Live News »

नवाबों की नगरी में पहुंचे पीएम मोदी, टोंक को मिलेगी ट्रेन की सौगात!

नवाबों की नगरी में पहुंचे पीएम मोदी, टोंक को मिलेगी ट्रेन की सौगात!

टोंक। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज टोंक के दौरे पर हैं, जिसके तहत वे दिल्ली से वायुसेना के विशेष विमान के जरिये जयपुर पहुंचे और जयपुर से हैलिकॉप्टर के जरिये टोंक पहुंचे गए हैं। पीएम मोदी यहां आयोजित होने वाली 'विजय संकल्प रैली' में जनसभा को सम्बोधित करेंगे। पीएम मोदी की सभा से करीब 8 जिले और 7 लोकसभा सीटों को प्रभावित करने के प्रयास किए जाएंगे। इनमें टोंक-सवाईमाधोपुर, जयपुर, कोटा, बूंदी, अजमेर, दौसा, भीलवाड़ा तक पीएम मोदी की रैली का असर रहेगा।

टोंक दौर पर आए पीएम मोदी के जयपुर एयरपोर्ट पहुंचने पर राज्यपाल कल्याण सिंह ने उनकी अगवानी की। इस दौरान सीएस डीबी गुप्ता, कलेक्टर जगरूप यादव, डीजीपी कपिल गर्ग ने उनका स्वागत किया। इनके साथ ही पुलिस एवं प्रशासन के आला अधिकारी एयरपोर्ट पर मौजूद रहे। यहां से पीएम मोदी हैलीकॉप्टर के जरिये टोंक के लिए रवाना हुए। टोंक में पीएम मोदी की सभा को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह और उम्मीद की जा रही है कि पीएम यहां टोंकवासियों को ट्रेन की सौगात भी दे सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज टोंक में आयोजित 'विजय संकल्प रैली' में सभा को सम्बोधित कर प्रदेश में चुनावी शंखनाद करेंगे। वहीं खास बात यह भी है कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पीएम मोदी पहली बार राजस्थान आ रहे हैं और पुलवामा हमले में राजस्थान के भी 5 जवान शहीद हुए हैं। ऐसे में पीएम मोदी वीर सपूतों की धरती मरुधरा को नमन करते हुए आतंकवाद और पाकिस्तान पर भी हमले बोलेंगे।

राजस्थान में पीएम मोदी की सभा के लिए टोंक को चुने जाने के पीछे भी सियासी कारण हैं, जिनके चलते टोंक को चुना गया। चूंकि टोंक और सवाईमाधोपुर दोनों ही एक लोकसभा सीट में है। विधानसभा चुनावों में यहां के परिणाम भाजपा के लिए सुखद नहीं रहे थे और बीजेपी को यहां काफी नुकसान उठाना पड़ा था। टोंक से विधानसभा चुनाव में यहां से सचिन पायलट जीते थे। यह संपूर्ण लोकसभा सीट जातीय राजनीति से प्रभावित है और यहां पर मीणा, गुर्जर और मुस्लिम इस सीट को खासा प्रभावित करते हैं। ऐसे में भाजपा की मजबूती के लिए टोंक को चुना गया।

और पढ़ें

Most Related Stories

CM का 151 कर्मचारी संगठनों से संवाद, कहा- कोरोना की जंग में कर्मचारियों का अहम योगदान

CM का 151 कर्मचारी संगठनों से संवाद, कहा- कोरोना की जंग में कर्मचारियों का अहम योगदान

जयपुर: प्रदेश में कोरोना की लड़ाई में राज्य सरकार के कर्मचारी भी कंधे से कंधा मिलाकर लड़ रहे हैं. सरकार के आह्वान पर कर्मचारियों ने हर संभव मदद की है और इसी कारण आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेशभर से जुड़े करीब 151 कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधियों से संवाद किया. मुख्यमंत्री आवास से हुई वीसी में गहलोत ने कहा कि कोविड-19 की विकट चुनौती से निपटने में सरकारी और गैर-सरकारी कार्मिकों का तन-मन-धन से जो सहयोग सरकार को मिला है उसी का परिणाम है कि राजस्थान कोरोना की जंग में देश में सबसे आगे खड़ा है. 

