Live News »

भारत में लॉन्च हो चुका ये PC आपसे करेगा बात

भारत में लॉन्च हो चुका ये PC आपसे करेगा बात

नई दिल्ली : चीनी टेक कंपनी Lenovo ने अपना स्मार्ट Ultraslim लैपटॉप Yoga S940 को भारत में लॉन्च कर दिया है और ये लैपटॉप सिर्फ सिर्फ 1.2 किलो वजनी है इस लैपटॉप की खास बात यह है कि यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस है.साथ ही साथ इसमें एडवांस ऑडियो और डिस्प्ले टेक्नोलॉजी दी गई है.S940 की कीमत 1,39,990 रुपए है. Lenovo Yoga S940 कंपनी के बेहद पतले लैपटॉप सीरीज का अगला एडिशन है. भारत में इन दिनों अल्ट्रा-स्लीम लैपटॉप की डिमांड काफी बढ़ गई है ज्यादातर वर्किंग प्रोफेशनल्स और कॉलेज गोइंग स्टूडेंट्स इन लैपटॉप्स को काफी पसंद करते हैं इसकी वजह यह है कि ये लोग अपना ज्यादा से ज्यादा समय लैपटॉप पर ही बिताते हैं। Lenovo के अल्ट्रा-स्लीम लैपटॉप भारत में Rs 23,990 की शुरुआती कीमत में उपलब्ध है

क्या हैं फीचर्स: 


सिर्फ 1.2 किलो वजनी है योगा S940 लैपटॉप


लेनोवो योगा S940 पतला होने के साथ कई स्मार्ट फीचर्स से लैस है यह आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस तकनीक पर काम करता है यह फेस अनलॉक और वॉयस असिस्टेंट फीचर को सपोर्ट करता है यह खूबियां इसे अबतक का सबसे स्मार्ट अल्ट्रा स्लिम लैपटॉप बनाती है.


इसे खासतौर पर उन यूजर्स को ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है जो प्राइवेसी और सिक्योरिटी को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं इसके अलावा इसे इस्तेमाल करना काफी आसान है साथ ही यूजर को ज्यादा बेहतर व्यक्तिगत अनुभव देता है


कंपनी का कहना है कि लेनोवो योगा S940 दुनिया का पहला ऐसा लैपटॉप है जिसमें कॉनटूर ग्लास लगाए गए हैं। इसमें बेहद पतले बेजल और स्ट्रीमलाइन डिजाइन देखने को मिलता है


इसके 4K एचडीआर डिस्प्ले में 500 निट्स ब्राइटनेस मिलती है इसमें डॉल्बी विजन और डॉल्बी एटमॉस स्पीकर सिस्टम भी है जो स्मार्ट ऑडियो एंप्लीफायर से लैस है यह यूजर को मूवी देखने का बेहतरीन एक्सपीरियंस देती है.


यह सिर्फ 1.2 किलो वजनी है और इसकी मोटाई 2.2 एमएम है। इसमें 8th जनरेशन इंटेल कोर i7 प्रोसेसर और विंडोज 10 ओएस मिलता है लैपटॉप में 16 जीबी की रैम और 1 टीबी का स्टोरेज दिया गया है.
 

और पढ़ें

Most Related Stories

इंटरनेट की लत बनी मुसीबत! मां-बाप के रिचार्ज नहीं करवाने पर युवक ने की आत्महत्या

इंटरनेट की लत बनी मुसीबत! मां-बाप के रिचार्ज नहीं करवाने पर युवक ने की आत्महत्या

भोपाल: तकनीकी प्रधान इस युग में इंटरनेट ने लोगों के जीवन को काफी आसान बना दिया है. लेकिन इसके अब धीरे-धीरे कुछ लोगों के लिए इंटरनेट की लत जानलेवा भी साबित हो रही है. जी हां, इंटरनेट पैक का रिचार्ज नहीं कराने पर एक युवक के आत्महत्या कर लेने की खबर है. 

कोरोना संक्रमण को लेकर नया खुलासा, इतने दिन के बाद संक्रमित से नहीं फैलता वायरस 

बार-बार कहने पर भी परिजनों ने इंटरनेट का रिचार्ज नहीं कराया:
घटना भोपाल के बागसेवनिया थाना क्षेत्र की है. जहां एक युवक ने अपने माता-पिता से मोबाइल में इंटरनेट पैक का रिचार्ज कराने को कहा. जब बार-बार कहने पर भी परिजनों ने इंटरनेट का रिचार्ज नहीं कराया, तो युवक ने आत्महत्या कर ली. इस संबंध में बागसेवनिया थाने के एसएचओ ने बताया कि युवक की मां के रिचार्ज कराने से इनकार करने पर आत्महत्या कर ली. 

