तंगहाली से जूझ रहे जेडीए को जल्द मिलेगी बिजली के भारी बिल से राहत

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/14 02:27

जयपुर (शिवेन्द्र परमार)। आर्थिक संकट से जूझ रहे जेडीए को अब जल्द ही बिजली के भारी-भरकम बिल से राहत मिलने वाली है। जेडीसी टी रविकांत की पहल पर अब जेडीए कार्यालय, सेंट्रल पार्क और जवाहर सर्किल गार्डन में सौर ऊर्जा पैनल लगने जा रहा है। ऐसे में जेडीए को जल्द ही बिजली के भारी—भरकम बिल से राहत मिलने की उम्मीद की जा रही है।

जेडीए की आर्थिक स्थिति इन दिनों ठीक नहीं है। जेडीसी टी रविकांत ने जबसे जेडीए में काम संभाला है, उन्होंने जेडीए को आर्थिक मोर्चे पर मजबूत करने के लिए काफी प्रयास किए हैं। इसी क्रम में जेडीसी ने अब जेडीए मुख्यालय और 2 पार्कों में सोलर पैनल लगवाने का फैसला लिया है। मौजूदा समय में जेडीए मुख्यालय, सेंट्रल पार्क और जवाहर सर्किल पार्क का सालाना बिल करीब ढाई करोड़ रुपए है। उम्मीद की जा रही है कि जेडीए का यह भारी भरकम बिल सोलर पैनल लगने के बाद करीब आधे से भी कम हो जाएगा।

खास बात यह है कि जेडीए को सोलर पैनल लगाने के लिए कोई खर्चा वहन नहीं करना पड़ेगा। भारत सरकार की कंपनी ईईएसएल नि:शुल्क ही ये पैनल लगाएगी। इसके साथ ही 25 वर्ष तक इसके रखरखाव की जिम्मेदारी भी जेडीए की ही होगी। आने वाले कुछ ही दिनों में इसका काम शुरु हो जाएगा और अगले तीन महीनों में ही यह काम करना शुरु भी कर देगा। जेडीसी के निर्देश पर जेडीए के संबधित अधिकारी इसके लिए लगातार काम कर रहे हैं।

अगर पहले फेज में यह प्रोजेक्ट जेडीसी टी रविकांत की उम्मीदों पर खरा उतरा तो आने वाले दिनों में जेडीए द्रव्यवती नदी, रामनिवास बाग पार्किंग समेत अन्य कई जगहों पर भी इसको काम में लेगा। शहर के अधिकतर पार्कों में जेडीए सौर उर्जा पैनल लगावाने की योजना बना रहा है।

सौर उर्जा पैनल से जुड़े कुछ फैक्ट्स :
- जेडीए मुख्यालय, सेंट्रल पार्क और जवाहर सर्किल पार्क का मौजूदा बिजली बिल का सालाना खर्च अभी करीब 2.5 करोड़ रुपए है। सौर उर्जा के बाद यह आधे से भी कम हो जाएगा।
- जेडीए अभी 11 रुपए प्रति यूनिट की दर पर विद्युत विभाग से बिजली खरीद रहा है।
- पैनल लगने के बाद यही बिजली 5 रुपए के आस-पास प्रति यूनिट जेडीए को मिलेगी।
- तीनों जगह लगेंगे 800 किलोवाट के पैनल।
- मुख्यालय पर करीब 600 किलोवाट विद्युत की खपत होती है। इसी हिसाब से सोलर पैनल लगाने की बात चल रही है।
- 100-100 किलोवाट के विद्युत खपत होती है दोनों पार्कों में, इसी के आधार पर यहां लगाए जाएंगे पैनल।

गौरतलब है कि जेडीए में पहले भी कई बार खर्चे कम करने की योजना पर काम हुआ है, लेकिन बिजली का बिल आधा करके भी बचत हो सकती है, इस ओर किसी का ध्यान नहीं गया। अब जेडीसी टी रविकांत की पहल से जेडीए में यह काम होने जा रहा है, जिससे बिजली का खर्च भी कम होगा और सौर उर्जा को बढ़ावा भी मिलेगा।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in