दूर के रिश्ते में लगने वाले नाना ने ही की बच्ची से दरिंदगी, परिजनों ने लोक लिहाज के डर से नहीं दी पुलिस को सूचना

दूर के रिश्ते में लगने वाले नाना ने ही की बच्ची से दरिंदगी, परिजनों ने लोक लिहाज के डर से नहीं दी पुलिस को सूचना

दूर के रिश्ते में लगने वाले नाना ने ही की बच्ची से दरिंदगी, परिजनों ने लोक लिहाज के डर से नहीं दी पुलिस को सूचना

नवलगढ़(झुंझुनूं): झुंझुनूं के पिलानी में पांच साल की मासूम से दुष्कर्म मामले को अभी एक माह ही हुआ था और पांच दिन पहले ही इस मामले में आरोपी को फंसी की सजा हुई थी कि झुंझुनूं में ही एक ढाई साल की बच्ची के साथ और दरिंदगी हो गई. झुंझुनूं के नवलगढ़ क्षेत्र में एक ढाई साल की एक बच्ची के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है. इसमें आरोपी बच्ची की मां का मामा (रिश्ते में नाना) है. इस कारण परिवार ने मुकदमा दर्ज नहीं करवाया. इस मामले की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची. पीड़ित परिवार की काउंसलिंग की. इसके बाद बच्ची के पिता ने रिपोर्ट दी.

घटना रविवार दिन में करीब 3 से 4 बजे के बीच की है. बच्ची घर पर थी. बाकी सदस्य इधर-उधर थे. इस दौरान बच्ची की मां का मामा घर में आ गया. बच्ची को अकेली देखकर दुष्कर्म किया. आरोपी बच्ची के रोने पर उसे छोड़कर भाग गया. परिवार के सदस्य घर पहुंचे तो घटना की जानकारी मिली. आरोपी परिवार का सदस्य था. इसलिए बदनामी के डर से पिता ने पुलिस में रिपोर्ट नहीं लिखाई. पुलिस को मुखबिर से इस घटना की सूचना मिली.

गोपनीय तरीके से मामले की जांच की गई:
पुलिस कर्मियों ने इस घटना की सूचना एसपी मनीष त्रिपाठी को दी. इसके बाद स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची. गोपनीय तरीके से मामले की जांच की गई. आखिर परिवार से बात करने पर सूचना सही पाई गई. मौके पर ही परिवार की काउंसलिंग की. इसके बाद परिवार ने रिपोर्ट दर्ज करवाई. एसपी मनीष त्रिपाठी ने बताया कि यदि परिवार इस मामले में रिपोर्ट नहीं देता तो वे खुद अपने स्तर पर एफआईआर दर्ज कार्रवाई करते. क्योंकि जो अपराध हुआ है. उसकी सजा दिलवाना जरूरी है.

जयपुर अभय कमांड सेंटर पर दी सूचना:
एसपी मनीष त्रिपाठी ने बताया कि इस मामले की सूचना मुखबिर ने पुलिस के जयपुर स्थित अभय कमांड सेंटर पर दी. जिसके बाद झुंझुनूं पुलिस तक इस बात की सूचना लगी तो पुलिस ने बिना कोई समय गंवाए ना केवल मौके पर जाकर कार्रवाई की. बल्कि जब पुलिस गांव पहुंची तो भी सादा ड्रेस, बिना कोई पुलिस के तामझाम के पहुंची. पहले पूरे मामले की जानकारी ली गई. बच्ची को अस्पताल पहुंचाया गया और आरोपी को दबोचा गया.

बच्ची जयपुर में भर्ती:
पीड़ित मासूम की स्थिति खराब होने के कारण उसे थानाधिकारी द्वारा ही नवलगढ़ अस्पताल में भर्ती करवाया गया. इस दौरान मेडिकल जांच में दुष्कर्म की पुष्टि हुई. पीड़िता को फिलहाल इलाज के लिए जयपुर के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. मामले में 30 साल के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

एसपी ने खुद की मॉनिटरिंग:
पूरे मामले की मॉनिटरिंग खुद एसपी मनीष त्रिपाठी ने की. उन्होंने तत्काल अस्पताल पहुंचकर बच्ची के परिजनों से मुलाकात की. बच्ची को अच्छे इलाज के लिए जयपुर में भर्ती करवाया गया. साथ ही घटनास्थल का भी मौका मुआयना किया गया. एफएसएल की टीम ने भी मौके पर पहुंचकर सबूत जुटाए.

कोर्ट ने भेजा 24 तक रिमांड पर:
इधर, डीएसपी सतपालसिंह देर शाम को झुंझुनूं पोक्सो कोर्ट में आरोपी को लेकर पहुंचे. जहां पर कोर्ट ने 24 मार्च तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है. बताया जा रहा है कि पीड़िता का परिवार चूरू जिले के एक गांव में रहता है. लेकिन कुछ दिनों से पीड़िता की मां अपनी नानी के यहां पर मजदूरी करने के सिलसिले में आई हुई थी. घटना के वक्त पीड़िता की मां और पिता, दोनों ही मजदूरी के लिए गए हुए थे.

और पढ़ें