नई दिल्ली युवाओं को पीएम मोदी का संबोधन- 21वीं सदी में स्किल युवाओं की सबसे बड़ी ताकत

युवाओं को पीएम मोदी का संबोधन- 21वीं सदी में स्किल युवाओं की सबसे बड़ी ताकत

युवाओं को पीएम मोदी का संबोधन- 21वीं सदी में स्किल युवाओं की सबसे बड़ी ताकत

नई दिल्ली: वर्ल्ड यूथ स्किल डे के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज युवाओं को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि 21वीं सदी में स्किल युवाओं की सबसे बड़ी ताकत है. आज हमारे युवा कई नई बातों को अपना रहे हैं. स्किल की ताकत इंसान को कहां से कहां पहुंचा सकती है. एक सफल व्यक्ति की बहुत बड़ी निशानी होती है कि वो अपनी स्किल बढ़ाने का कोई भी मौका जाने ना दे.

विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी ने 19 विधायकों को जारी किए नोटिस, 3 दिन में मांगा जवाब 

छोटी-छोटी स्किल ही आत्मनिर्भर भारत की शक्ति बनेंगी: 
उन्होंने कहा कि कोरोना के इस संकट ने World Culture के साथ ही Nature of Job को भी बदलकर के रख दिया है. देश में अब श्रमिकों की मैपिंग का काम शुरू किया गया है, जिससे लोगों को आसानी होगी. पीएम ने कहा कि छोटी-छोटी स्किल ही आत्मनिर्भर भारत की शक्ति बनेंगी. स्किल के प्रति अगर आप में आकर्षण नहीं है, कुछ नया सीखने की ललक नहीं है तो जीवन ठहर जाता है. एक रुकावट सी महसूस होती है. 

गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार पर गंभीर संशय, विस्तार से पहले सरकार को हासिल करना होगा विश्वासमत! 

स्किल के प्रति आकर्षण, जीने का उत्साह देता है:
पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संकट में लोग पूछते हैं कि आखिर आज के इस दौर में आगे कैसे चला जाए. ऐसे में इसका एक ही मंत्र है कि आप स्किल को मजबूत करें. स्किल के प्रति आकर्षण, जीने का उत्साह देता है. स्किल सिर्फ रोजी-रोटी और पैसे कमाने का जरिया नहीं है. जिंदगी में उमंग चाहिए, जीने की जिद चाहिए, तो स्किल हमारी ड्राइविंग फोर्स बनती है, हमारे लिए नई प्रेरणा लेकर आती है. अगर कुछ नया सीखने की ललक नहीं है तो जीवन ठहर जाता है.


 

और पढ़ें