अब कमलनाथ के हाथ मध्यप्रदेश की कमान, शपथ ग्रहण समारोह में सभी धर्मो के धर्मगुरु

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/17 01:46

भोपाल। मध्यप्रदेश से मुख्यमंत्री पद के लिए चुने गए कमलनाथ का आज शपथ ग्हण समारोह है। कमलनाथ सूबे के 31वें मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं। इस कार्यक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पहुंचे हैं। इसके अलावा कांग्रेस नेता शरद पवार के साथ जम्मू कश्मीर नेशनल कांग्रेस के नेता फारुख अब्दुल्ला भी पहुंचे। भोपाल के जम्बूदरी मैदान में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में सभी धर्मो के धर्मगुरु मौजूद हैं।

दरअसल, एक बार इंदिरा गांधी छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से लड़ रहे कमलनाथ के लिए चुनाव प्रचार करने आई थीं। इंदिरा ने तब चुनावी रैली में लोगों से कहा था, 'कमलनाथ मेरे लिए तीसरे बेटे जैसे हैं। कृपया उन्हें वोट दीजिए।' साल 1979 में कमलनाथ ने मोरारजी देसाई की सरकार से मुकाबला करने में कांग्रेस की मदद की थी। कमलनाथ संजय गांधी के हॉस्टलमेट थे और आपातकाल के बाद मोरारजी देसाई की सरकार में उनके लिए जेल भी गए थे। 39 साल बाद 72 साल के कमलनाथ ने अब इंदिरा गांधी के पोते कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए भी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में दमदार भूमिका निभाई है।

बतादें कमलनाथ 9 बार लोकसभा के लिए चुने जा चुके हैं। वह साल 1980 में 34 साल की उम्र में छिंदवाड़ा से पहली बार चुनाव जीते जो अब तक जारी है। कमलनाथ 1985, 1989, 1991 में लगातार चुनाव जीते। 1991 से 1995 तक उन्होंने नरसिम्हा राव सरकार में पर्यावरण मंत्रालय संभाला। वहीं 1995 से 1996 तक वे कपड़ा  मंत्री रहे।

गौरतलब है कि 1998 और 1999 के चुनाव में भी कमलनाथ को जीत मिली। लगातार जीत हासिल करने से कमलनाथ का कांग्रेस में कद बढ़ता गया और 2001 में उन्हें महासचिव बनाया गया। वह 2004 तक पार्टी के महासचिव रहे. छिंदवाड़ा में तो जीत का दूसरा नाम कमलनाथ हो गए और 2004 में उन्होंने एक बार फिर जीत हासिल की। यह लगातार उनकी 7वीं जीत थी। गांधी परिवार का सबसे करीबी होने का इनाम भी उनको मिलता रहा और इस बार मनमोहन सिंह की सरकार में वे फिर मंत्री बने और इस बार उन्हें वाणिज्य मंत्रालय मिला।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in