मोबाइल पर हुई दोस्ती परवान चढ़ी तो दोनों ने घर से भाग कर की शादी, 17 दिन बाद ही लड़की कोर्ट में बोली- पिता के साथ रहना चाहती हूं

मोबाइल पर हुई दोस्ती परवान चढ़ी तो दोनों ने घर से भाग कर की शादी, 17 दिन बाद ही लड़की कोर्ट में बोली- पिता के साथ रहना चाहती हूं

मोबाइल पर हुई दोस्ती परवान चढ़ी तो दोनों ने घर से भाग कर की शादी, 17 दिन बाद ही लड़की कोर्ट में बोली- पिता के साथ रहना चाहती हूं

जोधपुर: जालोर जिले में रहने वाले एक युवक व युवती के बीच मोबाइल पर हुई दोस्ती ऐसी परवान चढ़ी कि दोनों ने घर से भाग कर विवाह कर लिया. युवक से मिले बगैर उसके साथ शादी करने वाली युवती का चंद दिनों में ही प्यार का रंग उतर गया. पति की तरफ से पेश बंदी प्रत्याक्षीकरण याचिका की सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट में पेश की गई युवती ने अपने पिता के साथ रहने की इच्छा व्यक्त की. इसके बाद कोर्ट ने उसे अपने माता-पिता के साथ जाने की अनुमति प्रदान कर दी.  

सायला निवासी जीतराम माली ने अपनी पत्नी को लेकर हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की. उसकी याचिका पर हाईकोर्ट ने युवती को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया. न्यायाधीश संदीप मेहता व न्यायाधीश मनोज कुमार गर्ग की खंडपीठ के समक्ष कल पुलिस ने युवती को पेश किया. युवती ने कोर्ट में स्पष्ट कहा कि वह अपने माता-पिता के साथ रहना चाहती है. उसका कहना था कि मोबाइल पर हुई जानपहचान के बाद हुई दोस्ती प्यार में बदल गई. युवक से मिले बगैर उसने उसके साथ जाकर शादी कर ली. लेकिन साथ रहने पर अहसास हुआ कि दोनों का साथ निभ पाना मुश्किल है. ऐसे में उसने अब अपने माता-पिता के साथ रहने का फैसला किया. खंडपीठ ने युवती को उसकी इच्छानुसार माता-पिता के साथ रहने की अनुमति प्रदान कर दी. 

जालोर जिले के सायला से फरार एक युगल ने प्रेम विवाह किया था: 
उल्लेखनीय है कि जालोर जिले के सायला से फरार एक युगल ने प्रेम विवाह किया. यह जोड़ा चार दिन पूर्व अपने घरवालों के डर से सुरक्षा के लिए संरक्षण की मांग को लेकर हाईकोर्ट में अर्जी लगाने जा रहे थे. तब बीच रास्ते ही कोर्ट के सामने युवती के घरवालों ने युगल को रोका और उसे अपने साथ ले गए. युवक ने इस बारे में कुड़ी थाने में केस दर्ज कराया. बताया जाता है कि युवती के घरवालों ने युवक के खिलाफ सायला थाने में उसके अपहरण का केस भी करवाया था. जालोर जिले के सायला थानान्तर्गत बिराना के रहने वाले जीताराम माली की तरफ से यह रिपोर्ट दी गई. इसमें बताया कि उसने एक युवती से कोर्ट में 10 जुलाई को प्रेम विवाह किया था. अब घरवालों के डर से वे सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट जा रहे थे. तब बीच रास्ते में लडक़ी के घरवालों उसके पिता, भाई एवं आदि ने रास्ता रोका और मारपीट करते हुए उसकी पत्नी को अपने साथ अपहरण कर ले गए.

...फर्स्ट इंडिया न्यूज के लिए राजीव गौड़ की रिपोर्ट

और पढ़ें