पहले तो प्रैक्टिस थी, अब रीयल करना है : पीएम मोदी

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/28 06:12

नई दिल्ली। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया। इस दौरान पीएम मोदी ने साइंस एंड टेक्नॉलोजी के क्षेत्र में दिया जाने वाले शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार के इवेंट को दिल्ली विज्ञान भवन में उपस्थित लोगों को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत दुनिया की सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बन चुका है। दुनिया को हमारे वैज्ञानिकों के कौशल ने चकित किया है और 2020 तक हमारा अपना गगनयान सफलतापूर्वक देश के लोगों को अंतरिक्ष में ले जाएगा।

समारोह को सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमें अपनी मौलिक शक्ति को बनाए रखते हुए भविष्य के समाज और इकॉनमी के हिसाब से ढालना होगा। विज्ञान से जुड़े हमारे संस्थानों को भविष्य की आवश्यकताओं के अनुरूप अपने आपको गढ़ना होगा। भारतीय वैज्ञानिकों ने हमेशा मानवता की भलाई के लिए अपना योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि जब इच्छाशक्ति हो तो सीमित संसाधनों में भी कैसे अद्भुत परिणाम दिए जा सकते हैं, इसका उदाहरण हमारा अंतरिक्ष कार्यक्रम है।

पाकिस्तान द्वारा विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने की घोषणा के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली अनौपचारिक प्रतिक्रिया आई है। नैशनल साइंस डे पर विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इशारों में अभिनंदन की चर्चा की। वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आप तो लैबरेटरी में जिंदगी गुजारने वाले लोग हैं और आप में पहले पायलट प्रोजेक्ट करने की परंपरा होती है। पायलट प्रोजेक्ट होने के बाद स्केलेबल किया जाता है। पीएम ने इशारों में भले कहा पर सभा में तालियां बजने लगीं, पीएम थोड़ा रुके और फिर कहा कि अभी रियल करना है, पहले तो प्रैक्टिस थी। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in