बसपा का कांग्रेस में विलय पर हाईकोर्ट का रोक लगाने से इनकार, विधानसभा अध्यक्ष से मांगा जवाब 

बैठक में कई बड़े अधिकारी रहे मौजूद: 
मुख्यमंत्री आवास पर हुई बैठक में चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा, मुख्य सचिव राजीव स्वरूप, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह रोहित कुमार सिंह, महानिदेशक पुलिस भूपेन्द्र यादव, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, अतिरिक्त मुख्य सचिव खान एवं पेट्रोलियम सुबोध अग्रवाल, प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अखिल अरोरा, प्रमुख शासन सचिव कार्मिक रोली सिंह, शासन सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति हेमन्त गेरा तथा सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त महेन्द्र सोनी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे. 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी 

सभी अधिकारी और कर्मचारी समर्पण भाव से कार्य करें:
कर्मचारी नेताओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से लड़ाई अभी लंबी चलेगी, लेकिन आर्थिक गतिविधियों को पटरी पर लाना जरूरी है. इसके लिए सभी अधिकारी और कर्मचारी समर्पण भाव से कार्य करें. करीब 6 माह से हमने जनप्रतिनिधियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, उद्यमियों, धर्मगुरूओं सहित समाज के सभी वर्गों से लगातार संवाद कर जो फैसले लिए उससे कोरोना से लड़ने में बड़ी सहायता मिली है। वीसी में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि कार्यस्थलों पर कोरोना संक्रमण रोकना जरूरी है, वहीं मुख्य सचिव राजीव स्वरूप ने कहा कि कर्मचारी पूरे सुरक्षात्मक उपायों के साथ जिम्मेदारी निभाएं. सरकार कर्मचारियों की वाजिब समस्याओं को हल करेगी. इस बैठक में कर्मचारी नेता आयुदान कविया, गजेंद्र सिंह राठौड़, राजसिंह चौधरी, विजय सिंह धाकड़, मेघराज पंवार व कुलदीप यादव मौजूद थे. 

दो पक्षों में खूनी संघर्ष, उपचार के दौरान अस्पताल में भी जमकर चले लाठी डंडे

दो पक्षों में खूनी संघर्ष, उपचार के दौरान अस्पताल में भी जमकर चले लाठी डंडे

केशवरायपाटन(बूंदी): केशवरायपाटन थाना क्षेत्र के बालिता गांव में बुधवार दोपहर को दो पक्षो में खूनी संघर्ष हो गया. जानकारी मुताबिक गांव के ही केसरीलाल व तोलाराम मीणा के पहले से रंजिश चल रही थी. गत वर्ष एक पक्ष ने तोलाराम पर जानलेवा हमला कर दिया था. तब भी पुलिस में मामला दर्ज हुआ था. 

करौली: ट्रैक्टर-ट्रॉली की टक्कर से बाइक सवार मां-बेटे की मौत, ग्रामीणों ने पुलिस को जमकर खरी-खोटी सुनाई 

अस्पताल परिसर में होते झगड़े को देख हर कोई भौचक्का रह गया:
बुधवार दोपहर को फिर दोनों पक्षों के एक दर्जन लोगों में जमकर लाठी डंडे चले. सूचना पर केशवरायपाटन पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों के आधा दर्जन घायलों को राजकीय सामुदायिक चिकित्सालय लेकर आई. जहां उपचार के दौरान पुलिस की मौजूदगी में दोनों पक्षों के लोग झगड पड़े. अस्पताल परिसर में होते झगड़े को देख हर कोई भौचक्का रह गया. बदमाश परवर्ती के युवक अस्पताल में एक दूसरे पर ताबड़तोड़ लाठियां बरसाते नजर आए. हालांकि पुलिस बीच बचाव करती रही. पर इतनी देर में पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जो काफी चर्चा का विषय बना रहा. 

