close ads


चर्चा में एक चमत्कारिक बाबा, कैंसर से लेकर हर प्रकार के रोगों के निदान का करते है दावा

चर्चा में एक चमत्कारिक बाबा, कैंसर से लेकर हर प्रकार के रोगों के निदान का करते है दावा

डीडवाना: भारत आस्थाओं और परंपराओं वाला देश है. यही वजह है कि यहां पग-पग पर मंदिर देवालय और देवरे बने है. लोग अपनी अपनी मान्यताओं और परंपराओं के अनुसार श्रद्धा से धर्म का पालन करते है. मगर आस्थाओं की वजह से सैलाब भी उमड़ता हैं, लेकिन इसी श्रद्धा के उमड़ते सैलाब को तथाकथित बाबा अंधविश्वास पैदा कर अपने फायदे के लिए अपनी और मोड़ लेते है और इन दिनों डीडवाना में भी शायद ऐसा ही चल रहा है और इन दिनों डीडवाना में एक चमत्कारिक बाबा रावतसर से अवतरित होकर आए है. 

दावा है झाड़े से हो जाते है सब रोग दूर:
बाबा दावा करते है कि केंसर, गठिया, अस्थमा, सिरदर्द पथरी दर्द, शुगर, बीपी जैसी बीमारियों का निःशुल्क झाड़ा लगाते है. बाबा का दावा हैं कि चार झाड़ो से इन बीमारियों से पीड़ित का इलाज हो जाता है. बाबा के इस तथाकथित दावे के बहकावे में आकर इन दिनों गांवो में बाबा के झाड़े लगवाने वालों की भीड़ उमड़ रही है. बाबा डीडवाना के आसपास पालोट गांव के तेजाजी मंदिर, निम्बी गांव, बेरी गांव, मांडेता, सहित दर्जनों गांवों के मंदिरों में आकर अपने कुछ चेलों के साथ डेरा डालते है और फिर दुख दर्द लेकर पंहुचे श्रद्धालुओं खासकर पीड़ित लोगों के पानी के छींटे डालकर झाड़ा लगाते हैं. बाबा एक गांव में नही रुकते अलग अलग गांवो जाकर झाड़ा लगाते है. सिलसिला बीते एक महीने से ज्यादा समय से चल रहा है. 

मीडिया कवरेज से बाबा अपने आपको रखते हैं दूर:
बाबा के दावों में कितनी सच्चाई है इसको जानने के लिए जब हमारी टीम पालोट गांव पंहुची तो बाबा भीड़ में पानी के छींटे मार कर झाड़ा दे रहा था. कैमरा ऑन किये दस सेकंड ही हुए थे, बाबा की नजर हमारे कैमरे पर पड़ गई तो बाबा ठिठक गए. झाड़ा देना बंद करके टीम के पास आ गए और इस चमत्कारिक झाड़े की रिकॉर्डिंग करने से मना कर दिया. बाबा के चेले भी चारों तरफ आकर खड़े हो गए. तो कुछ ग्रामीण भी आ गए और हमे मंदिर से बाहर जाने को कहा गया. हमने बाबा से पूछा कि बाबा जनता की भलाई के लिए यह सब कर रहे हो तो आपको हमारी रिकॉर्डिंग से क्या दिक्कत है? बाबा बोले मुझे कोई पब्लिसिटी नहीं चाहिये और न ही टीवी में आना है. मौके पर भीड़ की नजाकत समझकर हमने रिकॉर्डिंग रोक ली और बाहर निकल गए, लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या बाबा सच मे चमत्कारिक है? बाबा के इलाज वाले दावों में कितनी हकीकत है? अगर है तो बाबा मीडिया से क्यों डरते है? या फिर बाबा कही अंधविश्वास का मायाजाल फैलाकर कहीं लोगों को ठग तो नहीं रहा? 

... नागौर संवाददाता नरपत ज़ोया की रिपोर्ट

और पढ़ें