भरतपुर: कई दिनों तीन युवकों ने नाबालिग से किया गैंगरेप, तीन माह की गर्भवती होने पर हुआ खुलासा  

इंटरनेट की लत नई मुसीबत बन रही: 
पुलिस के अनुसार मामले की तहकीकात की जा रही है. सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है. लॉकडाउन के चलते जब लोगों के लिए दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करना भी मुश्किल साबित हो रहा है, इंटरनेट की लत नई मुसीबत बन रही है. इस तरह की घटनाएं समाज के लिए चिंताजनक है. 

जल्द लॉन्च होगा शाओमी का ये स्मार्टफोन, शानदार फीचर्स के साथ होगा पेश

जल्द लॉन्च होगा शाओमी का ये स्मार्टफोन, शानदार फीचर्स के साथ होगा पेश

नई दिल्ली: शाओमी जल्द नया मिडरेंज स्मार्टफोन (SmartPhone) लॉन्च करेगी. Redmi 10X फोन 26 मई को लॉन्च हो सकता है. इससे पहले ही स्मार्टफोन को एक चीनी ई-रिटेलर ने अपनी वेबसाइट पर लिस्ट कर दिया है.

प्री-बुकिंग के लिए किया गया लिस्ट: 
Xiaomi सब-ब्रांड को स्मार्टफोन वेबसाइट पर प्री-बुकिंग के लिए लिस्ट किया गया है. लिस्टिंग के मुताबिक फोन स्टैंडर्ड वेरिएंट और पायनियर वेरिएंट में लॉन्च होगा. ये अनुमान लगाया गया है कि फोन का स्टैंडर्ड वेरिएंट 4G एलटीई कनेक्टिविटी के साथ आएगा, जबकि पायनियर वेरिएंट 5G कनेक्टिविटी सपोर्ट करेगा. 

भाई ने किया रिश्तों को शर्मसार, दोस्तों के साथ मिलकर नाबालिग बहन का रेप कर उतारा मौत के घाट 

अप्रैल में लॉकडाउन के चलते देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी की बिक्री रही शून्य

अप्रैल में लॉकडाउन के चलते देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी की बिक्री रही शून्य

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के कारण हुए देशव्यापी लॉकडाउन के चलते इतिहास में पहली बार देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी की बिक्री शून्य रही है. इस की कंपनी ने पहले ही आशंका जता दी थी. सामान्य स्थिति में कंपनी हर महीने में लगभग डेढ़ लाख कारें बनाती है. लेकिन ऐसी पहली बार हुआ है कि 1983 के बाद आज तक जब कंपनी ने एक महीने में एक भी कार नहीं बेची है. 

Rajasthan Corona Updates: आज 58 नए संक्रमित मिले, मरीजों का ग्राफ पहुंचा 2642, जिलेवार जानें आंकड़े 

कंपनी ने पिछले एक महीने में एक भी कार नहीं बेची:
कोरोना वायरस के चलते देशभर में लॉकडाउन लागू होने के चलते 25 मार्च से मारुति सुजुकी के सभी प्लांट्स बंद हैं. ऐसे में कारों का प्रोडेक्शन बिल्कुल बंद पड़ा है. ऐसे में कंपनी के सभी शोरूम भी बंद रहे. इसी के चलते देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी ने पिछले एक महीने में एक भी कार नहीं बेची. 

अगले महीने भी बिक्री में सुधार की उम्मीद नहीं:
वहीं कंपनी के अधिकारियों की माने तो अगले महीने भी बिक्री में सुधार की उम्मीद नहीं है. इस वजह से ऑटो सेक्टर को लंबे समय तक संकट का सामना करना पड़ सकता है. मई में भी इसी तरह के हालात रहने की उम्मीद है. यह पूरी तरह से कोरोनावायरस पर ही निर्भर करता है. बता दें कि देश में 25 मार्च से लॉकडाउन लगा था और इसे 21 दिन बढ़ाकर 3 मई तक कर दिया गया है. इस दौराना देश में मारूति सुजुकी, हुंडई, टाटा समेत सभी कंपनियों के शोरूम बंद रहे. 

राजस्थान में कुछ रियायत के साथ लॉकडाउन बढ़ाने पर मंथन, मंत्रियों से लिया जा रहा फीडबैक 

मार्च महीने में 47.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई:
मार्च 2019 के आंकड़ों की तुलना में इस साल मार्च के महीने में  79,080 यूनिट्स की बिक्री के साथ 47.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. इसके बाद पहले ही इस बात का अंदाजा हो गया था कि अप्रैल के महीने में हालत और बुरी होने वाली है.

