चंडीगढ़ सिद्धू ने संभाली पंजाब कांग्रेस की कमान, अध्यक्ष बनते ही दिखाए आक्रामक तेवर; कैप्टन ने भी कही यह बात

सिद्धू ने संभाली पंजाब कांग्रेस की कमान, अध्यक्ष बनते ही दिखाए आक्रामक तेवर; कैप्टन ने भी कही यह बात

सिद्धू ने संभाली पंजाब कांग्रेस की कमान, अध्यक्ष बनते ही दिखाए आक्रामक तेवर; कैप्टन ने भी कही यह बात

चंडीगढ़: नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) के अध्यक्ष का पद संभाल लिया है. अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Elections) से पहले कांग्रेस में जारी संकट अब थमता नजर आ रहा है. चंडीगढ़ में आयोजित एक कार्यक्रम में सिद्धू की ताजपोशी हुई. इस दौरान मंच पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी मौजूद रहे. 

प्रदेश अध्यक्ष बनते ही नवजोत सिंह सिद्धू ने आक्रामक तेवर दिखाते हुए केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि आज देश का किसान दिल्ली की सड़कों पर धरना दे रहा है, सबसे बड़ा मसला यही है. सिद्धू ने कहा कि कार्यकर्ता के विश्वास में भगवान की आवाज है, हम कार्यकर्ताओं की आवाज को सुनेंगे. उन्होंने कहा कि क्यों चोरों की चोरी पकड़ी ना जाए और क्यों महंगी बिजली खरीदी जाए. 

सारा बॉर्डर पाकिस्तान से सटा है और हमें बहुत सावधान रहने की जरूरत:
सिद्धू से कहा कि सारा बॉर्डर पाकिस्तान से सटा है और हमें बहुत सावधान रहने की जरूरत है. कांग्रेस पार्टी एक जमात है जो देश की आजादी के लिए लड़ती रही है. अब हमें अपना फर्ज और अपनी डयूटी निभानी है. उन्होंने मनमुटाव की अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा कि सोनिया गांधी ने मुझसे कहा कि नवजोत पंजाब के अध्यक्ष होंगे तो मैंने कह दिया था कि आपका जो भी फैसला होगा वो हमें मंजूर होगा. बता दें कि इससे पहले पंजाब भवन में चाय पार्टी के दौरान नवजोत सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के पैर छुए. इसके साथ ही पार्टी में पिछले लगभग ढाई माह से चली आ रही तनातनी खत्म हो गई.

कैप्टन ने कहा- जब सिद्धु पैदा हुए थे, तब मेरा कमीशन हुआ था
वहीं इस दौरान कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कैप्टन ने बताया कि वह सिद्धू को बचपन से जानते हैं. उन्होंने कहा, 'जब सिद्धु पैदा हुए थे, तब मेरा कमीशन हुआ था.' अमरिंदर सिंह ने ये बताने की कोशिश कि सिद्धू जब पैदा हुए थे तब से इनके परिवार को जानते हैं. कैप्टन ने कहा, 'साल 1970 में जब मैंने फोज छोड़ी थी तब मेरी माता जी ने मुझे राजनीति में आने की सलाह दी थी. नवजोत सिंह सिद्धू के पिता जी से मेरा तब का रिश्ता है. ये हम दोनों के परिवार की बैकग्राउंड हैं.

और पढ़ें