बसपा का कांग्रेस में विलय पर हाईकोर्ट का रोक लगाने से इनकार, विधानसभा अध्यक्ष से मांगा जवाब 

पुलिस झगड़े के मामले की जांच कर रही:  
पुलिस उपाधीक्षक दीपक गर्ग ने बताया कि पुलिस झगड़े के मामले की जांच कर रही है. फिलहाल दोनों पक्षों ने रिपोर्ट नही दी है. रिपोर्ट देने के बाद ही झगड़े के कारण का खुलासा हो पायेगा. वहीं अस्पताल परिसर में भी दोनों पक्ष आमने सामने हो गए थे. जिन्हें पुलिस ने तीतर बितर कर दिया. वहीं पूरे घटनाक्रम में दोनों पक्षों के आधा दर्जन लोग गम्भीर घायल हुए है. जिन्हें एमबीएस चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया है. गर्ग के मुताबिक लड़की से सम्बंधित कोई मामला बताया जा रहा है. फिर भी पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है. 

करौली: ट्रैक्टर-ट्रॉली की टक्कर से बाइक सवार मां-बेटे की मौत, ग्रामीणों ने पुलिस को जमकर खरी-खोटी सुनाई

करौली: ट्रैक्टर-ट्रॉली की टक्कर से बाइक सवार मां-बेटे की मौत, ग्रामीणों ने पुलिस को जमकर खरी-खोटी सुनाई

करौली: सपोटरा कुड़गांव मार्ग पर बलुआपुरा गांव के समीप अनियंत्रित ट्रैक्टर टोली ने एक बाइक को टक्कर मार दी. जिससे बाइक सवार मां-बेटे की मौके पर ही मौत हो गई. जबकि दो बालकों को गंभीर हालत में उपचार के लिए भर्ती कराया गया. जिससे आक्रोशित ग्रामीणों ने शव सड़क पर रखकर प्रदर्शन करते हुए सपोटरा-कुड़गांव सड़क मार्ग जाम कर दिया.

बसपा का कांग्रेस में विलय पर हाईकोर्ट का रोक लगाने से इनकार, विधानसभा अध्यक्ष से मांगा जवाब 

टैक्टर-ट्रॉली के चालक ने लापरवाही से बाइक को टक्कर मार दी: 
घटना की सूचना मिलने पर तहसीलदार विष्णु कुमार भारद्वाज व पुलिस निरीक्षक हरजीलाल यादव पुलिस जाप्ते के साथ मौके पर पहुंचे तथा खबर लिखे जाने तक ग्रामीणों से समझाइश की जा रही थी. जानकारी के अनुसार दोपहर ढ़ाई बजे ग्राम पंचायत हरिया का मंदिर के गांव कानापुरा निवासी हरकेश मीना व उसकी मां संतो देवी अपने दो बच्चों के साथ सपोटरा से अपने गांव बाइक से जा रहे थे. इस दौरान कुड़गांव की ओर से तेज गति से आ रही टैक्टर-ट्रॉली के चालक ने लापरवाही से बाइक को टक्कर मार दी. जिससे दोनों मां-बेटे की मौके पर ही मौत हो गई.

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी 

ग्रामीणों ने पुलिस को जमकर खरी-खोटी सुनाई:
आक्रोशित ग्रामीणों ने मुख्य सड़क पर जाम लगा दिया. साथ ही शव उठाने से इंकार कर दिया. ग्रामीणों ने पुलिस को जमकर खरी-खोटी सुनाई और अवैध बजरी लगे ट्रैक्टर ट्रॉली ओके अनियंत्रित दौड़ने को लेकर ग्रामीण भड़क उठे. ग्रामीणों का कहना था कि बजरी के फेर में पहले भी कई लोगों की जान जा चुकी है लेकिन पुलिस अवैध बजरी के धंधे पर अंकुश नहीं लगा पा रही. इस कारण अवैध बजरी लदे वाहन लोगों की जान जाने का कारण बने हुए हैं.

मैं आज अत्यन्त प्रसन्न हूं, हम राम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध थे - राज्यपाल कलराज मिश्र

मैं आज अत्यन्त प्रसन्न हूं, हम राम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध थे - राज्यपाल कलराज मिश्र

जयपुर: राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा है कि मैं आज अत्यन्त प्रसन्न हूं. हम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध थे. आज हमारी प्रतिबद्वता पूर्ण हो रही है. मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम का भव्य मंदिर बने, ऐसी हमने कल्पना की थी. आज हमारी कल्पना साकार रूप ले रही है. हम सदैव यह चाहते थे कि मंदिर के निर्माण से भारत की दुनिया में प्रतिष्ठा ओर बढ़े. यह मंदिर सांस्कृतिक एकता, राष्ट्रीय एकता और वसुधैव कुटुम्बकम के प्रतीक के रूप में स्थापित होगा.