किसानों की फसल को बाजार तक पहुंचाने के लिए किसान रथ मोबाइल एप साबित होगा मील का पत्थर : कैलाश चौधरी

किसानों की फसल को बाजार तक पहुंचाने के लिए किसान रथ मोबाइल एप साबित होगा मील का पत्थर : कैलाश चौधरी

बाड़मेर: कोरोना लोकडॉउन के बावजूद देश में खेती-किसानी से जुड़े तमाम लोगों को हरसंभव मदद और राहत देने के लिए केंद्र सरकार निरंतर काम कर रही है. इसी कड़ी में शुक्रवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी एवं परषोतम रुपाला ने कृषि उत्पादों के परिवहन में सुगमता लाने के उद्देश्य से किसान रथ मोबाइल एप लांच किया. इस अवसर पर मंत्रालय के सचिव संजय अग्रवाल सहित अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे. बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न राज्यों में मंडियों से जुड़े व अन्य जनप्रतिनिधियों से संवाद किया गया.

Covid-19 Updates: देश में कोरोना केस बढ़ने में 40% की कमी आई, 80 फीसदी ठीक हो रहे- स्वास्थ्य मंत्रालय 

मौजूद संकट के दौर में कृषि का काम बहुत तेजी के साथ करने की आवश्यकता:
किसान रथ मोबाइल एप के बारे में जानकारी देते हुए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि कोरोना लॉकडाउन के चलते सामान्य चलने वाला कामकाज प्रभावित हुआ है. मौजूद संकट के दौर में कृषि का काम बहुत तेजी के साथ करने की आवश्यकता है. इसे देखते हुए केंद्र सरकार ने कृषि के काम में रूकावट न हो एवं किसानों को परेशानी नहीं हो. इसलिए अनेक छूटें प्रारंभ से ही इस क्षेत्र के लिए दी है. खेती-किसानी का काम इन दिनों जोरों पर है व अनेक राज्यों में उपार्जन का काम भी प्रारंभ हो गया है. 

कई दिनों की तैयारी के बाद किसान रथ मोबाइल एप लांच: 
कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि सारी रियायतों के बाद भी कृषि उत्पादों के परिवहन में कुछ परेशानियों की शिकायतें आई. इस दृष्टि से कृषि मंत्रालय ने इस कठिनाई को हल करने के लिए कई दिनों की तैयारी के बाद किसान रथ मोबाइल एप लांच किया है.

Rajasthan Corona Updates: प्रदेश में लगातार बढ़ रहा कोरोना का दायरा, 1193 पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा 

एप कृषि उत्पादों के सुचारू परिवहन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा:
उन्होंने कहा कि यह मोबाइल एप निश्चित रूप से पूरे देश में कृषि उत्पादों के सुचारू परिवहन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा. पहले दिन ही 5 लाख से अधिक वाहन उपलब्ध हैं. चौधरी ने कहा कि हमने कंट्रोल रूम भी सेटअप किया है, सभी राज्यों से अनुरोध है कि वे भी अपने यहां किसानों के हित में ऐसा कदम उठाएं. उन्होंने सभी किसानों से इस नए आयाम के भरपूर उपयोग की अपील की है. 

जूम ऐप पर गृह मंत्रालय की एडवाइजरी, सुरक्षित नहीं है ऐप, सावधानी बरतें

जूम ऐप पर गृह मंत्रालय की एडवाइजरी, सुरक्षित नहीं है ऐप, सावधानी बरतें

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की वजह से देश में चल रहे लॉकडाउन के चलते लोग एक दूसरे से जुड़ने के लिए वीडियो कॉल का इस्तेमाल कर रहे हैं. इसी बीच गृहमंत्रालय ने Zoom वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एप को लेकर एडवायजरी जारी की है, जिसमें कहा गया है कि इस ऐप का इस्तेमाल सावधानी से करें यह सुरक्षित नहीं है. बता दें कि इससे पहले भी ज़ूम पर यूजर की प्राइवेसी में दखल देने और डाटा चोरी जैसे आरोप लगे थे. 

राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा-लॉकडाउन से नहीं बनेगी बात, कोरोना की बढ़ाई जाएं टेस्टिंग

लगातार पासवर्ड बदलते रहें:
ऐसे में अब गृ मंत्रालय की ओर से भी कहा गया है कि सरकार ने पहले भी 6 फरवरी, 30 मार्च को इसको लेकर जानकारी दी थी, ऐसे में लोग इसपर सतर्कता बरतें. साथ ही कहा कि अगल लोग इसका इस्तेमाल कर भी रहे हैं तो लगातार पासवर्ड बदलते रहें, कॉन्फ्रेंस कॉल में किसी को अनुमित देते हुए सतर्कता बरतें. 

