चाइनीज उत्पादों के विरोध ने जगाई दीवाली पर कुंभकारों की उम्मीद

Ravish Tailor Published Date 2016/10/27 20:44

टोंक। दीपों के पर्व दीपावली के त्यौहार से पूर्व कुंभकारों के घरों मे मिट्टी के दीये बनाने और बेचने को लेकर खासी चहल-पहल देखी जा सकती है, चाइनीज प्रॉडक्ट्स के कारण इन कुंभकारों को हाथों से बने मिट्टी के बर्तन बनाने का देहाड़ी मजदूरी से भी कम मेहनताना मिल पाता है। वहीं दूसरी ओर, देश मे इन दिनों हो रहे चाईनीज उत्पादों के विरोध से कुंभकारों को उम्मीद जगी है कि शायद इस बार दीवाली पर बिकने वाले दीपकों की संख्या मे बढ़ोतरी हो। 


सडकों किनारे सजी दीपक की अस्थायी दुकानों को देखकर आप स्वतः ही उम्मीद लगा सकते हैं कि दीपावली का त्यौहार नजदीक है और इस बार मिट्टी के बर्तन बनाकर परिवार चलाने वालें कुंभकारों को उम्मीद है कि शायद इस बार दीपावली का त्यौहार उनके लिये खुशियों की सौगात लेकर आये। इस बार चाइनीज सामानों के विरोध के चलते लोगों का रूझान चाईनीज उत्पादों की रोशनी से हटकर मिट्टी के दीयों की ओर दिखाई दे रहा है।


धार्मिक मान्यताओं को मानने वाले लोग मिट्टी के दीये को ही शुभ मानकर उसकी खरीददारी करते हैं। ऐसे में कुंभकार उम्मीद कर रहे हैं उनकी यह दीवाली खुशियों की सौगात लेकर आने वाली होगी। 


मिट्टी के बर्तनों की कमजोर मांग के बावजूद इलेक्ट्रॉनिक चॉक पर दीपक बना रहे कुंभकारों का इस बार दीवाली अच्छे मुनाफा कमाने की उम्मीद करना गलत भी नहीं है, क्योंकि जिस तरह से देशभर मे चाईनीज सामानों को विरोध देखने को मिल रहा है, उसका थोडा-बहुत असर तो दीवाली पर रोशनी के लिये खरीददारी करने वालों पर भी होगा। दीपावली की खरीददारी करने वाले लोग मिट्टी के दीयों की ओर आकर्षित होंगे। अपनी इस उम्मीद को जिंदा रखने के लिये अब कुंभकार आर्टिफिशियम दीयों भी बना रहे, ताकि लोग उनके दीपक खरीददारी करे।

 

Tonk Rajasthan Diwali Happy Deepawali Earthen lamps Potter

  
First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in