नई दिल्ली Election Result 2022: भाजपा की जीत पर बोले जेपी नड्डा- चार राज्यों में भारी जनसमर्थन प्रधानमंत्री की योजनाओं एवं नीतियों पर उनकी मंजूरी की मुहर है

Election Result 2022: भाजपा की जीत पर बोले जेपी नड्डा- चार राज्यों में भारी जनसमर्थन प्रधानमंत्री की योजनाओं एवं नीतियों पर उनकी मंजूरी की मुहर है

Election Result 2022: भाजपा की जीत पर बोले जेपी नड्डा- चार राज्यों में भारी जनसमर्थन प्रधानमंत्री की योजनाओं एवं नीतियों पर उनकी मंजूरी की मुहर है

नई दिल्ली: विधानसभा चुनावों में भाजपा की जीत का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देते हुए भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने गुरुवार को कहा कि पार्टी के प्रति भारी जनसमर्थन प्रधानमंत्री की योजनाओं एवं नीतियों पर उनकी मंजूरी की मुहर को दर्शाता है.

नड्डा ने यहां पार्टी मुख्यालय में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा  कि आज चुनाव के नतीजे एकतरफा भाजपा के पक्ष में आये हैं, आप सभी उसके विजय मार्च में इतनी बड़ी संख्या में पहुंचे हैं. करोड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं की ओर से मैं प्रधानमंत्री का स्वागत करता हूं और उन्हें बधाई देता हूं. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री मोदी को लगातार चौथी बार--2014 के लोकसभा चुनाव में, 2017 के विधानसभा चुनाव में, 2019 के लोकसभा चुनाव में और अब 2022 के विधानसभा चुनाव में लोगों का आशीर्वाद मिला है. उन्होंने कहा कि पिछले 37 सालों में पहली बार हुआ है कि कोई पार्टी अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद सरकार बना रही है तथा यह कि भाजपा की वोट हिस्सेदारी भी बढ़ी है. नड्डा ने कहा कि उत्तराखंड जब से बना है तब से हर चुनाव में सरकारें बदली हैं लेकिन पहली बार राज्य ने किसी दल को सत्ता में बने रहने के लिए उसके पक्ष में वोट डाला है.

उन्होंने कहा कि मणिपुर में पार्टी स्पष्ट बहुमत से सरकार बनाने वाली है तथा गोवा में पार्टी तीसरी बार सरकार बनाएगी. मोदी की तारीफ करते हुए नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने ‘भाईभतीजावाद, भ्रष्टाचार, अपराध, जातिवाद, संप्रदायवाद और क्षेत्रवाद की राजनीति के स्थान पर ‘रिपोर्ट कार्ड, विकास, जन सशक्तिकरण की राजनीति’ का सूत्रपात किया. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि योगी ने राज्य में कानून का शासन कायम किया जबकि पांच साल पहले भय का शासन था तथा अपराधियों एवं आतंकवादियों को पिछले शासन में संरक्षण प्राप्त था. सोर्स- भाषा

और पढ़ें