योगी सरकार की 4.79 लाख करोड़ के बजट से मतदाताओं को साधने की कोशिश

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/07 02:34

लखनऊ। यूपी की योगी सरकार ने आज प्रदेश का तीसरा बड़ा बजट पेश कर दिया। उत्तरप्रदेश के वित्तमंत्री राजेश अग्रवाल ने 2019-20 का बजट पेश किया। इस चुनावी साल में योगी सरकार ने 4.79 लाख करोड़ के जरिए सभी वर्गों को साधने की कोशिश की है। यूपी बजट 2019 में करीब 21,212 करोड़ की नई योजनाओं की घोषणा की गई है।

बतादें, 2019 लोकसभा चुनाव से ठीक पहले इस अहम बजट में योगी सरकार ने धार्मिक अजेंडे के साथ ही महिलाओं, युवाओं और किसानों को विशेष तरजीह दी। गांवों में गोवंश के रख-रखाव पर 247 करोड़ और शहरों में कान्हा गोशाला के लिए 200 करोड़ जारी किया गया, वहीं 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य को पूरा करने पर जोर दिया गया। 

मालूम हो, उत्तर प्रदेश में 10 लाख 10 हजार और लोगों को आयुष्मान भारत के दायरे में लाया जाएगा। मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत यूपी सरकार ने 111 करोड़ रुपये का बजट तय किया। सहकारी क्षेत्र की बंद चीनी मिलों के लिए 50 करोड़ रुपये और पीपीपी मोड पर चलाने के लिए 25 करोड़ रुपये का बजय तय किया गया है।

पुलिसकर्मियों के बैरक के लिए 700 करोड़। टाइप ए, बी के लिए 700 करोड़। पुलिस की 7 लाइनों के लिए 400 करोड़, 57 फायर स्टेशन पर भवनों के लिए 200 करोड़, आधुनिकीकरण के लिए 204 करोड़।बस सेवा से वंचित 14,561 गांव जोड़े जाएंगे। 

योगी सरकार ने राजकीय इंटर कॉलेज की स्थापना के लिए 10 करोड़,कन्या सुमंगलम योजना के लिए 1200 करोड़, प्रादेशिक विमान के लिए 150 करोड़,अनुसूचित छात्रों को 2307 करोड़,निराश्रित विधवाओं को 1410 करोड़।बुंदेलखंड के लिए बुंदेलखंड विकास बोर्ड के गठन का ऐलान किया गया। इसी तरह पूर्वांचल विकास बोर्ड के गठन का भी ऐलान।कुशीनगर के साथ गौतमबुद्धनगर का एयरपोर्ट भी जल्द ऑपरेशनल होगा। 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in