बसपा का कांग्रेस में विलय पर हाईकोर्ट का रोक लगाने से इनकार, विधानसभा अध्यक्ष से मांगा जवाब 

आज शाम परिजनों के साथ सुंदरकाण्ड का पाठ करेंगे: 
उन्होंने कहा कि न्यायालय के फैसले, आम सहमति और जनभावना के अनुरूप यह कार्य हो रहा है. मैं राम मंदिर आन्दोलन से जुडे़ करोड़ों संतो, सभी नागरिकों का अभिनन्दन करता हूं तथा प्रधानमंत्री जी को बधाई व धन्यवाद देता हूं. राज्यपाल कलराज मिश्र आज शाम राजभवन में अपने परिजनों के साथ सुंदरकाण्ड का पाठ करेंगे. राज्यपाल मिश्र राजभवन में शाम को 101 दीप प्रज्जवलित कर मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम से देश व प्रदेश की खुशहाली की कामना करेंगे.  

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी 

बसपा का कांग्रेस में विलय पर हाईकोर्ट का रोक लगाने से इनकार, विधानसभा अध्यक्ष से मांगा जवाब

बसपा का कांग्रेस में विलय पर हाईकोर्ट का रोक लगाने से इनकार, विधानसभा अध्यक्ष से मांगा जवाब

जयपुर: बसपा के 6 विधायकों का कांग्रेस में विलय को लेकर राजस्थान हाईकोर्ट ने फिलहाल रोक लगाने से इंकार करते हुए विधानसभा अध्यक्ष को नोटिस जारी किया है. भाजपा विधायक मदन दिलावर और बसपा ने अपील दायर कर विधायकों के कांग्रेस में विलय पर एक्स पार्टी रोक लगाने की मांग की थी. जिसे मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति और जस्टिस प्रकाश गुप्ता की खण्डपीठ ने इंकार करते हुए ये आदेश दिये है. साथ ही मामले में विधानसभा अध्यक्ष को नोटिस जारी करते हुए गुरूवार सुबह 10.30 बजे तक जवाब पेश करने के आदेश दिये है. 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी 

राजस्थान हाईकोर्ट में आज सुनवाई हुई: 
बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय के मामले में बसपा और मदन दिलावर की ओर से दायर अपील पर राजस्थान हाईकोर्ट में आज सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान बसपा की ओर से राष्ट्रीय महासचिव सतीश मिश्रा ने विलय को असंवैधानिक बताते हुए एक्स पार्टी स्टे देने की मांग की. बसपा के साथ साथ भाजपा विधायक मदन दिलावर की ओर से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने कहा कि बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए 6 विधायक गहलोत कैम्प में बाड़ेबंदी में बंद हैं. ऐसे में उन्हें नोटिस तामील नहीं हो पा रहे हैं. ऐसे में मामले में सुनवाई नहीं हो सकती है. इस पर मुख्य न्यायाधीश इंद्रजीत माहन्ती की खण्डपीठ ने विधानसभा स्पीकर को नोटिस जारी करते हुए गुरुवार को सुबह 10.30 बजे तक जवाब पेश करने के आदेश दिये है. गुरूवार को सुबह फिर से हाईकोर्ट मामले पर सुनवाई करेगी.

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास  

11 अगस्त तक उसका जवाब देने को कहा था:
गौरतलब है कि इस मामले में बसपा और दिलावर दोनों ने एकलपीठ के फैसले को चुनौती दे रखी है. पहले एकलपीठ ने इस मामले में सुनवाई के बाद 30 जुलाई को नोटिस जारी किए थे. लेकिन विलय के फैसले पर स्टे देने से इनकार कर दिया था. गौरतलब है कि इस मामले में बसपा और दिलावर दोनों ने एकलपीठ के फैसले को चुनौती दे रखी है. पहले एकलपीठ ने इस मामले में सुनवाई के बाद 30 जुलाई को नोटिस जारी किए थे. एकलपीठ ने विधानसभा अध्यक्ष, विधानसभा के सचिव और बसपा छोड़ने वाले छह विधायकों को नोटिस जारी कर 11 अगस्त तक उसका जवाब देने को कहा था. लेकिन कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को अंतरिम राहत देने और बसपा के छह विधायकों के कांग्रेस विधायक के तौर पर सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने से रोकने की दलील को स्वीकार नहीं किया.

