदा करनी पड़ेगी

जेपी नड्डा ने जयपुर में भरी हुंकार, कहा- एकला चलो की भावना नहीं होनी चाहिए, हमें सभी को साथ लेकर चलने की क्षमता पैदा करनी पड़ेगी

जेपी नड्डा ने जयपुर में भरी हुंकार, कहा- एकला चलो की भावना नहीं होनी चाहिए, हमें सभी को साथ लेकर चलने की क्षमता पैदा करनी पड़ेगी

जयपुर: प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करते हुए जेपी नड्डा ने राजस्थान की धरती को प्रणाम किया और कहा कि यह वीरों और तपोवन की भूमि है. नड्डा ने पुराने समय को याद करते हुए कहा कि 1991 के बाद अब इस हॉल में आया हूं. तब राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक हुई थी. जनसंघ का दिया जलाकर पार्टी को राज्य में खड़ा किया है. नड्डा ने कहा कि उजाले का महत्व तब होता है जब अंधकार के कहर को जानना सीख लें. हमारे लिए यह खुशी की बात है कि हर जगह कमल खिल रहा है. यहां भी कमल खिला है आगे भी खिलेगा. 

जेपी नड्डा ने कहा कि भाजपा ने शिक्षण प्रशिक्षण का काम भी किया है. भाजपा मॉस ऑर्गेशनशन है कैडरबेस को मज़बूती देनी है. ऐसे में 6 अप्रैल के स्थापना दिवस से पहले सभी मंडल सशक्त होने चाहिए. इस बात पर सभी को फोकस रखना होगा. नड्डा ने इस दौरान कार्यकर्ताओं से बूथ को मजबूत करने और पन्ना प्रमुखों के कार्यक्रमों को सफल बनाने का आह्वान भी किया. उन्होंने कहा कि 6 अप्रैल से पहले पहले बूथ संरचना के कार्य पूर्ण हो. 25 दिसंबर यानी अटल जी के जन्मदिन तक हर एक बूथ पर सक्रिय पन्ना प्रमुख बना लेने है. यही हमारी ताकत है और यही महें शक्ती देती है. उन्होंने सूरत से बूथ वर्किंग का उदाहरण देते हुए कहा कि मोदी की हवा हर तरफ थी लेकिन मोदी की हवा को सूरत ने सबसे अच्छे तरीके से कैप्चर किया. 

सभी से सेल्फ एनालिसिस करने का आह्वान किया:
उन्होंने अपने संबोधन में कार्यकर्ताओं से कहा कि जाने अनजाने में हम जान बैठते हैं कि यह सब कुछ पता है. हमने सेल्फ एनालिसिस लगभग छोड़ सा दिया है. ऐसे में सभी से सेल्फ एनालिसिस करने का आह्वान किया. इसके साथ ही नड्डा ने कहा कि पार्टी में आप कितना योगदान दे रहे हैं, आपकी उपयोगिता क्या है यह भी जान लें. एकला चलो की भावना नहीं होनी चाहिए, दूसरा कोई आ न जाए ऐसा न सोंचे. हमें सभी को साथ लेकर चलने की क्षमता पैदा करनी पड़ेगी. 

कार्यकर्ता समस्या नहीं, समाधान होता है:
नड्डा ने कहा कि कार्यकर्ता समस्या नहीं, समाधान होता है. साथ ही कार्यकर्ताओं से कहा कि पोस्टमैन ना बनें, समस्या का निराकरण स्वयं करें. हम सभी के जीवन में हो कि संगठन की दृष्टि दोष कैसे अपनी उपयोगिता बढ़ा सकते हैं. सभी को सम्मिलित करने की ताकत पैदा की जाए. लीडर एक्शन से बनते हैं. हमारी स्वीकार्यता तब ही डवलप होगी जब हम सबको साथ लेकर चलेंगे. हमको पार्टी की ताकत बढ़ानी है तो मैच्योरिटी के साथ आगे बढ़े. 

पीएम मोदी ने समय पर लॉकडाउन करके इस देश को बचाया: 
उन्होंने कहा कि अमेरिका का चुनाव कोरोना पर ही हो गया. यूरोप के देशों के स्वास्थ्य सेवाएं अच्छी थी लेकिन असहाय महसूस किए और लड़खड़ा दिए. अपनी मृत्यु दर को नहीं संभाल पाए. लेकिन भारत में पीएम मोदी ने समय पर लॉकडाउन करके इस देश को बचाया है. अमेरिका इकोनामी और जान के बीच में फैसला नहीं कर पा रहा था. ऐसा यूरोप भी कह रहा था लेकिन मोदी ने कहा जान है तो जहान है. देश में एक पुणे की लेबोरेटरी होती थी. लेकिन आज देशभर में ढाई हजार से ज्यादा लेबोरेटरी है. आज हमारी ताकत 12 लाख टेस्टिंग प्रतिदिन है. वैक्सीनेशन में कई देश हमसे आगे थे लेकिन पीएम की प्रेरणा से हमारे देश में एक नहीं दो वैक्सीन बनी. अब तक कई देश भारत की वैक्सीन मांग चुके हैं. 
 
राजस्थान में दलितों पर अत्याचार, क्राइम में पहले-दूसरे नंबर पर कैसे पहुंचे: 

नड्‌डा ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि महिलाओं पर क्राइम में नंबर एक या दो पह राजस्थान पहुंच गया है. दलितों पर अत्याचार बढ़ गए हैं. महिलाओं पर अत्याचार बढ़ गए हैं. इस सरकार की प्रायोरिटी सुशासन देने की नहीं, बल्कि कुशासन राज्य देकर जाने की है. 

राजस्थान में एक बार भाजपा एक बार कांगेस का सिलसिला बन्द होगा:
इससे पहले पूनिया ने अपने संबोधन में कहा कि कांग्रेस की सरकार दमन पर उतर आई है. अध्यक्षजी पर भी कई मुकदमें किए गए हैं. पूरे प्रदेश भर में दमन चक्र चल रहा है. सत्ता के मद में डूबी ऐसी सरकार नहीं दे. उन्होंने कहा कि विधानसभा के 4 उपचुनाव में सभी सीटों पर जीत दर्ज करेंगे. चारों सीटें जीतकर आपकी झोली में डालेंगे. राजस्थान में एक बार भाजपा एक बार कांगेस का सिलसिला बन्द होगा, अब हर बार बीजेपी होगी. अजेय बीजेपी होगी़. 


 

और पढ़ें