VIDEO: अंधविश्वास की पराकाष्ठा, 6 घंटे तक कमरे में पति का शव रखकर पत्नी बोली तंत्र मंत्र से कर दूंगी जिंदा

VIDEO: अंधविश्वास की पराकाष्ठा, 6 घंटे तक कमरे में पति का शव रखकर पत्नी बोली तंत्र मंत्र से कर दूंगी जिंदा

सीकर: यह अंधविश्वास की कहानी है जिसने पूरे शहर को सकते में डाल दिया. रामलीला मैदान में हार्ट अटैक से एक ज्वेलर की मौत के बाद पत्नी 6 घंटे तक कमरे में लेकर बैठी रही और दावा करती रही कि तंत्र मंत्र के दम पर वह अपने पति को वापस जिंदा कर देगी. लोगों की समझाइश के बाद देर शाम अंतिम संस्कार हो सका. 

वरमाला के दौरान स्टेज पर दूल्हे की पहली पत्नी ने पहुंचकर मचाया हंगामा, मची अफरा-तफरी 

जिंदा करने के दावे की सच्चाई जानने के लिए जुटी लोगों की भीड़:
यह खबर बेहद चौंकाने वाली है इसलिए लोगों की भीड़ जुट गई. पूरा परिवार पुलिस और शहर के लोग महिला द्वारा पति को जिंदा करने के दावे की सच्चाई जानने के लिए जुटे रहे. देर शाम तक जब यह दावा झूठा निकला तो घर के परिजनों की समझाइश के बाद अंतिम संस्कार किया गया. हालांकि पुलिस और कुछ लोगों को महिला को समझाने की कोशिश की लेकिन वे पत्नी की जीद के आगे हार गए. 

महिला के बेटे ने भी उसका पूरा सहयोग दिया:
हैरानी की बात तो यह रही कि इसमें महिला के बेटे ने भी उसका पूरा सहयोग दिया. पत्नी आठवीं पास है और बेटा भी बी सी ए  किया हुआ है. इसके बावजूद भी यह अंधविश्वास हावी रहा. 50 साल के सुभाष सोनी घंटाघर के पास गुलजार मंजिल में ज्वैलर की दुकान चलाते थे. वे सुबह 6:00 बजे दुकान के लिए रवाना हुए थे उसी दौरान हार्टअटैक का दौरा गया. परिजन उसे अस्पताल में लेकर पहुंचे जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. परिजन बिना पोस्टमार्टम के शव लेकर घर आ गए. 

VIDEO- Corona virus: राजस्थान में 30 मार्च तक स्कूल, मॉल, सिनेमाघर और कोचिंग सेंट बंद, बोर्ड समेत अन्य परीक्षाएं रहेंगी यथावत 

9 साल पहले इसकी बेटी की मौत हो गई थी:
पत्नी सुमित्रा को जब पति की मौत की जानकारी मिली तो 10:00 बजे वह पति के शव को कमरे में लेकर बैठ गई और तंत्र मंत्र के दम पर जिंदा करने का दावा करने लगी. शाम तक जब कुछ भी नहीं हुआ तो परिजनों की काफी समझाइश के बाद आखिर देर शाम अंतिम संस्कार कर दिया गया. परिजनों का यह भी कहना है कि 9 साल पहले इसकी बेटी की मौत हो गई थी तभी से पत्नी सदमे में चल रही है. इसके चलते उसे ज्यादा दबाव नहीं बना पाए. पुलिस और कॉलोनी वासियों की समझाइश के बाद देर शाम अंतिम संस्कार किया गया. 

और पढ़ें