बाबरी मस्जिद विध्वंस की 26वीं बरसी पर अयोध्या हाई अलर्ट पर

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/06 06:03

उत्तरप्रदेश। अयोध्या बाबरी मस्जिद विध्वंस की 26वीं बरसी पर अयोध्या पुलिस प्रशासन हाई अलर्ट पर है। टेढ़ी बाजार चौराहे से शहर की तरफ चार पहिया वाहनों को प्रतिबंधित कर दिया गया है। वहीं चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल तैनात है। अयोध्या के कारसेवक पुरम में हिंदू संगठन शौर्य दिवस मना रहे हैं तो वहीं मुस्लिम कौम ने गाँधी पार्क में काली पट्टी बांध के एक सभा कर के गम का इज़हार किया और बड़ी बुआ मस्जिद में यौमे गम को लेकर मस्जिद की याद में दुआ मांगी की फिर से मस्जिद बन जाये।

अयोध्या के एसएसपी जोगिंदर सिंह ने कहा की सुरक्षा के लिए जिले की फोर्स तो लगा ही रखी है साथ ही हमने अन्य जिलों से भी फोर्स मंगा रखे है। 6 कंपनी pc, 250 rsc, 10 अधिकारी भी है इसके अलावा हमने 4 जोन में और 10 सेक्टर में बांट दिया है। अभी तक कोई भी ऐसी स्थिति सामने नही आई है और न ही अभी तक कुछ गलत सुनाई दिया हैं। लोग सिर्फ परंपरागत रूप से ही कार्यक्रम कर रहे है।अयोध्या में जीवन साधरण जीवन है लोग अपने दैनिक कार्य करते है। हमलोग सिर्फ लोगो की सुरक्षा के बारे में ही सोचते है।

बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी ने बताया कि आज 6 दिसंबर है कही शौर्य दिवस, कही काला दिवस, कही धरना, कही प्रदर्शन ये सब तो होता रहता है। आज हमारे यहाँ 6 दिसंबर को जो मस्जिद तोड़ी गयी उसके लिए मुकदमा सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है उसके लिए लखनऊ से वकील अकरम अंसारी आये हुए है। इनके माध्यम से मुकदमा कहा तक बढ़ा है इसकी जानकारी ये लोग देंगे। 26 साल पहले जहा था आज भी मुकदमा वही का वही है। राजनीति हमलोग नही करते है न धरना, न जुलूस, न सभा हमलोग सिर्फ प्रेस कॉन्फ्रेंस करते है हमलोग मस्जिद धर्म की राजनीति नही करते है। चुनाव से पहले राम मंदिर बनाने की जो बात ये लोग कर रहे है वो हमसे नही कोर्ट से कहे बिना कोर्ट के आदेश के कोई कुछ भी नही कर सकता है।

बाबरी मस्जिद वकील अकरम अंसारी ने बताया कि आज हमलोग लगभग 8 सालो से यहा आ रहे है। हमलोग यही कोशीश करते है कि आपसी समझौते से सब कुछ हो जाये। राम मंदिर को तो किसी ने देखा नही था लेकिन बाबरी मस्जिद को तो विध्वंस होते हुए पूरी दुनिया ने देखा है हमलोग कोई भी लड़ाई झगड़ा नही चाहते हम लोग अपनी गंगा जमना तहजीब को बनाये रखना चाहते है। हमे पूरी उम्मीद है कि कोर्ट फैसला हमारे हक में ही आएगा।

अभय द्विवेदी शिव सेना प्रदेश उपाध्यक्ष ने बताया कि जब से बाबरी मस्जिद विध्वंस हुआ है तब से ही 6 दिसंबर को विजय दिवस, शौर्य दिवस के रूप में मनाते रहे है। हर साल की तरह ही इस साल भी यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है जिसमे एक शिला का पूजन हुआ जब भी राम मंदिर का निर्माण शुरू होगा तो शिव सैनिक खाली हाथ न जा करके इन ईटों को ले जाएंगे निर्माण में सहयोग करेंगे। हमलोग जिस फैसले का इन्तेजार कर रहे है वो अभी तक हुआ नही है इसीलिए हम लोग आने राष्ट्रीय अध्यक्ष उद्धव से ये मांग कर रहे है कि वो खुद घोषणा कर मन्दिर निर्माण का तो हमलोग खुद ये ईट ले कर चले और मन्दिर का निर्माण करे हमारे साथ सभी शिव सैनिक और हिन्दू जनमानस के लोग रहेंगे।

अयोध्या के निवासियों ने बताया कि प्रशासन ने बैरिकेटिंग लगा कर आवागमन बाधित कर रखा है लोग आ जा नही सकते है। जो अयोध्या पर कलंक था वो हट गिर गया अब तो राम मंदिर बनना चाहिए। अयोध्या वैसी ही है जैसी पहले थी विकास केवल सड़क पर ही दिखती है।
अयोध्या के निवासियों ने कहा कि सन 92 में जो बाबरी मस्जिद विध्वंस हुआ वो घटना बहुत ही भयानक था।ये तो बस अफवाह है कि मुस्लिम लोग बहुत ही डरे हुए थे यहा पर ऐसी कोई बात नही थी सभी लोग बहुत ही प्यार से रहते है अयोध्या सबका है यहा गंगा जमुना तहजीब आज भी जिंदा है।

बसन्त दास अयोध्या के निवासी ने बताया कि जब बाबरी मस्जिद का विध्वंस हुआ था तब मैं 6 माह का था मैंने अपने पूर्वजों से सुना है कि वो लोग इस आंदोलन में थे और इसी वजह से आज हमलोग इसको विजय दिवस के रूप में मनाते है। घटना जब हुई थी तब पूरे विश्व से सनातन धर्म को मानने वाले लोग यह आये और मन्दिर को बनाने के लिए आंदोलन में भाग लिए और राम मंदिर के लिए नींव डाले।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

Big Fight Live | \'सम्राट\' अशोक, \'पायलट\' सचिन\' | 14 DEC, 2018

राफेल डील: रणदीप सुरजेवाला ने की JPC जांच की मांग
राफेल पर मोदी सरकार को बड़ी राहत, राफेल सौदे पर कोई संदेह नहीं : CJI
संसद हमले की 17वीं बरसी पर शहीदों को देश कर रहा है याद
गजेंद्र सिंह शेखावत पहुंचे जयपुर, मीडिया से की खास बातचीत
मध्यप्रदेश में ही रहेंगे \'मामा\'
मणिपुर के जज के हिन्दू राष्ट्र वाले बयान पर सियासी घमासान
मध्यप्रदेश में कांग्रेस जीत गई लेकिन दिग्गज हार गए
loading...
">
loading...