अखिलेश यादव ने किया ट्वीट, कहा-जिन्हें भी दिखें वायरस से पीड़ित होने के लक्षण , स्वयं जांच के लिए आये आगे  

एक साथ कई लोग करते हैं वीडियो कॉल:
गौरतलब है कि जब से देश में लॉकडाउन लागू हुआ है, तभी से अधिकतर लोग अपने घरों में बंद हैं. ऐसे में कई कंपनियां अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सहूलियत दे रही हैं. घर से काम करने के दौरान मीटिंग के लिए हाल में चर्चित हुए जूम एक का इस्तेमाल कर रहे हैं. इस एप पर एक साथ कई लोगों वीडियो कॉल कर सकते हैं.

लॉन्च हुआ एपल का ये नया हैंडसेट, जानिए फीचर्स और कीमत

लॉन्च हुआ एपल का ये नया हैंडसेट, जानिए फीचर्स और कीमत

नई​ दिल्ली: एपल के लेटेस्ट हैंडसेट एपल आईफोन एसई को देश में लॉन्च ​कर दिया गया है. एपल के इस लेटेस्ट मोबाइल में बेहद खूबियां है. फोन में एपल A13 बायोनिक चिपसेट है. एपल ने इसी चिपसेट का यूज आईफोन 11 सीरिज में भी किया था. एपल आईफोन एसई 2020 के 64 GB स्टोरेज वेरिएंट की भारत में दाम 42,500 रुपए तय हुई है. ये मोबाइल फोन 128 GB और 256 GB स्टोरेज वेरिएंट में भी उपलब्ध होगा. लेकिन कंपनी ने फिलहाल अपने बाकी 2 वेरिएंट के दाम पर कोई जानकारी नहीं दी है. 

कोरोना से मुकाबला कर रही सामाजिक संस्थाएं, सीएम गहलोत की पहल कोई भूखा ना सोये का कर रहे अनुसरण

बायोनिक चिपसेट का यूज:
एपल आईफोन SE 2020 में 4.7 इंच (750×1334 Pixels) रेटिना एचडी एलसीडी डिस्प्ले है. डिस्प्ले पैनल Haptic टच सपोर्ट के साथ आता है. स्पीड और मल्टीटास्किंग के लिए इस लेटेस्ट एपल आईफोन में A13 बायोनिक चिपसेट का यूज किया गया है. 

सेल्फी और वीडियो कॉलिंग कैमरा:
नए आईफोन में फेस आईडी सपोर्ट के बजाय टच आईडी बटन दिया गया है. एपल के इस नए आईफोन के पिछले भाग में 12MP प्राइमरी कैमरा सेंसर, अपर्चर F/1.8 है. बैक पैनल पर एलईडी ट्रू टोन फ्लैश भी है. सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के लिए 7MP का फ्रंट कैमरा सेंसर दिया गया है, अपर्चर एफ/2.2 है.नए आईफोन एसई 2020 में वाई-फाई 802.11 एक्स, ब्लूटूथ, 4G एलटीई, जीपीएस/ए-जीपीएस और लाइटनिंग पोर्ट दिया गया है.

राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा-लॉकडाउन से नहीं बनेगी बात, कोरोना की बढ़ाई जाएं टेस्टिंग

कीजिए आरोग्य सेतु एप डाउनलोड, जानिए क्यों जरूरी है यह एप

कीजिए आरोग्य सेतु एप डाउनलोड, जानिए क्यों जरूरी है यह एप

नई दिल्लीः देश में लॉकडाउन की अवधि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 3 मई तक के लिए बढ़ा दी है. साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए सोशल डिस्टेंसिग भी जरूरी है. इसलिए ध्यान रहे सोशल डिस्टेंसिंग की पूरी पालना होनी चाहिए.  देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आयोग्य सेतु का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए आरोग्य सेतु एप डाउनलोड जरूर करें. पीएम मोदी ने कहा यह एप लोगों के बेहद जरूरी है. उन्होंने कहा कि आप खुद भी यह एप डाउनलोड करें. साथ ही दूसरों को भी आयोग्य सेतु एप डाउनलोड करवाये. चलिए आपको बताते है कैसे आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करे.

