कानपुर कानपुर में बदमाशों को पकड़ने गई पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग, आठ पुलिसकर्मी शहीद

कानपुर में बदमाशों को पकड़ने गई पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग, आठ पुलिसकर्मी शहीद

कानपुर में बदमाशों को पकड़ने गई पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग, आठ पुलिसकर्मी शहीद

कानपुर: देर रात कानपुर में एक हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. इसमें एक सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए. हमले में सात पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. घायल पुलिसकर्मियों में से एक की हालत बेदह गंभीर बनी हुई है, उनके पेट में गोली लगी है. ये मुठभेड़ कानपुर के शिवराजपुर इलाके में रात 1 बजे हुई. कानपुर के चौबेपुर थाना इलाके में पुलिस ने बिकरू गांव में दबिश दी थी.पुलिस यहां हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई थी.

देर रात गहलोत सरकार ने जारी की 103 IAS अधिकारियों की तबादला सूची, डीबी गुप्ता को हटाकर राजीव स्वरूप को बनाया मुख्य सचिव 

पुलिस ने तीन अपराधियों को मार गिराया: 
जानकारी के अनुसार कानपुर में एनकाउंटर वाली जगह से कुछ दूर एक और एनकाउंटर हुआ है जहां पुलिस ने तीन अपराधियों को मार गिराया है. पुलिस सूत्रों का कहना है कि ये तीनों वही अपराधी हैं जो विकास दुबे के साथ थे. जबकि विकास अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है.

घर के अंदर और छतों से गोलियां चलाई गईं:
बता दें कि गुरुवार रात करीब साढ़े 12 बजे बिठूर और चौबेपुर पुलिस ने मिलकर विकास दुबे के गांव बिकरू में उसके घर पर दबिश दी. इस पर विकास और उसके 8-10 साथियों ने पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. घर के अंदर और छतों से गोलियां चलाई गईं. इसमें आठ पुलिसवाले शहीद हो गए. उनमें सीओ देवेंद्र कुमार मिश्रा, एसओ महेश यादव, चौकी इंचार्ज अनूप कुमार, सब-इंस्पेक्टर नेबुलाल, कांस्टेबल सुल्तान सिंह, राहुल, जितेंद्र और बबलू शामिल हैं. 

संतोष शुक्ला की थाने में घुसकर हत्या की थी:
विकास दुबे वही अपराधी है, जिसने 2001 में राजनाथ सिंह सरकार में मंत्री का दर्जा पाए संतोष शुक्ला की थाने में घुसकर हत्या की थी. 25000 के इनामी विकास दुबे पूर्व प्रधान व जिला पंचायत सदस्य भी रह चुका है. इसके खिलाफ 60 में से करीब 53 हत्या के प्रयास के मुकदमे चल रहे हैं. हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का जघन्य आपराधिक इतिहास रहा है.

योगी ने घटना की रिपोर्ट तलब की: 
मुख्यमंत्री योगी ने कानपुर की इस घटना में मारे गए पुलिसकर्मियों के प्रति शोक और उनके परिजनों से संवेदना प्रकट की है. योगी ने घटना की रिपोर्ट तलब की है और साथ ही डीजीपी एचसी अवस्थी से अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है. 

शहीद दीपचंद को दी गई अंतिम विदाई, पैतृक गांव में राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार 

60 में से करीब 53 हत्या के प्रयास के मुकदमे:
25000 के इनामी विकास दुबे पूर्व प्रधान व जिला पंचायत सदस्य भी रह चुका है. इसके खिलाफ 60 में से करीब 53 हत्या के प्रयास के मुकदमे चल रहे हैं. हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का जघन्य आपराधिक इतिहास रहा है.

और पढ़ें