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी

अयोध्या: अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन पूरा हो गया है और पीएम मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रख दी है. उसके बाद प्रधानमंत्री ने राम मंदिर के शिलापट जारी किया, इसके साथ ही डाकटिकट भी जारी किया. पीएम मोदी को यहां भगवान राम की मूर्ति भेंट की गई. उन्होंने कहा कि मेरा सौभाग्य है मुझे ट्रस्ट ने ऐतिहासिक पल के लिए आमंत्रित किया. 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

आज पूरा भारत राममय हो गया: 
प्रधानमंत्री ने कहा कि करोड़ों लोगों को इस बात का विश्वास ही नहीं हो रहा होगा कि वो अपने जीते-जी इस कार्य को शुरु होते हुए देख रहे हैं. राम जन्मभूमि आज मुक्त हुई है और आज पूरा भारत राममय हो गया है. रामलला बरसों तक टेंट में रहे थे, लेकिन अब भव्य मंदिर बनेगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि गुलामी के कालखंड में आजादी के लिए आंदोलन चला है, 15 अगस्त का दिन उस आंदोलन का और शहीदों की भावनाओं का प्रतीक है. ठीक उसी तरह राम मंदिर के लिए कई-कई सदियों तक पीढ़ियों ने प्रयास किया है, आज का ये दिन उसी तप-संकल्प का प्रतीक है. राम मंदिर के चले आंदोलन में अर्पण-तर्पण-संघर्ष-संकल्प था. 

मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा:
उन्होंने कहा कि राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा. पूरी दुनिया से लोग यहां आएंगे, यहां के लोगों के लिए अवसर बनेगा. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के चलते भूमि पूजन कार्यक्रम अनेक मर्यादाओं के बीच चल रहा है. उन्होंने कहा कि इस मंदिर के साथ इतिहास खुद को दोहरा रहा है, जिस तरह गिलहरी से लेकर वानर, केवट से लेकर वनवासी बंधुओं को राम की सेवा करने का सौभाग्य मिला.

राम मंदिर नर से नारायण को जोड़ने का प्रतीक: 
प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया के लोग इस भव्य राम मंदिर के बनने के बाद यहां प्रभु राम और माता जानकी के दर्शन के लिए आएंगे. ये राम मंदिर वर्तमान को अतीत से जोड़ने का प्रतीक होने के साथ साथ नर से नारायण को जोड़ने का प्रतीक है. आज पूरा भारत राममय, हर मन रोमांचित और हर घर दीपमय है. उन्होंने कहा कि श्रीराम का मंदिर हमारी संस्कृति का आधुनिक प्रतीक बनेगा. हमारी शाश्वत आस्था का प्रतीक बनेगा, राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा और ये मंदिर करोड़ों-करोड़ों लोगों की सामूहिक शक्ति का भी प्रतीक बनेगा.

बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय का मामला, हाई कोर्ट विधानसभा अध्यक्ष को नोटिस जारी कर कल सुबह 10.30 बजे तक मांगा जवाब 

भारत की ये शक्ति पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का विषय:
प्रधानमंत्री ने कहा कि लोगों के सहयोग से राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हुआ है, जैसे पत्थर पर श्रीराम लिखकर रामसेतु बना, वैसे ही घर-घर से आई शिलाएं श्रद्धा का स्त्रोत बन गई हैं. ये न भूतो-न भविष्यति है. उन्होंने कहा कि भारत की ये शक्ति पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का विषय है. राम हर जगह हैं, भारत के दर्शन-आस्था-आदर्श-दिव्यता में राम ही हैं. तुलसी के राम सगुण राम हैं, नानक-तुलसी के राम निगुण राम हैं. भगवान बुद्ध-जैन धर्म भी राम से जुड़े हैं. तमिल में कंभ रामायण है, तेलुगु, कन्नड़, कश्मीर समेत हर अलग-अलग हिस्से में राम को समझने के अलग-अलग रुप हैं. उन्होंने कहा कि राम सब जगह हैं, राम सभी में हैं. विश्व की सबसे अधिक मुस्लिम जनसंख्या इंडोनेशिया में है, वहां पर भी रामायण का पाठ होता है. दुनिया के न जाने कितने छोर हैं जहां की आस्था में और न जाने कितने रूपों में राम को लोग आराध्य मानते हैं. ऐसे सभी देशों में राम मंदिर के निर्माण के शुरू होने से उत्साह है. अयोध्या में बनने वाला राम मंदिर सिर्फ हमारे लिए नहीं , पूरी मानवता को प्रेरणा देता रहेगा. क्योंकि राम तो सबके हैं, राम तो सबमें हैं.


