दौसा मातृ शिशु कल्याण केन्द्र में नवजात की मौत पर बबाल, परिजनों ने उठाए सवाल

दौसा मातृ शिशु कल्याण केन्द्र में नवजात की मौत पर बबाल, परिजनों ने उठाए सवाल

दौसा:  प्रदेश के अस्पतालों में बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. कोटा में जेके लोन अस्पताल में बच्चों की मौत मामले के बाद अब दौसा के मातृ एवं शिशु कल्याण केन्द्र में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है. जहां आज एक नवजात की मौत पर बबाल मचा रहा. परिजन चिकित्सालय में लापरवाही का आरोप लगाते रहे. 

एबनोर्मल बर्थ:
दरअसल प्रसूता तुलसी निवासी अशोकनगर को 4 जनवरी को भर्ती करवाया गया था. जिस का डा राजेश गुर्जर की देखरेख में उपचार जारी था. जांच में सब कुछ सामान्य था, लेकिन बर्थ के दौरान शिशु की मौत हो गई. परिजन लापरवाही का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करवा रहे है, लेकिन डा राजेश गुर्जर का कहना है कि उन्हे बेहद दुख है कि वे शिशु को बचा नहीं पाए. डाक्टर के अनुसार ऐसी एबनोर्मल बर्थ परिस्थिति हजार में से एक बार हो जाती है. जब प्रसव करवाने के दौरान प्लेसैंटा मां के बोन्स के बीच दब जाता है, जिससे आक्सीजन आपूर्ती रुक जाती है. 

जांच शुरू:
पूरे घटनाक्रम को देखते कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने तत्काल सीएमएचओ डॉ पूरमणमल वर्मा व पीएमओ को भेज कर मामले की जांच शुरू करवाई है. हांलाकि सीएमएचओ प्रथमदृष्टया लापरवाही जैसी किसी बात से इंकार कर रहे है. इधर पुलिस भी प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच में जुटी है. सूचना के बाद तहसीलदार सहित अधिकारी भी मौके पर पहुंचे.  

और पढ़ें