चलने लगी चुनावी बयार, नेताओं में उमड़ने लगा जनता के प्रति प्यार

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/04/14 03:41

बीकानेर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के नजदीक आने के साथ ही नेताओं की सक्रियता बढऩे लगी है। भाजपा के कई विधायकों ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में जाकर लोगों की समस्याओं की जानकारी लेना शुरू कर दिया है, वहीं कांग्रेस के नेता भी इसमें किसी प्रकार की कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

कहते हैं कि 'सुबह का भूला शाम को घर आ जाए तो उसे भूला नहीं कहते हैं।' ये कहावत राजनीतिक गलियारों में लागू नहीं होती है। बीकानेर में चार वर्षों के बाद बीकानेर पश्चिम क्षेत्र के विधायक गोपाल जोशी और पूर्व क्षेत्र विधायक सिद्धि कुमारी अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर आमजन की तकलीफें सुन रहे हैं।

कोई विधायक गलियों और चौक चौराहों पर लोगों की शिकायतें सुन रहा है, तो कोई अपने कार्यकर्ताओं के बीच बैठकर उनकी जुबानी। इतना ही नहीं, कांग्रेस भी जनता को रिझाने के लिए परिवर्तन यात्रा निकाल रही है। भाजपा विधायक और कार्यकर्ताओं का कहना है कि वे तो लगातार जनता के बीच ही रहे हैं।

जनता के बीच जाकर उनकी समस्याओं को सुनना और उनका समाधान कराने के दावे करने का सिलसिला यहीं तक सीमित नहीं हैं। इसमें भी दोनों पार्टियों के नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं। भाजपा के नेता तो कह रहे हैं कि वे तो शुरू से ही जनता के बीच रहे हैं और उनके सुख-दुख में उनके साथ खड़े रहे हैं। वहीं कांग्रेस नेताओं का कहना है कि उनकी परिवर्तन यात्रा को देखकर भाजपा को लगने लगा कि उनका वोट बैंक खिसक जाएगा, इसलिए उन्होंने भी आमजन के बीच जाना शुरू कर दिया है।

बहरहाल, जनता को मनाने और रिझाने की ये रस्म इस साल के अन्त तक चलेगी और बाद में फिर वही ढाक के तीन पात जैसे हालात। नेता सियासी गलियारों में बिजी हो जाएंगे और जनता अपने कार्यों में।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

संसद हमले की 17वीं बरसी पर शहीदों को देश कर रहा है याद

गजेंद्र सिंह शेखावत पहुंचे जयपुर, मीडिया से की खास बातचीत
मध्यप्रदेश में ही रहेंगे \'मामा\'
मणिपुर के जज के हिन्दू राष्ट्र वाले बयान पर सियासी घमासान
मध्यप्रदेश में कांग्रेस जीत गई लेकिन दिग्गज हार गए
मुख्यमंत्री का नाम अभी घोषित नही हुआ, लेकिन कार्यकर्ताओं में मारपीट शुरू हो गई
देश में अब एक महिला मुख्यमत्री रह गई
4 मिनट 24 ख़बरें | National News
loading...
">
loading...