 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

अयोध्या: अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन पूरा हो गया है और पीएम मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रख दी है. भूमि पूजन की सभी प्रक्रिया करने के बाद प्रधानमंत्री ने शुभ मुहूर्त के वक्त शिला रखी. प्रधानमंत्री ने शिला रखकर वहां भूमि पर प्रणाम किया. अयोध्या इस ऐतिहासिक घटना की साक्षी बनी और वहां मौजूद लोग जय श्रीराम का उद्घोष कर रहे हैं. पीएम मोदी ने ठीक 12.44.08 बजे शिला रखी. पूजा के दौरान 9 शिलाओं का अनुष्ठान किया गया, इसके अलावा भगवान राम की कुलदेवी काली माता की भी पूजी की गई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर भूमि पूजन के अनुष्ठान में हिस्सा लिया और पूजा की सभी विधियां पूरी की. RSS प्रमुख मोहन भागवत, यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी इस दौरान मौजूद रहे. पंडितों को इस भूमि पूजन के बाद पीएम मोदी की तरफ से दक्षिणा दी गई है. 

राममय हुई अयोध्या:
राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले अयोध्या राममय हो गई है. हर तरफ राम नाम का संकीर्तन हो रहा है. जय श्रीराम के नारे की गूंज सुनाई दे रही है. हल्की बारिश भी हो रही है. हालांकि, कार्यक्रम स्थल पर वाटरप्रूफ टेंट लगाए गए हैं.

भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे:
भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे, पांच मंडप वाले और 161 फुट ऊंचे इस मंदिर को दुनिया के बेहतरीन मंदिरों में से गिना जाएगा. इसके खंभों में किसी तरह के लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी के फावड़े और कन्नी का इस्तेमाल करेंगे.

चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा:
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अयोध्या की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति और वाहन की जांच की जा रही है. कई इलाकों में रूट डायवर्ट किए गए हैं.


 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: अयोध्या में विधिवत रूप से जारी है पूजा का कार्यक्रम, पंडित मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे

Ram Mandir Bhoomi Pujan: अयोध्या में विधिवत रूप से जारी है पूजा का कार्यक्रम, पंडित मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे

अयोध्या: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस समय अयोध्या में राम जन्मभूमि पूजन कर रहे हैं और तमाम मंत्रोच्चार के बीच राम जन्मभूमि का सालों का इंतजार खत्म हो गया है. पंडित और मुख्य यजमान इस समय मंदिर निर्माण से पहले समस्त भगवान के आह्वान के मंत्र पढ़ रहे हैं. RSS प्रमुख मोहन भागवत, यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद हैं.

मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे: 
राम जन्मभूमि पूजन को संपन्न कराने वाले पंडित मंत्रोच्चार के बीच पीएम मोदी से धार्मिक क्रियाएं करा रहे हैं. भूमि पूजन का लाइव प्रसारण भी किया जा रहा है और बड़े एलईडी स्क्रीन के जरिए समस्त उपस्थितगण भी इसको देख पा रहे हैं.

भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे:
भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे, पांच मंडप वाले और 161 फुट ऊंचे इस मंदिर को दुनिया के बेहतरीन मंदिरों में से गिना जाएगा. इसके खंभों में किसी तरह के लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी के फावड़े और कन्नी का इस्तेमाल करेंगे.

चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा:
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अयोध्या की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति और वाहन की जांच की जा रही है. कई इलाकों में रूट डायवर्ट किए गए हैं.

Open Covid-19