Rajasthan Corona Update: SMS अस्पताल की खिड़की से कूदा कोरोना संदिग्ध, टीन शैड पर गिरने से बची जान

संक्रमण के खतरे का करता है आकलन:
जैसे देशभर में कोरोना का कहर बढ रहा है. वैसे इस खतरे का आकलन करना भी जरूरी है. आप आरोग्य सेतु एप की सहायता से कोरोना के खतरे और जोखिम का आकलन कर सकते है. इस आयोग्य एप को स्मार्टफोन में डाउनलोड किया जा सकता है. इस एप के माध्यम से आप जान सकते है कि आपके पास कोई कोरोना पॉजिटिव इंसान तो नहीं है. इस एप की सहायता से आप पता लगा सकते है.

ऐसे करे आरोग्य सेतु एप डाउनलोड:
सबसे पहले आप आपके स्मार्टफोन के ब्लूटूथ, स्थान और मोबाइल नंबर का यूज किया जाता है. आरोग्य सेतु एप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों पर आपको मिल जाएगी. यह एप स्टोर के जरिये डाउनलोड हो सकती है. आप आरोग्‍य सेतु AarogyaSetu स्टोर पर टाइप कीजिए. इससे यह एप खोजने में आसानी होगी. फिर आप AarogyaSetu पर डाउनलोड पर क्लिक करेंगे तो यह एप आपके फोन में डाउनलोड हो जाएगी. 

COVID 19: पीएम मोदी ने मांगा देशवासियों से 7 बातों में साथ, कहा-लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह करना होगा पालन

कोरोना महामारी पर पुलिस की सोशल मीडिया पर पैनी नजर, भ्रामक अफवाह फैलाने वालों पर सख्त कार्रवाई 

कोरोना महामारी पर पुलिस की सोशल मीडिया पर पैनी नजर, भ्रामक अफवाह फैलाने वालों पर सख्त कार्रवाई 

जैसलमेर: सीमावर्ती जिले जैसलमेर इन दिनों देश और प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोराना संक्रमितों के मामलों के बीच कई लोग जानबूझकर या अनजाने में कई प्रकार की भाम्रक जानकारियां या असंवेदनशील पोस्ट सोशल मीडिया के जरिये फैला रहे हैं. जिस पर पुलिस मुख्यालय से प्राप्त आदेशानुसार जैसलमेर पुलिस सख्ती दिखा रही है. बता दें कि जैसलमेर पुलिस अब तक अलग-अलग चार मामलों में कार्रवाई कर चुकी है और आगे भी ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी.

भ्रामक और गलत जानकारी साझा करने से बचें:
वहीं कुछ दिन पूर्व पाकिस्तान के फैसलाबाद शहर के एक वीडियो को जैसलमेर का बताकर सोशल मीडिया पर वायरल करने वालों के खिलाफ पुलिस मुख्यालय ने एक्शन लेने की तैयारी कर ली है. पुलिस ने लोगों से अपील की है कि सोशल मीडिया पर आने वाले वीडियो पर आमजन विश्वास ना करे. पुलिस अधीक्षक किरण कंग ने आमजन से अपील की है कि बिना पुष्टि के कोरोना से संबंधित कोई जानकारी सोशल मीडिया पर साझा ना करें और अन्य भ्रामक और गलत जानकारी साझा करने से बचें.

Coronavirus Updates: राजस्थान में कोरोना वायरस से 10 वीं मौत, जयपुर के जेके लोन अस्पताल में हुई 13 वर्षीय बालिका की मौत

अफवाह फैलाने से बचना चाहिए:
वहीं, एसपी ने बताया कि सोशल मीडिया पर लोग अपने विचार साझा करते है, लेकिन कई बार अज्ञानतावश या जानबूझकर धार्मिक और बीमारी से संबधित अफवाह या अनुचित जानकारी साझा करते है. जिस पर निर्देशानुसार कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने कहा कि जैसलमेर पुलिस की एक विशेष टीम सोशल मीडिया पर लगातार निगरानी रखे हुए है. ऐसे में आमजन को इस प्रकार की अफवाह फैलाने से बचना चाहिए.

Coronavirus Updates: कुशलगढ़ में बढे कोरोना वायरस के मामले, मरीजों की संख्या हुई 52, छह बच्चे भी हुए संक्रमित

कानूनी प्रावधानों में त्वरित होगी कार्रवाई:
कोविड-19 वायरस महामारी संक्रमण के संबंध में कोई सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करता है, भ्रामक जानकारी प्रसारित करता है या अफवाह फैलाता है, जिससे महामारी के बारे में भ्रम और आमजन में भय की स्थिति पैदा होती है तो उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 270, 505, और आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 52 के तहत या अन्य कानूनी प्रावधानों में त्वरित कार्रवाई की जाएगी. 

Open Covid-19