पीएम मोदी ने लॉन्च किया इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक, डाकिया बना अब चलता-फिरता बैंक

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/09/01 05:12

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज राजधानी दिल्ली स्थित तालकटोरा स्टेडियम में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक यानि आईपीपीबी का उद्घाटन किया है। वहीं इस मौके पर पीएम मोदी ने ​कहा कि चिट्ठी लाने वाला डाकिया अब सिर्फ डाकिया नहीं, बल्कि अब एक चलता-फिरता बैंक बन गया है। आईपीपीबी के तहत बचत खाता, चालू खाता, मनी ट्रांसफर तथा प्रत्यक्ष लाभांतरण के अलावा बिल, यूटिलिटी एवं व्यापारिक भुगतान जैसी अनेक सेवाएं प्राप्त होंगी। साथ ही यह देश का सबसे आसान, किफायती और भरोसेमंद बैंक होगा, जिसके चलते कोई बिना पढ़ा—लिखा व्यक्ति भी इसका आसानी से उपयोग कर सकता है।

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है, जिसे हमेशा एक अभूतपूर्व शुरुआत के लिए याद किया जाएगा। पोस्ट पेमेंट बैंक देश के अर्थतंत्र में, सामाजिक व्यवस्था में एक बड़ा परिवर्तन करने जा रहा है। इस शुरुआत से हम बैंक को गांव और गरीब के दरवाजे तक पहुंचाने का काम शुरु कर रहे हैं। आपका बैंक, आपके द्वार ये सिर्फ वाक्य नहीं, बल्कि हमारा सपना है। देशभर में इसकी 650 शाखाओं और 3 हजार 250 सेवा केंद्रों में बैंकिंग सुविधाएं मिलनी शुरू हो जाएंगी। सिर्फ आधार कार्ड से पोस्ट पेमेंट बैंक में खाता खुल जाएगा। 

पीएम मोदी ने कहा कि, देश में भले ही लोगों के मन में किसी सरकार के प्रति भरोसा डगमगाया होगा, लेकिन कभी भी किसी डाकिए के लोगों का भरोसा डगमगाया नहीं है। मैं तब से प्रधानमंत्री बना हूं, डाक विभाग का काम बढ़ गया है। दशकों पहले जब कोई डाकिया किसी गांव से दूसरे गांव में जाता था, तो कोई चोर-लुटेरा तक भी उसे परेशान नहीं करता था। भले ही वह कैसा भी इलाका हो। चोर-लुटेरों को भी पता था कि डाकिया किसी मां के लिए मनीऑर्डर और संदेशा लाया होगा।

गौरतलब है कि इससे पूर्व हाल ही में बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में आईपीपीबी के लिए प्रौद्योगिकी एवं मानव संसाधन विकास के मद में 635 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि देने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गई। पहले इसके लिए 800 करोड़ रुपए मंजूर किए गए थे। राशि अब बढ़कर 1,435 करोड़ रुपए हो गई है।

गौरतलब है कि इस साल के आखिर तक देश के सभी 1 लाख 55 हजार डाकघरों को सेवा केंद्रों के रूप में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक यानि आईपीपीबी से जोड़ दिया जाएगा। इस काम को पूरा करने की समय अवधि घटाने की वजह से 635 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि की जरूरत पड़ी है। इसमें 400 करोड़ रुपए प्रौद्योगिकी विकास के लिए और 235 करोड़ रुपए मानव संसाधन विकास के लिए दिए जाएंगे।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in